ताज़ा खबर
 

पति को अफेयर का पता चला तो पत्नी ने बच्‍चों को जहर देकर लगा ली फांसी

उसने अपने सुसाइड नोट में खुद को अपने और अपने बच्चों की मौत के लिए जिम्मेदार बताया है। उसने अपने सुसाइड नोट में अपनी गलती मानते हुए लिखा कि उसकी इस भूल की वजह से उसके परिवार की बदनामी हुई है।

प्रतीकात्मक तस्वीर

दो बच्चों की मां ने अपने बच्चों को ज़हर देकर मौत की नींद सुला दिया और फिर खुद भी फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। यह कहानी है मैसूर की। महिला ने अपने कलेजे के टुकड़ों को क्यों मारा? और खुद भी क्यों सुसाइड जैसा कदम उठाया यह जानकर आप हैरान रह जाएंगे। इस महिला का नाम आशा है। 30 साल की इस महिला के जुड़वां बच्चे थे। आशा मैसूर के नजदीक बंदीपाल्या में रहती थी। जानकारी के मुताबिक आशा की शादी महेश नाम के एक युवक से हुई थी। महेश दैनिक मजदूरी का काम करता था। बेंगलुरु मिरर के एक रिपोर्ट के मुताबिक आशा का किसी मर्द के साथ अवैध संबंध था। यह बात किसी तरह महेश को पता चल गई। जब आशा को यह जानकारी हुई कि उसके पति को उसके इस संबंध की सच्चाई के बारे में पता चल गया तब उसने यह खौफनाक कदम उठाया।

जानकारी के मुताबिक बीधे बुधवार को आशा का पति महेश जब घर पहुंचा तो इन दोनों के बीच इस बात को लेकर बातचीत हुई जिसके बाद आशा ने अपने बच्चों को जहर दे दिया और खुद फांसी के फंदे से झूल गई। आशा ने अपने जुड़वां बच्चों शौर्य और सुप्रिथ को जहर दे दिया। यह दोनों आठ साल के थे। आशा ने सुसाइड करने के बाद एक सुसाइड नोट भी छोड़ा था और इस सुसाइड नोट में ही उसने अपने इस कदम की वजह के बारे में बताया।

उसने अपने सुसाइड नोट में खुद को अपने और अपने बच्चों की मौत के लिए जिम्मेदार बताया है। उसने अपने सुसाइड नोट में अपनी गलती मानते हुए लिखा कि उसकी इस भूल की वजह से उसके परिवार की बदनामी हुई है। उसने अपनी सुसाइड नोट में इच्छा जताई है कि उसकी और उसके बेटों की चिता एक साथ ही जलाई जाए। इस मामले में अब मैसूल रुरल पुलिस ने मामला दर्ज कर पूरे मामले की छानबीन शुरू कर दी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App