ताज़ा खबर
 

दुनिया मेरे आगेः झांसेबाजों की दुनिया

किसी को झांसा देने के पहले अपनी आत्मा को झूठ की चादर से ढंक देना होता है। आत्मा कुलबुलाती है, क्योंकि उसे हमेशा सच बोलने की आदत पड़ी है।

Author August 13, 2018 4:56 AM
प्रतीकात्मक चित्र

रमाशंकर श्रीवास्तव

किसी को झांसा देने के पहले अपनी आत्मा को झूठ की चादर से ढंक देना होता है। आत्मा कुलबुलाती है, क्योंकि उसे हमेशा सच बोलने की आदत पड़ी है। वह बार-बार पूछती है कि ऐसा क्यों हो रहा है… छोटे-से स्वार्थ के लिए अमुक को धोखा क्यों दिया जा रहा है। वह बार-बार झांसेबाज को पहचानने की कोशिश करती है। खुद मैंने अपनी आत्मा से कहा है कि यह आदत ठीक नहीं। दूसरों के मामले में खामख्वाह टांग अड़ाने की कोशिश मत करो। आज ज्यादातर लोगों को झांसेबाजी की यह कला आती है!

एक मित्र की पत्नी जिद पर अड़ी थीं कि वे मायके जाएंगी। वहां के जलसे में शामिल होना है। मित्र ने आर्थिक तंगी का तर्क दिया और पत्नी को समझाया कि तुमने कष्ट और अभाव की स्थिति में भी मेरा साथ देने का वादा किया है… आज उस वादे से मुकर रही हो! क्या तुम चाहती हो कि तुम्हारे एक कार्यक्रम के पीछे मैं दूसरों के आगे हाथ पसार दूं! मेरे कर्जदार बनने में क्या तुम्हें खुशी होगी? पत्नी को यह समझ में आ रहा था कि उसे इस तरह से समझा-बुझा कर शायद झांसा दिया गया है। फिर भी वह पति की बात मान गई। पति को मालूम था कि ऐसे धर्म-संकट में गाड़ी फंसे तो झांसे का इस्तेमाल कर लेना चाहिए।

आज का जीवन जटिल है। कई मौके आते हैं जब बिना झूठ बोले या थोड़ा-बहुत नाटक किए काम नहीं बनता। कुछ लोग ऐसे होते हैं, जिनके सामने जीवन की गाड़ी को सुचारू रूप से चलाने के लिए छल-कपट की जरूरत पड़ जाती है। यह छिपा नहीं है कि लोगों को झांसे में डाल कर बड़ी-बड़ी कंपनियां अपना उत्पाद बेच लेती हैं और करोड़ों रुपए मुनाफा कमा लेती हैं। विज्ञापनों से प्रभावित लोग अपना लाखों लुटा देते हैं। बाजार की चहल-पहल में झांसे की भूमिका प्रबल है। खरीदारों से दुकानें भरी रहती हैं। विज्ञापन में रेशमी बालों की लहरदार खूबसूरती या साबुन की मुलायम झाग से आकर्षित होने वाली महिलाएं टीवी के परदे वाली नायिकाओं की तरह बनने की कोशिश में अपने वास्तविक सौंदर्य पर भी भरोसा नहीं रख पाती हैं। पैंसठ वर्षीय दादाजी अपने दांतों की मजबूती का दावा करने वाले झांसे में आकर दंतमंजन के लिए मचल उठते हैं। नई कारों के लिए पुरानी कारें बेच दी जाती हैं। बाद में भागता समय सबको धो-पोंछ कर बराबर कर देता है। समय ही समय को धोखा देने के लिए तैयार बैठा है। हम जो कल थे, आज नहीं हैं। रिश्वत देने पर भी दर्पण झूठ नहीं बोलता।

आज भारी भीड़ की धक्का-मुक्की में झांसेबाजों की बन आई है। झांसेबाजी में दूसरों की तारीफ करके ठगने की विद्या निहित होती है। पुराने संतों की बातें मानें तो सर्वस्व लुटा कर बैठ पड़ जाए। यह उपदेश दिया जाता है कि आप भले ठगे जाएं, दूसरों को नहीं ठगें। लेकिन आज ठगे गए लोगों को कौन पूछता है। आपके कंधे पर पांव रख लोग भागे चले जा रहे हैं। बहुत पढ़ा और सुना कि अपने ठगे जाने में सुख है। उस सुख का मुझे आज तक पता नहीं चला। मेरे एक मित्र दिल्ली आए। चांदनी चौक घूमने गए। पता नहीं था कि हर गली के मोड़ पर झांसेबाजों का पहरा है। मित्र ने खुश होकर सिल्क का कुर्ता खरीदा। बड़े प्रभावित हुए। इतना सस्ता सिल्क का कुर्ता उनके शहर में नहीं मिल सकता। कुर्ता पहन कर दो दिन देह सुशोभित रही। तीसरे दिन कुर्ते को सर्फ के पानी में डाल दिया। पांच मिनट में कुर्ते की बांह और जेब अलग हो गए। दोस्त निराशा में बिगड़े- ‘दिल्ली महानगर झांसेबाजों की नगरी है… जो झांसे में आया वह लुट गया!’

लूटपाट महामारी की तरह पूरे देश में फैल गई है। जिसकी जहां बन जाए। रेल की आरक्षित टिकटों के लिए किसी कोने से अचानक निकल दलाल आपकी सहायता करने को तैयार खड़े मिलते हैं। सेवा शुल्क भारी है। लेकिन रेल के तंत्र में जो हालत हो चुकी है, उसमें वे आपको परेशानी से बचा लेते हैं। लेकिन जब इसी चक्कर में यात्रा के दौरान टीटी टिकट की जांच करता है तो टिकट जाली निकलता है। यानी डेढ़-दो या तीन हजार रुपए और गए। प्रतिष्ठा गिरी और झांसेबाजों के घर खीर-पूड़ी बनी। शहर से लेकर देहात तक खटमल की तरह फैले और पसरे हैं ये झांसेबाज। चेहरे पर दोस्ती की हंसी है और बगल में धोखे का चाकू। झांसेबाजों की चाल में सबसे पहले मारा जाता है सीधा-सरल आदमी। सामने वाला क्या कह रहा है, यह समझने का मौका भी नहीं देता झांसेबाज। आज की दुनिया जितनी तेज गति से भागी जा रही है, उसमे सफल होने के लिए झांसेबाजी की कला खूब काम आती है। कई बार मैंने भी सीखने की कोशिश की, मगर नाकाम रहा। उल्टा जगहंसाई मिली!

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App