ताज़ा खबर
 

60 साल के बुजुर्ग ने मजदूरी मांगी तो दबंगों ने दी खौफनाक सजा, काट डालीं हाथ की तीन और पैर की सभी उंगलियां

जब बुजुर्ग ने मजदूरी मांगी तो ठेकेदार ने न केवल उसे मजदूरी देने से मना कर दिया, बल्कि चामरू को भी पीटा, और उसके दाहिने हाथ की तीन उंगलियां और पैर की पांच उंगलियां काट दी।

Author नागपुर | Published on: October 7, 2019 5:19 PM
प्रतीकात्मक तस्वीर फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

महाराष्ट्र के नागपुर से इंसानियत को शर्मासार करने वाली घटना सामने आई है। यहां एक 60 वर्षीय व्यक्ति की पैर और हाथ की उंगलियों को काट दिया गया। यह बुजुर्ग नागपुर में जुलाई से एक बंधुआ मजदूर के रूप में निर्माण स्थल पर काम कर रहा था। इसका नाम चामरू पहाड़िया बताया जा रहा है। दरअसल इस व्यक्ति ने अपनी मजदूरी मांगी तो ठेकेदार डोलल सतनामी और बिदेसी सुनामी ने न केवल उसे मजदूरी देने से मना कर दिया, बल्कि चामरू को भी पीटा, और उसके दाहिने हाथ की तीन उंगलियां काट दीं और उसके दाहिने पैर के सभी पांचों उंगलियां धारदार हथियार से काट दीं।

उंगलियां काटकर नागपुर रेलवे स्टेशन पर छोड़ दिया:  बता दें कि ओडिशा के नुआपाड़ा जिले के निवासी पहाड़िया को नौकरी और पैसे के वादे के साथ नागपुर लाया गया था। हमले के बाद आरोपी ने उसे नागपुर रेलवे स्टेशन पर छोड़ दिया, जहां रेलवे सुरक्षा बल ने उसे स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया। उसका इलाज तीन महीने तक चला। पहाड़िया के रिश्तेदार उसे सितंबर में अपने गांव वापस ले गए। वह अपराधियों के खिलाफ बोलने से बहुत डरता था, क्योंकि वे एक ही गांव के हैं।

National Hindi News, 7 October 2019 Top Headlines LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

ठेकेदारों की तलाश में जुटी पुलिस: पहाड़िया के बेटे तुलाराम ने कहा कि उन्होंने उन्हें पूरे जीवन के लिए विकलांग बना दिया है। वह अब चल नहीं सकते, कुछ भी पकड़ नहीं सकते हैं। उन्होंने मेरे परिवार के जीवन को बर्बाद कर दिया। इस खबर के मीडिया में आने के बाद डोलल सतनामी और बिदेसी सुनामी गांव छोड़कर फरार हो गए हैं। पुलिस उनकी तलाश कर रही है।

 दिलीप दास ने उचित धनराशि की मांग की:  समाजिक कार्यकर्ता दिलीप दास ने बंधुआ मजदूर पुनर्वास अधिनियम के अनुसार दैनिक मजदूरी करने वाले के लिए पुनर्वास सुनिश्चित करने के लिए अधिकारियों से एक निर्देश मांगा है। उन्होंने आयोग से यह भी आग्रह किया कि वह अधिनियम में निर्धारित नियम के अनुसार पीड़ित को उसकी सहायता के लिए उचित धन राशि दिया जाए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 हस्तमैथुन करते हुए महिलाओं को मारने वाले पर लगा सबसे घातक हत्यारे का टैग, 93 मर्डर की बात कबूली
2 दिल्ली: उधार दिए पैसे मांगे तो पड़ोसी बोला- घर आकर ले जाओ, फिर छात्र को पीट-पीटकर मार डाला
3 B.Ed के छात्र ने फांसी लगा की खुदकुशी, सुसाइड नोट में लिखा- बिना नौकरी जीने का क्या फायदा?