ताज़ा खबर
 

सौंदर्य के प्रतिमान

पिछले हफ्ते राज्यसभा में बीमा क्षेत्र में विदेशी निवेश की सीमा छब्बीस फीसद से बढ़ा कर उनचास फीसद करने के लिए पेश किए गए विधेयक पर हो रही चर्चा ने उस वक्त दिलचस्प मोड़ ले लिया, जब जनता दल (एकी) के शरद यादव ने सुंदरता को लेकर हमारे समाज में व्याप्त एक खास पूर्वग्रह की […]

Author Published on: March 17, 2015 10:52 AM

पिछले हफ्ते राज्यसभा में बीमा क्षेत्र में विदेशी निवेश की सीमा छब्बीस फीसद से बढ़ा कर उनचास फीसद करने के लिए पेश किए गए विधेयक पर हो रही चर्चा ने उस वक्त दिलचस्प मोड़ ले लिया, जब जनता दल (एकी) के शरद यादव ने सुंदरता को लेकर हमारे समाज में व्याप्त एक खास पूर्वग्रह की आलोचना शुरू की। उनकी बात को केवल इसलिए हल्के ढंग से नहीं लिया जाना चाहिए कि वह मूल विषय से हट कर थी। यादव ने कहा कि हम गोरे रंग को बहुत तवज्जो देते हैं और उसे खूबसूरती का पर्याय मान बैठे हैं; यह धारणा न केवल गलत है बल्कि अधिकतर लोगों के प्रति अन्यायपूर्ण भी है। उन्होंने जहां कृष्ण का उदाहरण दिया, वहीं दक्षिण की स्त्रियों का जिक्र किया। राकांपा के देवीप्रसाद त्रिपाठी ने उनके तर्क के समर्थन में कालिदास का एक श्लोक भी उद्धृत किया। कुछ लोगों को यह चर्चा अटपटी लग सकती है। मगर यह कोई देह-चर्चा नहीं थी।

दरअसल, शरद यादव जिस बात की तरफ ध्यान खींचना चाहते थे वह यह कि गोरे रंग को हमने अनावश्यक महत्त्व दिया हुआ है, सांवला होने को हीन बना दिया है। इस मानसिकता से उबरने की जरूरत है। यों सारी दुनिया में ऐसी धारणा किसी न किसी हद तक प्रचलित है, पर हमारे देश में यह कहीं ज्यादा गहराई से जड़ें जमाए हुए है। अधिकतर भारतीय पुरुषों और स्त्रियों के सांवले होने के बावजूद ऐसा क्यों हुआ, यह अध्ययन का विषय है। समाजवादी चिंतक राममनोहर लोहिया इसे चार सौ वर्षों की गोरी प्रभुता का फल मानते थे; वे यह भी कहते थे कि खूबसूरती के बारे में गलत धारणाओं के कारण बहुत सारी तकलीफ और पीड़ा पैदा होती है, करोड़ों स्त्री-पुरुषों के अवचेतन में अन्याय या पक्षपात भरे व्यवहार के बीज पड़ते हैं।

गांधी का भी खयाल इसी तरह का था। अपनी किताब ‘दक्षिण अफ्रीका के सत्याग्रह का इतिहास’ में वे काले रंग के जुलू लोगों की कद-काठी ही नहीं, नाक-नक्श की भी तारीफ करते हैं और कहते हैं कि उनकी सुंदरता को हम तभी देख पाएंगे जब काले रंग के प्रति हीनता और तिरस्कार के भाव से मुक्त हों। समस्या यह है कि बाजार और विज्ञापन दिन-रात गोरेपन की ललक बढ़ाने में जुटे रहते हैं। संभावित वर-पक्ष की तरफ से दिए गए हर विज्ञापन में गोरी लड़की की चाहत नजर आती है।

गोरेपन को सुंदरता और पसंदगी के अलावा सफलता से भी जोड़ कर देखा जाता है। इसलिए हैरत की बात नहीं कि भारत में गोरा बनाने का दावा करने वाले प्रसाधनों की जबर्दस्त मांग रही है। पिछले साल इनका कारोबार चालीस करोड़ डॉलर तक पहुंच गया, जो कि कोका कोला या चाय की बिक्री के आंकड़े से ज्यादा है। यह कारोबार सालाना अठारह फीसद की दर से बढ़ रहा है।

इससे एक तरफ क्रीम निर्माता कंपनियों की चांदी हो रही है, और दूसरी तरफ करोड़ों स्त्री-पुरुष ऐसी चीज पर पैसा बहा रहे हैं जिससे कुछ हासिल नहीं होना है। इससे उनकी और दूसरों की मिथ्या धारणाओं को ही बल मिलता है। पर गोरेपन के महिमा-बखान के खिलाफ आवाज भी उठ रही है। वर्ष 2009 में कुछ महिलाओं ने ‘डार्क इज ब्यूटीफुल’ नामक समूह की स्थापना की, जिससे चार साल बाद अभिनेत्री नंदिता दास भी जुड़ गर्इं। भारत बहुत विविधताओं का देश है। जहां हमें विभिन्न समुदायों के बीच सौहार्द के अभियान चलाने की जरूरत है, वहीं चमड़ी के रंग को लेकर रूढ़ हो गए प्रतिमान को बदलने की भी।

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करें- https://www.facebook.com/Jansatta

ट्विटर पेज पर फॉलो करने के लिए क्लिक करें- https://twitter.com/Jansatta

 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कठघरे में फैसला
2 मनमानी की कैंची
3 अभिव्यक्ति के जोखिम
ये पढ़ा क्या...
X