दुनिया मेरे आगे

दुनिया मेरे आगे: त्योहार का जीवन

आज के ज्यादातर त्योहार वास्तव में मिलावटखोरों की पौ-बारह करने वाले ही सिद्ध होते हैं।

दुनिया मेरे आगे: दीप जले उदारता का

आने वाली दिवाली का उजाला अगर संकुचित मानसिकता के धनपतियों को अगर यह सोचने पर बाध्य कर सके कि हमें जितना वैभव मिला है,...

दुनिया मेरे आगे: रोशनी जिंदगी है

अपने लिए मिट्टी का एक दीया कभी जला कर तो देखा जाए! इसके बाद ही पता चलता है कि अपने रिश्तों, अपनी मिट्टी और...

दुनिया मेरे आगे: अकेले हम अकेले तुम

मीडिया में यदाकदा संवेदनशून्यता की ऐसी भी कहानियां सामने आ जाती हैं, जहां विदेश में बसे पुत्र को घर लौटने पर महीनों अंदर से...

दुनिया मेरे आगे: पराए सपनों का बोझ

आखिर में जब पारिवारिक रिश्तों की भावनाओं और मां-बाप के अज्ञात डर की वजह से वह अपनी ख्वाहिश के इतर विषय चुनने को मजबूर...

दुनिया मेरे आगे: संस्कृति बनाम बच्चे

दरअसल, पश्चिमी देशों में बच्चों के अधिकारों और उनकी निजता को लेकर अतिवादी समझ काम करती दिखती है।

दुनिया मेरे आगे: विकल्प के रास्ते

अखिल भारतीय प्लास्टिक विनिर्माता संघ के अनुसार करोड़ों के प्लास्टिक व्यवसाय में करोड़ों लोग प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से जुड़े हुए हैं।

दुनिया मेरे आगे: विज्ञान की चेतना

औपचारिक स्कूली शिक्षा का मुख्य उद्देश्य एक बेहतर वांछित समाज का निर्माण करना है।

दुनिया मेरे आगे: सिकुड़ती दुनिया

इन सब चुनौतियों से निपटने के लिए सरकार या दूसरों की राह देखने के साथ-साथ अगर हम खुद ही पहल करें तो किसी साधन...

दुनिया मेरे आगे: सोने-जागने का संघर्ष

पार्क से बाहर निकला तो तेज हॉर्न बजाते वाहनों का अनावश्यक ध्वनि-प्रदूषण, कबाड़ी वालों का गला फाड़ चिल्लाना, रेहड़ी-फेरी वालों का वस्तु बिक्री गान...

दुनिया मेरे आगे: राह का कनेर

कोई जरूरी नहीं कि सबको व्यवस्थित जगह ही मिले। होना तो यह चाहिए कि जो जगह मिल गई है, कोई वहीं पर मगन हो...

दुनिया मेरे आगे: झूठ का परदा

मनोविश्लेषकों का कहना कि इस तरह के लोग दूसरों को प्रभावित करने के आशय से अपने और अपने काम, अपनी उपलब्धियों के बारे में...

दुनिया मेरे आगेः स्मृतियों में गांव

गांव मुझे बहुत पसंद हैं। हालांकि वहां रहने की अपनी बड़ी समस्याएं भी हैं, लेकिन इसके बावजूद गांव मुझे आकर्षित करता है। अब तो...

दुनिया मेरे आगेः आस्था और विश्वास

मैं भी शुरू से ही धार्मिक प्रवृत्ति होने के नाते धार्मिक स्थानों पर जाता रहता हूं। मुझे परीक्षा के दौरान बच्चे को छोड़ने के...

दुनिया मेरे आगेः कसौटी पर इंसानियत

काम करने की जगह ऐसी हो, जहां उसकी क्षमताओं में वृद्धि हो; जो उसे एक खुले मैदान जैसी लगे, न कि चारदिवारी की कैद...

दुनिया मेरे आगेः स्मृतियों के कोने में

मुझे उस पुराने भोंपू वाले ग्रामोफोन का ध्यान आया, जिसे पत्नी ने चमका कर बैठक में सजावटी धरोहर के तौर पर रख दिया था।...

दुनिया मेरे आगे: परंपरा का आईना

आम भारतीय जनमानस में बसे दो ग्रंथों ‘रामायण’ और ‘महाभारत’ में भी घटनाओं की तार्किकता पूर्वजन्म के प्रारब्ध और संचित कर्म व वर्तमान के...

दुनिया मेरे आगे: हरी घास पर कुछ देर

महानगर में रहने वालों को यह हरी घास न मिले तो जरा सोचिए उनका क्या हाल होगा! हरी घास का एक टुकड़ा ही सही,...