संपादकीय

संपादकीय: चीन का संकट

चीन दुनिया के उन कुछ प्रमुख देशों में से है, जिनका वैश्विक व्यापार पर कब्जा है। अमेरिका और यूरोप से लेकर अफ्रीकी देशों तक...

संपादकीय: बेलगाम अपराध

पिछले कुछ समय से बलात्कार के मामलों में देखा जा रहा है कि अपराधी बलात्कार के बाद पीड़िता को जान से मारने का प्रयास...

संपादकीय: बकाए का संकट

कुछ ही बड़ी कंपनियां मैदान में बची हैं। कंपनियों पर एक लाख सैंतालीस हजार लाख करोड़ रुपए का जो बकाया है, उसमें पचहत्तर फीसद...

संपादकीय: फिर फजीहत

मुश्किल यह है कि इस मामले में वैश्विक मंचों पर वह अकेले कुछ कर पाने की स्थिति में तो नहीं ही है और जिन...

संपादकीय: खतरे का तापमान

2020 और उसके बाद आने वाले सालों में उच्च तापमान के कारण मौसम कभी अत्यधिक ठंडा और कभी बेहद गरम रह सकता है। ये...

संपादकीय: घाटी की सुध

घाटी में स्थितियां शुरू से खराब रही हैं। आतंकवाद से निपटना चुनौती रहा है, पर वर्तमान सरकार ने उसे महज हथियार के बल पर...

संपादकीय: कुदरत का कहर

जब भी कोई हादसा होता है तो स्वाभाविक ही सुरक्षा इंतजामों की तरफ अंगुली उठने लगती है। मगर जिन मामलों में खुद सतर्कता बरत...

संपादकीय: संकट और सवाल

बैंक से पैसा निकालने पर जब अचानक से पाबंदी लगा दी जाती है तो ग्राहक मुश्किल में फंस में जाते हैं। सहकारी बैंकों में...

संपादकीय: बेलगाम बदजुबानी

जब मामले ने तूल पकड़ लिया तब रघुराज सिंह ने इसकी बेमानी व्याख्या करके सफाई पेश करने की कोशिश की।

संपादकीय: महंगाई का दुश्चक्र

जब मुद्रास्फीति छह फीसद से ऊपर निकलने लगती है तो केंद्रीय बैंक पर नीतिगत दरें बढ़ाने का दबाव बढ़ जाता है।

संपादकीय: कर्ज माफी का बोझ

दो साल पहले नीति आयोग और रिजर्व बैंक तक ने भी किसानों के कर्ज माफ करने को लेकर अपनी असहमति जताई थी।

संपादकीय: आतंक का दायरा

आतंकियों का सामना करने के लिए सरकार ने हर स्तर पर चौकसी बरती और यही वजह है कि आज आतंकवादियों के हौसले कमजोर हुए...

संपादकीयः सजा और संदेश

सच्चाई यह भी है कि तमाम जागरूकता अभियानों और सुरक्षा संबंधी आवासनों के बावजूद आज भी बलात्कार जैसी घटनाओं में बहुत सारे परिवार मामला...

संपादकीयः हमला और सवाल

यूक्रेनी विमान हादसे के बाद से कनाडा और यूक्रेन दोनों ने ही सबसे पहला शक ईरान पर जताया था। अमेरिका तो साफ तौर पर...

संपादकीय: न्याय की उम्मीद

त्वरित अदालतों के गठन को लेकर सरकार ने सक्रियता सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद दिखाई है।

संपादकीय: पाबंदी की हद

सुप्रीम कोर्ट ने कश्मीर में अनुच्छेद 370 पर लिए गए फैसले के बाद वहां सामान्य स्थिति बहाल करने के नाम पर सरकार की ओर...

संपादकीय: तंग नजर

हालत तो यह है कि कुछ समय पहले एक संगठन ने एक फिल्म के विरोध में बाकायदा हिंसक अभियान चलाया।

संपादकीय: अमन की ओर

अब राष्ट्र अपनी आर्थिक ताकत के बल पर महाशक्ति बनने का प्रयास करते हैं।

ये पढ़ा क्‍या!
X