scorecardresearch

जीवन के मूल्य

हम एक ऐसे समय में रह रहे हैं जो मुझे महान मीर तकी मीर की कुछ पंक्तियों की याद दिलाता है!

pandemic
तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (एक्सप्रेस प्रतीकातम्क फोटो)

नंदिेतेश निलय

हम एक ऐसे समय में रह रहे हैं जो मुझे महान मीर तकी मीर की कुछ पंक्तियों की याद दिलाता है- ‘क्या मायने रखता है, हे हवा/ अगर अब वसंत आ गया है/ जब मैंने उन दोनों को खो दिया है/ बगीचा और मेरा घोंसला?’ कोविड के समय में हमने वास्तविकता के दो चरम-जीवन और मृत्यु को पाया। इसी बीच जमकर नोकझोंक भी हो रही है। विषाणु और विषाणु के चंगुल में फंसा आदमी अब भी आदमी के हाथों हार मानने को तैयार नहीं है। इन सबके बीच यहां सबसे शक्तिशाली इंसान यानी अच्छे इंसान का उदय हुआ। मानवता के लिए हमारे पास प्रेम का वह अवर्णनीय माप है।

न्यूनतम संसाधनों, लेकिन अधिकतम इच्छा के साथ मनुष्य लड़ने के लिए ताकत और दुर्जेयता के साथ तैयार था और इस तरह यह आशा करने के लिए हर कारण लाया कि मनुष्य को आसानी से पराजित नहीं किया जा सकता है। लेकिन अगली बार फिर क्या होगा अगर किसी विषाणु ने फिर से हमला किया और इतने जटिल बहुरूप के साथ? जवाब आखिर यही सामने अया कि अपने लोगों को तैयार करो, अपना देश तैयार करो, इंसानियत तैयार करो, खुद को तैयार करो। यह सब करने के लिए अपने आप से मिलो।

मैं घूम-घूम कर उन लोगों से हाथ जोड़कर पूछता रहा- ‘वे कैसे हैं? वे अभी भी गरीब क्यों हैं? अस्पताल कहां है? स्कूल कहां है?’ मैंने उनका दर्द और उनकी खुशी दर्ज की। एक अच्छे इंसान के रूप में मैं उनसे किसी एहसान के लिए नहीं, बल्कि उन अंतर्निहित गुणों के लिए मिल रहा था। मैंने गरीबी, अशिक्षा और स्वास्थ्य के इर्द-गिर्द दौड़ते हुए उनके संघर्ष को चुना और आजादी के इतने सालों बाद भी। मेरा गांव तैयार नहीं लग रहा था।

मेरे निर्दोष साथी लड़ने के लिए तैयार थे, लेकिन अभी भी कुछ अधूरी-सी तैयारी थी। यह विचलित करने वाला था। वे अभी भी अशिक्षा, गरीबी और खराब स्वास्थ्य से चिपके हुए थे। अब उनका गांव ही मेरा मंदिर, गुरुद्वारा, मस्जिद और चर्च बन जाएगा। उन्हें खुश और शांतिपूर्ण पाने के अलावा और कोई संतोषजनक कार्य नहीं होगा मेरे पास। स्कूलों और अस्पतालों की स्थापना मेरी सर्वोच्च प्राथमिकता है। मेरा उद्देश्य।

अब मैं यहां के धनी लोगों की ओर मुड़कर पूछना चाहता हूं कि वे अपने देश के लिए क्या कर सकते हैं? क्या वे दूसरों के सहयोग से एक गांव और एक शहर की देखभाल करने की जिम्मेदारी ले सकते हैं? शहर को स्वच्छ और उल्लेखनीय सीवर व्यवस्था के साथ बनाने का सम्मान। सिंधु घाटी सभ्यता के शहरों की खूबसूरत सड़कें और परेशानी मुक्त जीवन जो किफायती स्कूलों और अस्पतालों और अच्छी तरह से जुड़ी परिवहन सेवा को दर्शाता हो। गांव में उन्हें एक अद्भुत अस्पताल, स्कूल, पानी की सुविधा और एक बुनियादी नौकरी के अवसर के साथ एक छोटा कारखाना बनाना होगा।

समय समाप्त हो रहा था। लेकिन मैं अभी भी उम्मीद से ऊपर देख रहा था। परमेश्वर का उपदेश शब्दों के लिए बहुत गहरा था। मैंने पूरे देश को पानी और हरे पेड़ों से जोड़ने की तैयारी शुरू कर दी। मैं जड़ों, धरती मां और इसलिए हमारे देश को सशक्त बनाने के लिए दृढ़ संकल्पित था। निर्णय लिया गया कि सभी वेतनभोगी लोगों का वृक्षारोपण और पानी बचाने में उनके योगदान से मूल्यांकन किया जाएगा। मैं एक व्यवस्था बनाऊंगा जो डेटा बैंक में इन पहलुओं का आकलन और गणना करेगा। स्वच्छता और जल प्रबंधन के क्षेत्र में किए गए योगदान के आधार पर सभी को एक साल बाद पर्यावरण प्रमाण पत्र और प्रशंसा मिलेगी। साथ ही, मैं एक पहचान प्रमाण जारी करने की तैयारी कर रहा था जो यह सुनिश्चित करेगा कि संकट की घड़ी में सभी अस्पताल और स्कूल जरूरतमंदों का स्वागत करेंगे।

विषाणु के अगले हमले से केवल वही परिवार निपट सकते हैं जो अपने बच्चों में ईमानदारी, संवेदनशीलता, जिम्मेदारी, विनम्रता और साहस के मूल्यों को स्थापित करने में सक्षम हैं। मैं यह सुनिश्चित करूंगा कि परिवार में दोतरफा प्रतिक्रिया प्रणाली होनी चाहिए- माता-पिता और बच्चों, दोनों की ओर से। आखिरकार गांव की संस्था के बाद मुझे परिवार की संस्था को मजबूत करना होगा। जो लोग अपने माता-पिता का सम्मान करते हैं, वे देश के सम्मान का अर्थ समझते हैं, क्योंकि सेवा की भावना विषाणु के लिए बेहद हतोत्साहित और परेशान करने वाली थी।

पोलिश दार्शनिक हेनरिक स्कोलिमोव्स्की ने कहा है- ‘विश्व एक अभयारण्य है। और अभयारण्य एक ऐसा स्थान है, जहां कोई भी सुरक्षित और असुरक्षित महसूस कर सकता है।’ लेकिन मैं अपने आप से कुछ प्रश्न पूछना बंद नहीं कर सका। क्या हम सुरक्षित हैं? भगवान ने उत्तर दिया कि बशर्ते मास्क, टीका और संवेदना के साथ हम चलने को तैयार हों। अचानक मेरी आंखें खुल गर्इं। मैं एक इंसान के तौर पर कतार में खड़ा था और देख रहा था उन बच्चों, वृद्धों और स्वास्थ्य कर्मियों को जो टीका लेकर विषाणु का मुकाबला करने के लिए तैयार हो रहे थे। और मैं जीवन मूल्यों का टीका लिए उनको सुरक्षित कर रहा था।

पढें दुनिया मेरे आगे (Duniyamereaage News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.