ताज़ा खबर
 

पहले पिता ने बेचा फिर खरीदार ने, दो साल में 14 ने किया रेप, महिला ने खुद को जला डाला!

पीड़ित महिला का आरोप है कि उसे खरीदने वाले शख्स ने उसे घरेलू नौकरानी बनाकर अपने दोस्तों के पास भेजा था और उसे काम के बदले पैसे भी नहीं मिलते थे। लेकिन यहां उसके साथ कई दिनों तक गैंगरेप होता रहा।

crime, crime news, fireमहिला ने खुद को आग लगा ली। प्रतीकात्मक तस्वीर।

पहले उसे उसके अपने पिता ने बेच दिया फिर उसे उसके खरीदार ने बेच डाला। वो कई महीनों तक मर्दों के जुल्म-ओ-सितम सहती रही और फिर एक दिन वो हिम्मत हार गई। उत्तर प्रदेश के हापुड़ जिले की यह कहानी दंग करने वाली है और इसी समाज में मौजूद कुछ लोगों की सोच पर सवाल उठाने वाली भी। 2 साल पहले जब यह लड़की जब 20 साल की थी तो उसकी चाची और उसके पिता ने उसे महज 10,000 रुपए के लिए बेच दिया। इस लड़की को खरीदने वाले शख्स ने अपने दोस्तों के साथ मिलकर उसका गैंगरेप किया। लड़की ने जब पुलिस से मदद मांगी तो पुलिस ने भी उसकी एक नहीं सुनी। मानसिक रूप से तनाव झेल रही इस युवती ने बीते 28 अप्रैल, 2019 खुद को आग लगा लिया। 80 प्रतिशत झुलसी इस महिला का इलाज अब दिल्ली के एक निजी अस्पताल में चल रहा है और वो जिंदगी की जंग लड़ रही है।

महिला ने खुद को जलाते हुए एक वीडियो शेयर किया है जो काफी वायरल हो रहा है। इस वीडियो में वो कह रही है कि ‘मेरे साथ 5 लोगों ने गैंगरेप किया और मुझे धमकी दी। मैंने पुलिस में शिकायत दर्ज करवाने की कोशिश की लेकिन पुलिस ने इस मामले में कोई एक्शन नहीं लिया और घूस लेकर मामले को दबाने की कोशिश की। पुलिस के द्वारा कोई कार्रवाई नहीं करने की वजह से मैं यह कदम उठाने के लिए मजबूर हो गई हूं।’

जानकारी के मुताबिक 20 साल की उम्र में इस महिला के पति की मौत हो गई थी। जिसके बाद उसके परिजनों ने उसे बेच डाला था। महिला को खरीदने वाले शख्स ने कई लोगों से कर्ज ले रखे थे और जब वो कर्ज चुका पाने में नाकाम हो गया तो उसने इस महिला को अपने दोस्तों के लिए सौंप दिया। इन लोगों ने कई बार उसके साथ बलात्कार किया। ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ में छपी खबर के मुताबिक बीते रविवार (12 मई, 2019) को हापुड़ के एसपी यशवीर सिंह ने बताया कि इस मामले में 14 लोगों के खिलाफ दुष्कर्म का केस दर्ज किया गया है और मामले की गहनता से छानबीन की जा रही है।

इस मामले में दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालिवाल ने भी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को खत लिखकर पीड़ित महिला के लिए न्याय की मांग की है। दिल्ली के अस्पताल में भर्ती पीड़ित महिला से दिल्ली महिला आय़ोग की एक टीम ने मुलाकात भी की है। जो चिट्ठी आयोग की तरफ से यूपी के सीएम को लिखा गया है उसमें कहा गया है कि ‘हापुड़ पुलिस ने इस महिला के साथ नाइंसाफी की और उसकी एफआईआर लिखने से मना कर दिया। पुलिस की असंवेदनशीलता ने महिला को अंदर ही अंदर इतना तोड़ दिया कि उसने खुद की जान लेने की कोशिश की।’

पीड़ित महिला का आरोप है कि उसे खरीदने वाले शख्स ने उसे घरेलू नौकरानी बनाकर अपने दोस्तों के पास भेजा था और उसे काम के बदले पैसे भी नहीं मिलते थे। लेकिन यहां उसके साथ कई दिनों तक गैंगरेप होता रहा। पीड़ित महिला के मुताबिक उसने पहले हापुड़ पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज करवाने की कोशिश की और फिर इसके बाद वो हापुड़ के एसपी के पास अपनी शिकायत लेकर गई। लेकिन किसी ने भी उसकी शिकायत नहीं सुनी। महिला आयोग ने इस मामले में यूपी के सीएम से पीड़ित महिला के लिए मुआवजे की मांग की है और हापुड़ पुलिस की पूरी भूमिका की जांच कराए जाने की मांग भी की है।

इधर मामले में इतना हंगामा मचने के बाद पुलिस की भी नींद खुल गई है। बाबूगढ़ पुलिस स्टेशन के स्टेशन हाउस ऑफिसर राजेश कुमार भारती ने ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ से बातचीत करते हुए कहा कि 14 लोगों के खिलाफ उन्हें शिकायत मिली है और मामले की जांच शुरू कर दी गई है। (और…CRIME NEWS)

Next Stories
1 4 साल की मासूम से कर रहा था रेप, चीखी तो हसिए से पेट फाड़ डाला
2 ATM से पैसे निकाल रही थी युवती, अंदर घुस प्राइवेट पार्ट दिखाने लगा युवक
3 ये नर्स सिस्टर नहीं सीरियल किलर? 15 साल में 300 मरीजों को सुला दी मौत की नींद
यह पढ़ा क्या?
X