ताज़ा खबर
 

बदतर हालात

भारत में कोरोना की दूसरी लहर ने डरावने हालात बना दिए। स्थिति इतनी बदतर है कि बीते हफ्ते दुनिया में सबसे ज्यादा मामले अपने यहां ही आए।

coronaमुंबई के रेलवे स्टेशन पर कोरोना जांच के लिए सैंपल लेती कर्मचारी। फोटो- पीटीआई

भारत में कोरोना की दूसरी लहर ने डरावने हालात बना दिए। स्थिति इतनी बदतर है कि बीते हफ्ते दुनिया में सबसे ज्यादा मामले अपने यहां ही आए। दुनिया में हर दस में से छठा संक्रमित व्यक्ति भारत का है। आंकड़े देखें तो हफ्ते भर में देश में करीब नौ लाख मरीज बढ़े। अचानक से साठ फीसद की बढ़ोतरी गंभीर खतरे का इशारा करती है। यह तब है जब देश में टीकाकरण का अभियान जोरशोर के साथ चलने का दावा किया जा रहा है।

पिछले साल जब महामारी ने दुनिया के ज्यादातर देशों को चपेट में लेना शुरू किया था तो अमेरिका और यूरोपीय देशों के मुकाबले भारत की स्थिति इतनी खराब नहीं थी। बचाव के रास्तों से संक्रमण को काफी हद तक फैलने से रोक लिया था। लेकिन आज जिस तरह के हालात हैं, उसका एक बड़ा कारण भारत में लोगों और सरकारों की लापरवाही है। संक्रमितों की जांच से लेकर तमाम मामलों में सरकारों ने जैसी हीलाहवाली दिखाई, उससे तो स्थिति खतरनाक बननी ही थी।

विशेषज्ञ चेताते रहे हैं कि कोरोना से बचाव के लिए मास्क, दो गज दूरी, बार-बार हाथ धोना और भीड़ से बचना सबसे ज्यादा जरूरी है। भले ही किसी ने टीके की दोनों खुराक ले भी ली हों, तो भी बचाव के ये तरीके अपिरहार्य हैं, तभी संक्रमण का फैलाव रोका जा सकेगा। लेकिन जिस तरह के नजारे भारत में देखने को मिल रहे हैं, वे हैरान करने वाले हैं। सबसे ज्यादा परेशान करने वाली तस्वीरें हरिद्वार और विधानसभा चुनाव वाले पांच राज्यों से सामने आर्इं। इन्हें देख कर कौन नहीं कहेगा कि हम खुद ही संक्रमण को गले लगा रहे हैं। कुंभ में लाखों श्रद्धालु पहुंच रहे हैं।

गंगा स्नान की भीड़ ने संक्रमण प्रसार के लिए सबसे अनुकूल स्थितियां बना दी हैं। इसमें कोई संदेह नहीं कि कुंभ सदियों से चली आ रही आस्था से जुड़ा धार्मिक आयोजन है। लेकिन आज जब करोड़ों लोगों की जान पर बन आई है तो ऐसे में सरकारों का क्या फर्ज होना चाहिए था? अगर अगले कुछ दिनों में कुंभ में हजारों लोगों के संक्रमित होने की खबरें मिलने लगें तो आश्चर्य नहीं होना चाहिए। इसी तरह पश्चिम बंगाल, असम, केरल, तमिलनाडु और पुडुचेरी के चुनावों में संक्रमण से बचाव के नियमों का जो हाल हुआ, वह सबने देखा। जब शासन और प्रशासन खुद ही इतने लापरवाह हो जाएं तो भारत को सबसे ज्यादा संक्रमितों वाला देश बनने से कौन रोक सकता है!

कोरोना के मारे सबसे बदहाल राज्यों से रोंगटे खड़े कर देने वाली तस्वीरें आ रही हैं। अस्पतालों के मुर्दाघरों और श्मशानों में लाशों के ढेर लगे हैं। अस्पतालों में भीड़ उमड़ रही है। एक-एक बिस्तर पर तीन-चार मरीज हैं। यहां तक कि अस्पतालों के दालान भी मरीजों से अटे पड़े हैं। रेमडेसिविर जैसी जरूरी दवा की कालाबाजारी हो रही है।

भले लाखों लोगों की रोजाना जांच हो रही हो, लेकिन जिस कदर लोगों को जांच केंद्रों पर घंटों कतार में बिताने पड़ रहे हैं, वह व्यवस्था की नाकामी को बताने के लिए काफी है। दूसरी लहर से पैदा हालात बता रहे हैं कि हमने पिछले साल की घटनाओं से सबक नहीं लिया। सरकार की ओर से लगातार आते रहे निश्चिंतता भरे बयानों ने लोगों को और लापरवाह बना दिया। होना यह चाहिए था कि बड़े और भीड़ खड़ी करने वाले आयोजनों पर सख्त पाबंदी रहती। संक्रमितों की जांच और इलाज का नेटवर्क मजबूत बनाया जाता। पर इन सब में हम नाकाम रहे। इसीलिए इस मामले में आज दुनिया में पहले नंबर पर हैं।

Next Stories
1 हादसे की आग
2 एक और टीका
3 अंत में सख्ती
यह पढ़ा क्या?
X