ताज़ा खबर
 

जहर वाले टी-पॉट से चाय पिलाकर 21 लोगों को मारने का इल्जाम, महिला सीरियल किलर को मिली यह सजा

कहा जाता है कि इस महिला से नजदीकियां रखने वाले करीब 21 लोगों की मौत आर्सेनिक से बने जहर से हुई। कैसे हुआ यह सब? कौन थी यह महिला? क्या है उसकी पूरी कहानी?

Author Updated: April 9, 2019 6:57 PM
यह महिला अक्सर आर्सेनिक वाले टी-पॉट का इस्तेमाल किया करती थी। प्रतीकात्मक तस्वीर। फोटो सोर्स – Indian Express

इस महिला के करीब जो भी रहा वो मौत की नींद सो गया। जब वो महज 40 साल की थी तो अपने सौतेले बेटे की हत्या का दोष उसपर साबित हुआ। कहा जाता है कि इस महिला से नजदीकियां रखने वाले करीब 21 लोगों की मौत आर्सेनिक से बने जहर से हुई। कैसे हुआ यह सब? कौन थी यह महिला? क्या है उसकी पूरी कहानी? यकीनन इन सारे सवालों के जवाब आपको उत्सुकता से भर देंगे। इस महिला का नाम है मैरी ऐन कॉटन। सन् 1832 में ब्रिटेन के मरटॉन में मैरी का जन्म हुआ। मैरी ऐन कॉटन जब महज 14 साल की थी तो उसके पिता की हत्या हो गई। पिता की हत्या के 2 साल बाद कॉटन ड्रेस मेकर बन गई। विलियम मॉब्रे नाम के एक शख्स से शादी रचाने के लिए मैरी ने 20 साल की उम्र में अपना घर छोड़ दिया। शादी के बाद यह जोड़ा डेवोन चला गया जहां उन्हें पांच बच्चे हुए।

लेकिन इसके बाद अगले पांच सालों में इनके चार बच्चों की मौत हो गई। इसके बाद यह कपल संदरलैंड में स्थाई तौर से शिफ्ट हो गया। इस दौरान मैरी को 3 अन्य बच्चे भी हुए। लेकिन संदरलैंड में इन तीन बच्चों और मैरी के पति विलियम की भी मौत हो गई। इन मौतों के बाद मैरी को इंश्योरेंस के काफी पैसे भी मिले। संदरलैंड में मैरी एक नर्स के तौर पर काम कर रही थी। काम के दौरान उसकी मुलाकात एक शख्स जॉर्ज वार्ड से हुई। मैरी ने पेशे से इंजीनियर जॉर्ड वार्ड से बाद में दूसरी शादी भी रचा ली। लेकिन शादी के 14 महीने बाद ही जॉर्ज की मौत हो गई। इसके बाद मैरी की मुलाकात रॉबिन्सन नाम के एक शख्स से हुई। रॉबिन्सन की पत्नी नहीं थीं और उनके परिवार में छोटे बच्चे थे। रॉबिन्सन ने हाउस कीपर के लिए विज्ञापन निकाला था।

मैरी, रॉबिन्सन के घर काम करने लगी और इसके एक हफ्ते बाद ही उनके 10 महीने के बेटे की मौत हो गई। इसके बाद रॉबिन्सन के दो अन्य बच्चों की भी मौत हो गई। साल 1867 में मैरी के एक बेटे और मैरी की मां की भी मौत हो गई। इतनी मौतों के बाद भी रॉबिन्सन ने मैरी से शादी कर ली और फिर इस जोड़े को 2 बच्चे भी हुए। इनमे से एक बच्चे की मौत उसके पैदा होने के एक साल के अंदर हो गई। शादी के बाद से ही रॉबिन्सन और मैरी के बीच सबकुछ ठीक नहीं था। कहा जाता है कि मैरी, रॉबिन्सन को इंश्योरेंस के पैसे निकालने के लिए कहती थी और इस बात को लेकर दोनों के बीच काफी झगड़ा होता था। नाराज रॉबिन्स, मैरी से अलग रहने लगा।

सन् 1870 में मैरी की बहन ने फेड्रिक कॉटन नाम के एक शख्स से मैरी की मुलाकात करवाई। कॉटन की पत्नी और दो बच्चों की मौत हो चुकी थी। जल्दी ही मैरी की बहन मारग्रेट की पेट में दर्द होने की वजह से मौत हो गई। इसी साल प्रेग्नेंट मैरी ने फेड्रिक कॉटन से शादी रचा ली, हैरानी की बात यह भी है कि उसने अभी तक रॉबिन्सन से तलाक भी नहीं लिया था। शादी के एक हफ्ते बाद ही मैरी ने फेड्रिक के इंश्योरेंस के पैसे निकलवा लिए। मैरी और फेड्रिक इसके बाद ऑकलैंड चले गए। यहां एक साल के अंदर ही फेड्रिक बीमार पड़े और उनकी मौत हो गई।

पति के मौत के कुछ ही दिनों बाद मैरी की जिंदगी में उसका नया प्यार आ गया। मैरी, जोसेफ नटारस नाम के एक शख्स के साथ रहने लगी। लेकिन एक साल बाद ही जोसेफ और मैरी के सौतले बेटों की भी मौत हो गई। इसके बाद मैरी मिस्टर क्विक मैनिंग के यहां बतौर नर्स काम करने लगी। यहां उसे क्विक मैनिंग से प्यार हुआ और वो क्विक मैनिंग के बच्चों की मां भी बनने वाली थी। लेकिन मैरी ने क्विक मैनिंग से शादी करने से इनकार कर दिया। सन् 1872 में मैरी ने अपने बॉस थॉमसन रिले से कहा कि उसे अपने बेटे चार्ल्स की देखभाल करनी है इसलिए वो ज्यादा काम नहीं कर सकती।

लेकिन कुछ ही दिनों बाद चार्ल्स की मौत हो गई। इस मौत से थॉमसन रिले काफी चकित हुए। उन्होंने इस बारे में तत्काल पुलिस को सूचना दी। पुलिस को जांच के दौरान शुरू में ऐसा लगा कि चार्ल्स की मौत एक प्राकृतिक मौत है लेकिन फिर पुलिस ने चार्ल्स की पोस्टमार्टम करवाई। जल्दी ही पोस्टमार्ट्म रिपोर्ट में साफ हो गया कि चार्ल्स के पेट में आर्सेनिक की काफी मात्रा थी। पुलिस ने तुरंत मैरी को गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद मैरी के पूर्व पति और सौतेले बेटों के मौत की भी जांच की गई। चिकित्सकों ने सभी पेट के से आर्सेनिक पाया।

मैरी पर चार्ल्स कॉटन, जोसेफ नटारस, फेड्रिक कॉटन समेत करीब 21 लोगों की हत्या का केस दर्ज किया गया। लेकिन मैरी ने इन सभी हत्याओं से इनकार कर दिया। 8 मार्च सन् 1873 को मैरी को अपने सौतेले बेटे चार्ल्स की हत्या का दोषी पाया गया और उसे मौत की सजा सुनाई गई। 24 मार्च 1873 को दुरहम जेल में मैरी को मौत की सजा दी गई। कहा जाता है कि मैरी अपने शिकार को मौत की नींद सुनाने के लिए आर्सेनिकल मिले जहर वाले वाले टी-पॉट का इस्तेमाल करती थी। इस टी-पॉट से चाय पिलाकर ही उसे कई लोगों की हत्या कर दी थी। मैरी एन कॉटन को ब्रिटेन की पहली महिला सीरियल किलर भी कहा जाता है। (और…CRIME NEWS)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 टीवी चैनल बदलने को लेकर हुई लड़ाई, पति ने गुस्‍से में पत्‍नी को घोंपा चाकू
2 साली संग संबंध बनाना चाहता था जीजा, न्‍यूड तस्‍वीरों से ब्‍लैकमेल करने लगा, गिरफ्तार
3 ‘साथ नहाने, मसाज की करता था मांग’, प्रोड्यूसर को ‘पिशाच’ बता अभिनेत्री ने सुनाई थी यौन शोषण की भयानक दास्तान