ताज़ा खबर
 

महिला को कार से खींच बच्चों के सामने किया गैंगरेप, पुलिस प्रमुख बोले – उधर अकेले नहीं जाना चाहिए था; भड़का आक्रोश

महिला की कार के शीशे तोड़े गए और फिर उन्हें खींच कर कार से बाहर निकाला गया और उनके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया गया। महिला के बच्चों के सामने ही उनके साथ इस घिनौनी वारदात को अंजाम दिया गया।

pakistan, lahore, gangrapeमहिला के साथ गैंगरेप के बाद पुलिस प्रमुख के बयान को लेकर लोगों में नाराजगी है। सांकेतिक तस्वीर।

पाकिस्तान में लाहौर पुलिस चीफ के एक बयान के बाद जनाक्रोश भड़क गया है। लोग सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन कर रहे हैं। दरअसल पंजाब प्रक्षेत्र की राजधानी लाहौर में एक महिला के साथ उनके बच्चे के सामने गैंगरेप किया गया। इस गंभीर अपराध के बाद लाहौर पुलिस चीफ उमर शेख ने बयान दिया कि ‘महिला को उस वक्त उधर अकेले यात्रा नहीं करना चाहिए था।’ उनके इस बयान के बाद लोग नाराज हो गए हैं और सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन कर रहे हैं। लोग पुलिस चीफ उमर शेख के इस्तीफे की मांग कर रहे हैं।

यहां आपको बता दें कि कुछ दिनों पहले महिला के साथ गैंगरेप की यह घटना उस वक्त हुई जब वो लाहौर सिटी के एक प्रमुख हाईवे से गुजर रही थीं। बताया जा रहा है कि गुरुवार को हाईवे के पास उनकी कार खराब हो गई। इसके बाद वहां पहुंचे करीब 15 लोगों ने अचानक उनकी कार पर हमला कर दिया। इसके बाद उनकी कार के शीशे तोड़े गए और फिर महिला को खींच कर कार से बाहर निकाला गया और उनके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया गया। महिला के बच्चों के सामने ही उनके साथ इस घिनौनी वारदात को अंजाम दिया गया।

सामूहिक बलात्कार के बाद महिला के साथ लूटपाट भी की गई। इस मामले में पुलिस ने शक के आधार पर 15 लोगों को गिरफ्तार किया है। हालांकि पुलिस ने बताया है कि ऐसा लगता है कि पकड़े गए लोगों में से कोई भी शख्स उस घटना में शामिल नहीं था।

शुक्रवार को यहां पुलिस ने कहा कि नए बने इस हाईवे पर अभी पुलिस की तैनाती नहीं की गई है ताकि सुरक्षा का ध्यान रखा जा सके। इस घटना के कुछ ही देर बाद लाहौर पुलिस चीफ का बयान भी आया था। पुलिस चीफ के बयान के बाद लाहौर में कई जगहों पर प्रदर्शन शुरू हो गए हैं।

खादिजा सिद्दीकी नाम के एक एक्टिविस्ट ने यहां ‘Al Jazeera’ से बातचीत में कहा कि ‘इस तरह की घटनाओं में पुलिस को अपने बयान में माफी मांगने से शुरुआत करनी चाहिए क्योंकि वो लोगों को सुरक्षा मुहैया करा पाने में नाकाम रहे हैं। इस तरह के लोगों को ऐसे ओहदे पर नहीं होना चाहिए।’

पुलिस प्रमुख के इस्तीफे की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे लोगों का कहना है कि यह मामला इस बात का उदाहरण है कि पाकिस्तान में लिंगभेद अभी भी खत्म नहीं हुआ है। यौन उत्पीड़न के केस में यहां पुलिस कार्रवाई करने की बजाए महिलाओं पर ही दोष मढ़ देती है।

इधर भड़के आक्रोश को देखते हुए देश के प्रधानमंत्री इमरान खान ने ट्विटर पर अपना बयान जारी किया। उन्होंने लिखा कि ‘मैं इस केस को काफी गंभीरता से देख रहा हूं…मैंने जांचकर्ताओं को मामले में कार्रवाई कर आरोपियों को पकड़ने के लिए कहा है। इस तरह के वहशीपन का सभ्य समाज में कोई स्थान नहीं है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 SSR केस: जिस जेल की कोठरी में रिया चक्रवर्ती, वहां पंखा तक नहीं, चटाई पर बितानी पड़ती है रात; बगल में इंद्राणी है बंद
2 VIDEO: शिवसैनिकों पर रिटायर्ड नेवी अफसर को दौड़ा-दौड़ा कर पीटने का आरोप, उद्धव ठाकरे की विवादित फोटो शेयर करने पर बवाल
3 CCTV: हाथ सैनिटाइज किया और निकाल ली पिस्‍तौल, अलीगढ़ में ऐसे लुटा ज्‍वैलर
ये पढ़ा क्या?
X