ताज़ा खबर
 

संपादकीय: अमन और मानवाधिकार के गीतकार बॉब डिलन

गीत लिखने, मंचों पर गाने और एलबम निकालने के कारण वे लेखक के बजाय संगीतज्ञ और गायक ज्यादा नजर आते हैं।
Author October 14, 2016 09:09 am
मशहूर अमेरिकी गायक और गीतकार बॉब डिलन का 2016 का नोबेल साहित्य पुरस्कार दिया गया है। (फाइल फोटो)

इस बार साहित्य का नोबेल पुरस्कार अमेरिकी लोकगायक और संगीतकार बॉब डिलन को दिया गया है। उपन्यास, कहानी, कविता वगैरह उनके लेखन के हिस्से कभी नहीं रहे। लिहाजा, स्टॉकहोम में जब इस पुरस्कार का एलान हुआ तो लोग अचरज से भरे हुए थे। हैरानी स्वाभाविक है, क्योंकि रवींद्रनाथ ठाकुर, रुडयार्ड किपलिंग, विलियम फॉकनर, जॉन स्टेनबेक, हेमिंग्वे, ग्रैब्रिएल गार्सिया जैसे दुनिया के महान साहित्यकारों की पांत में डिलन नहीं आते। गीत लिखने, मंचों पर गाने और एलबम निकालने के कारण वे लेखक के बजाय संगीतज्ञ और गायक ज्यादा नजर आते हैं। सारी दुनिया में उनकी पहचान लोक गीतों के रॉक स्टार की तरह उभरी। इसलिए भी कहा जा रहा है कि पुरस्कारदात्री संस्था यानी स्वीडिश एकेडमी ने इस बार पुरस्कार देने के अपने मेयार तोड़ दिए हैं। पचहत्तर वर्षीय डिलन मूलरूप से गाथागीतों के रचयिता हैं। वे मंचों पर अपने गीत खुद गाते रहे हैं।

एकेडमी ने किंवदंती बन चुके इस रॉक गायक को पुरस्कार देने की घोषणा करते हुए कहा है कि उन्हें यह सम्मान ‘महान अमेरिकी गीत परंपरा के भीतर नए काव्य-भाव रचने के लिए’ दिया गया है। पिछले चौवन सालों से वे निरंतर खुद को पुनराविष्कृत करते और निरंतर अपनी नई पहचान कायम करते रहे हैं। डिलन पांच दशक से भी ज्यादा समय से लोकप्रिय संगीत और लोकप्रिय संस्कृति में प्रभावी शख्सियत बने रहे हैं। उनके ज्यादातर मशहूर गाने 1960 के दशक के हैं, जिनमें सामाजिक बेचैनी मुखर होती थी। हालांकि उन्होंने हमेशा पत्रकारों की इस बात को नकार दिया कि वे अपनी पीढ़ी के प्रवक्ता थे, पर यह उल्लेखनीय है कि उनके शुरुआती गाने अमेरिकी नागरिक अधिकार आंदोलन और युद्ध-विरोधी आंदोलन के प्रतीक-गान बन गए। उनके एलबम अमेरिकी जीवन में जैसे छा गए। हाई-वे, ब्लांड आॅन ब्लांड, ब्लड आॅन द ट्रैक्स जैसे एलबम लोगों की जुबान पर चढ़ गए थे। जैसा कि पुरस्कार की घोषणा में भी कहा गया है, उन्होंने समकालीन संगीत पर बहुत गहरी छाप छोड़ी है।

देखें वीडियो:

एकेडमी की स्थायी सचिव सारा डेनियस ने अपनी टिप्पणी में कहा है कि बॉब डिलन के गीत यों तो श्रुति-मधुरता के लिए हैं, लेकिन कविता की तरह उनका अर्थगर्भित पाठ भी किया जा सकता है। डिलन बहुआयामी प्रतिभा के धनी है- गीतकार, गायक, संगीतकार होने के साथ-साथ पटकथा-लेखक, चित्रकार और अभिनेता भी। उन्हें नोबेल दिए जाने पर दुनिया के साहित्य जगत में गहरा आश्चर्य व्यक्त किया गया है और उन्हें विवादास्पद व्यक्तित्व कह कर आलोचना भी की गई है। लेकिन कई विद्वानों ने उन्हें महत्त्वपूर्ण और प्रभावशाली भी कहा है।

स्वीडिश एकेडमी ने इस बार के साहित्य के नोबेल पुरस्कार के जरिए यह संदेश देना चाहा है कि वह खुद को देश, काल, परिस्थिति के हिसाब से बदलती रहती है और उन कला भंगिमाओं को सम्मानित करती है जो मानव जाति के लिए हितकर हैं। पिछले साल भी एकेडमी ने बेलारूस की पत्रकार स्वेतलाना एलेक्सिीविच को साहित्य का नोबेल देकर रूढ़ि तोड़ी थी, और तब भी बहुत-से लोगों को उसका निर्णय रास नहीं आया था। स्वेतलाना ने चेरनोबिल परमाणु दुर्घटना के चश्मदीदों के साक्षात्कारों को आधार बना कर उनके दुख-दर्द बयान किए थे। इस बार स्वीडिश एकेडमी ने साहित्य के नोबेल पुरस्कार की पात्रता का दायरा और भी विस्तृत कर दिया।

Read More:ओलिवर हार्ट और बेंग्ट हॉमस्ट्रॉम को मिला अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार

नीचे आप सुन सकते हैं बॉब डिन के कुछ मशहूर गीत-

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.