दुनिया मेरे आगे

creative
डर की परतें

सकारात्मक डर जीवन के लिए लाभकारी होता है और नकारात्मक डर जीवन को हानि पहुंचाने वाला होता है।

Adulteration
अपना गिरेबां

मेरे घर के अहाते के सामने एक सरकारी नल लगा हुआ है। मैं अक्सर देखती हूं कि एक दूध बेचने वाला व्यक्ति उस नल...

dunia mere aage, aesthetic of life
जिंदगी का तराना

इंद्रधनुषी रंगों से भरे पल हमारी जिंदगी की खूबसूरती बढ़ाने के साथ-साथ हममें नई ऊर्जा भरते हैं। हर रंग हमसे कुछ कहना चाहते हैं।...

खंडित सपनों का बोझ

अब विश्राम का नाम ही श्रम हो गया है। इसी विश्राम के साथ तरक्कियां मिल जाती हैं। उपलब्धियों के चांद-सितारे छू लेते हैं और...

प्रसंगवश
प्रसिद्धि की कसौटी

एक प्रसंग के मुताबिक एक बार रामकृष्ण परमहंस ने युवा नरेन यानी विवेकानंद से कहा- ‘नरेन जरा पास के पुकुर (तालाब) को देख कर...

Natural Resources
प्रकृति का पाठ

जीवन के सुख-दुख में हमारे हर भाव के साथ प्रकृति खड़ी रहती है। जब भीषण गर्मी से मैदानी इलाकों में लोग परेशान होते हैं...

women
समाज की धुरी

कोई भी दिन अपने साथ कई रंगों को समेटे होता है। पिछले महीने कुछ ऐसी ही अनुभूति लिए इस साल फिर महिला दिवस आया...

school
प्रतिभा की पहचान

कक्षा की पिछली बेंच पर बैठे किसी आइंस्टीन की तलाश के लिए पारखी की नजरों की आवश्यकता होती है।

Dunia Mere Aage
पहाड़ का संघर्ष

शहरों की ओर पलायन बढ़ा, प्रदूषण बढ़ा और जल संकट उभरा। यह सब हकीकत की शक्ल में हमारे सामने था, फिर भी हमने पलायन...

Human
सुविधा की संवेदनाएं

विद्यार्थियों को पढ़ाना सदैव सुखद अहसास देता है। खासतौर पर कॉलेज में पढ़ाते हुए हम युवाओं की सोच से भी अवगत रहते हैं।

kala
निरंतरता का प्रवाह

अतीत का जीवित अंश उसे वर्तमान से जोड़ता है और जब वर्तमान अतीत हो जाता है तो उस अतीत का जीवित अंश उसे भविष्य...

Evening
हरी-हरी दूब पर

गर्मी ने अपनी आहट दे दी है। कुछ दिनों बाद लोग इससे बचने के नुस्खों पर अमल करना शुरू कर देंगे।

Festival of Colours
राग-रंग

फागुन में और विशेषकर होली में राग और रंग दोनों शिखर पर होते हैं। यही हमें रंगों की सुध दिलाता है। फागुन की...

Dunia mere aage, Holi, Mathura
रंगों से अनुराग

बचपन में रंगों में डूब कर होली मनाने का आनंद ही कुछ और था। अब हम बड़े हो गए हैं, इसलिए वह लड़कपन नहीं...

Boy
गम, गुड़िया और साथी

कितने सारे खिलौने थे। एक खिलौने में एक ढोल बजाता बंदर था, तो दूसरे में पहियों के सहारे चलने वाला घोड़ा। तीसरे को छुक-छुक...

dunia mere aage
इंद्रधनुषी सौंदर्य

रंगों की सुंदरता तो उसके नैसर्गिक रूप में ही है। इनके बीच वैमनस्य पैदा कर प्रतिस्पर्धा कराने का हक हमें नहीं हो सकता, क्योंकि...

Genious
नेपथ्य में छिपी प्रतिभाएं

पिछले दिनों ग्रामीण क्षेत्र की एक सरकारी स्कूल के वार्षिकोत्सव में भागीदारी का मौका मिला।

house hold
भविष्य की फिक्र में

कभी-कभार अपनी कई पुरानी चीजों को निकाल कर देखती हूं तो मन प्रफुल्लित हो उठता है।

ये पढ़ा क्या?
X