ताज़ा खबर
 

दुनिया मेरे आगे

दुनिया मेरे आगेः कितनी परतें

एक मां का महत्त्व इसीलिए ज्यादा समझा जाता है, उसके प्रति अपनी भावनाएं प्रकट की जाती हैं कि अपने बच्चों और परिवार के लिए...

दुनिया मेरे आगे: फूल और कांटे

एक स्वस्थ समाज के निर्माण के लिए हमें प्रेम जैसे विषयों पर गंभीरता से सोचने की जरूरत है। सिर्फ कविता और कहानियों में नहीं,...

दुनिया मेरे आगे: बदलता परिवेश

आज की पीढ़ी के सामने सबसे बड़ा संकट उस प्रकाश स्तंभ की अनुपस्थिति है, जिसमें ऊर्जा देने की क्षमता हो। परिवार, परिवेश, समाज, राजनीतिक...

दुनिया मेरे आगे: गुणवत्ता का पाठ

शिक्षकों के साथ समय-समय पर बैठकें आयोजित करना एक अच्छा विचार है। इन बैठकों के दौरान स्कूली स्तर पर बेहतर प्रदर्शन करने वाले शिक्षकों...

दुनिया मेरे आगे: मौत के सीवर

ये कानून और आदेश न केवल हाथ से मैला साफ करने वालों की मुक्ति की बात करते हैं, बल्कि दूसरे कार्यों में रोजगार मुहैया...

दुनिया मेरे आगेः बचे हुए लोग

जब हम किसी शहर से लौट चुके होते हैं और बाद में कभी उस शहर को याद करते हैं तो सबसे पहले याद आते...

दुनिया मेरे आगेः समझ के पैमाने

हाल ही में एक रिश्तेदार द्वारा भेजे गए शादी के कार्ड पर मेरी नजर पड़ी। उस पर कार्यक्रम की जानकारी के साथ यह लिखा...

दुनिया मेरे आगे: बाजार के पांव

विवाह में दूसरी महत्त्वपूर्ण वस्तु है वस्त्र, जो खूब शौक से ढूंढ़ कर खरीदे जाते हैं, मगर विवाह संपन्न होते ही संभाल कर रख...

दुनिया मेरे आगे: हिंदी का जीवन

Hindi Diwas 2018: हिंदी की विपन्नावस्था को लेकर रोना रोया जा रहा है, लेकिन उसे रोजगार और पेट की भाषा बनाने पर कोई तवज्जो...

दुनिया मेरे आगे: विपदा के बाद

केरल के उजड़े घर फिर बसेंगे। जिनको किसी भी तरह की क्षति पहुंची है, वे उबरेंगे। हां, ऐसा होगा। पर समय तो लगेगा। और...

दुनिया मेरे आगेः धारणाओं का सिरा

जब भी टीवी के पर्दे पर किसी मदरसे का चित्रण आता है तो उसमें यह दिखाया जाता है कि बच्चे सिर पर टोपी पहने...

दुनिया मेरे आगे: बुजुर्गों की जगह

घुटनों में दर्द से परेशान व्यक्ति से डॉक्टर ने उसकी उम्र पूछी थी। व्यक्ति ने अपनी उम्र बताई। डॉक्टर ने कहा, इस उम्र में...

दुनिया मेरे आगेः ये कैसे शोध

आजकल अक्सर अमेरिका, इंग्लैंड या किसी देश में किसी विषय पर हुए शोध के निष्कर्ष सामने आते रहते हैं। मैंने गौर किया है कि...

दुनिया मेरे आगे: भीड़ के चेहरे

यह भीड़ की असामाजिक प्रवृत्ति ही है जिसका इस्तेमाल सच्चाई का पता लगाए बिना समाज को गुमराह करने और शांति भंग करने में किया...

दुनिया मेरे आगे: ना उम्र की सीमा हो…

पिछले बरस जब फ्रांस ने अपने नए राष्ट्रपति इमेनुएल मैक्रॉन को चुना तो वे अलग ही कारण से खबरों की सुर्खियों में छा गए...

दुनिया मेरे आगेः बिखरते दौर में

हमारा सुख, अस्तित्व और पहचान हमारे अपनों से ही है। परिवार, समाज और अपने आसपास के लोगों से मधुर रिश्ते हमें खुशी देते हैं।...

दुनिया मेरे आगे: भरोसे का पाठ

आमतौर पर स्कूली शिक्षकों के बारे में कुछ धारणाएं प्रचलित हैं। उदाहरण के लिए उन्हें ‘गुरु’ का विशेषण देकर इतनी ऊंचाई पर बैठा दिया...

दुनिया मेरे आगेः ठहरा हुआ मौसम

शिमला शहर के मुख्य बस अड्डे से मालरोड की तरफ चढ़ाई वाला एक पैदल रास्ता। इस रास्ते की शुरुआत में खुले आसमान के नीचे...