ताज़ा खबर
 

संपादकीय: टीके का इंतजार

सीरम इंस्टीट्यूट आफ इंडिया ने आक्सफोर्ड विश्वविद्यालय और एस्ट्राजेनेका के साथ टीके के परीक्षण और उत्पादन को लेकर करार किया है। इसलिए भारत की काफी कुछ उम्मीदें इस पर टिकी हैं।

corona vaccine bharat biotech sii zydus cadilaभारत बायोटेक द्वारा विकसित की जा रही कोवैक्सीन के दूसरे चरण के ट्रायल की मंजूरी मिल गई है। (फाइल फोटो)

कुछ दिन पहले जब यह खबर आई थी कि आक्सफोर्ड में चल रहे कोरोना टीके का परीक्षण रोक दिया गया है, तो एकबारगी जरा झटका-सा लगा था। इसके बाद भारत के सीरम इंस्टीट्यूट में भी इसका परीक्षण रुक गया। इससे टीका आने में देरी को लेकर आशंकाएं उत्पन्न होना स्वाभाविक था। लेकिन ये आशंकाएं जल्द ही दूर हो गईं और इस टीके का परीक्षण फिर से शुरू हो गया।

सीरम इंस्टीट्यूट आफ इंडिया ने आक्सफोर्ड विश्वविद्यालय और एस्ट्राजेनेका के साथ टीके के परीक्षण और उत्पादन को लेकर करार किया है। इसलिए भारत की काफी कुछ उम्मीदें इस पर टिकी हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने भरोसा दिलाया है कि अगले साल की पहली तिमाही तक टीका आ जाएगा। भारत में जिस तेजी के साथ टीकों के परीक्षण चल रहे हैं, वे इस बात का संकेत हैं कि भारत जल्द ही इस दिशा में बड़ी कामयाबी हासिल करने के करीब है।

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आइसीएमआर) के सहयोग से भारत बायोटेक इंटरनेशनल ने जो स्वदेशी टीका- कोवैक्सीन विकसित किया है, उसके दूसरे चरण का परीक्षण शुरू हो चुका है। अच्छा संकेत यह है कि अभी तक इसका कोई दुष्प्रभाव सामने नहीं आया है। इसलिए यह टीका भी इस साल के अंत या अगले साल के शुरू में उपलब्ध हो सकता है।

इसमें कोई संदेह नहीं कि कोरोना जैसी महामारी का टीका खोजना कोई आसान काम नहीं है। अमेरिका, चीन जैसे कई बड़े देश इस काम में जुटे हैं। रूस ने टीका बना लेने और परीक्षण के हर स्तर पर खरा उतरने का दावा किया है। अगले साल तक दुनिया के कई देशों के टीके बाजार में आने की संभावना है। टीका तैयार करने की प्रक्रिया की जटिल होती है और इसे कई तरह के परीक्षणों से गुजारना होता है। इसमें वक्त और पैसा दोनों ही काफी खर्च होते हैं। ऐसे में इस काम को सीमा में नहीं बांधा जा सकता, वरना टीके की गुणवत्ता प्रभावित हो सकती है।

टीका चाहे जो भी बनाए, उसकी सफलता का मापदंड तो यही होगा कि वह अधिकतम कोरोना संक्रमितों को ठीक करे। अभी जिन टीकों पर काम चल रहा है, वे कितने सुरक्षित और कारगर होंगे, इसका अभी कोई सटीक अनुमान लगा पाना मुश्किल है। इसकी एक वजह यह भी है कि कोरोनाविषाणु को लेकर जो नई-नई जानकारियां मिल रही हैं और जिस तेजी से यह विषाणु नए-नए रूपों में परिवर्तित हो रहा है और इसके जो नए-नए लक्षण सामने आ रहे हैं, वह भी वैज्ञानिकों के लिए कम बड़ी चुनौती नहीं है।

भारत जैसे एक सौ तीस करोड़ की आबादी वाले देश में सभी को एक साथ टीका उपलब्ध करा पाना संभव नहीं है। जाहिर है, इसके लिए प्राथमिकता तय करनी होगी और उसी के अनुरूप कदम उठाने होंगे। आबादी का बड़ा हिस्सा तो टीका खरीद पाने में सक्षम भी नहीं है। इसलिए सरकार ने तय किया है कि टीका सबसे पहले उन्हें दिया जाएगा, जिन्हें इसकी सबसे ज्यादा जरूरत होगी, भले वे इसे खरीद पाने में सक्षम न भी हों। बड़ी संख्या में स्वास्थयकर्मियों सहित ऐसे लोग हैं जो कोरोना से लोगों को बचाने के लिए दिन-रात काम कर रहे हैं।

इसके अलावा बुजुर्गों और कम प्रतिरोधक क्षमता वाले लोगों को भी बचाना है। अक्सर यह देखने में आता है कि सब कुछ होते हुए भी हम कई बार कुप्रबंधन और लापरवाही के शिकार हो जाते हैं और इससे जनहित के अभियानों को धक्का लगता है। कोरोना टीका आए और देश के हर नागरिक तक पहुंचे, इसके लिए सरकार को अभी से कारगर रणनीति पर काम शुरू कर देना चाहिए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 संपादकीय: वक्त का तकाजा
2 संपादकीय: मुश्किल डगर
3 संपादकीय: गरीबी की मार
अनलॉक 5.0 गाइडलाइन्स
X