scorecardresearch

20 साल का एक इनामी बदमाश जो बन गया था पूर्वांचल में आतंक का दूसरा नाम

रोशन गुप्ता ‘किट्टू’ यूपी के बड़े माफिया रहे मुन्ना बजरंगी से प्रभावित बताया जाता था। 20 साल के रोशन पर कई संगीन जुर्मों के 34 केस दर्ज थे।

Gangster Roshan Gupta Kittu, Munna Bajrangi, varanasi boy turns into criminal
रोशन गुप्ता 'किट्टू' माफिया रहे मुन्ना बजरंगी से प्रभावित बताया जाता था। (Photo Credit – Express/Social Media)

उत्तर प्रदेश का पूर्वांचल बाहुबलियों का गढ़ रहा है, लेकिन कुछ गुमराह युवक ऐसे भी रहे; जिन्होंने किसी अपराधी के नक्शे कदम पर चलने की कोशिश की। इन्हीं युवाओं में एक नाम रोशन गुप्ता ‘किट्टू’ का भी था। रोशन की उम्र तो 20 साल की थी, लेकिन उस पर दर्ज मुकदमें उसकी उम्र से कहीं ज्यादा थे। हालांकि, रोशन जिस रास्ते पर चल रहा था उसमें उम्र ज्यादा बड़ी नहीं थी।

वाराणसी के बड़ी पियरी में रहने वाले राजकुमार के बेटे रोशन गुप्ता ‘किट्टू’ का नाम अपराध की दुनिया में बड़ा था। कारण यह भी था कि रोशन को किशोरावस्था से ही पूर्वांचल के बाहुबली की चकाचौंध भा रही थी। वह कुख्यात मफिया मुन्ना बजरंगी से प्रभावित था। साल 2011 में 20 साल की उम्र में रोशन गुप्ता ने गोपाल यादव नाम के व्यक्ति की हत्या कर जुर्म की दुनिया में कदम रखा। गोपाल यादव, दसाश्वमेघ के खालिसपुर का बड़ा व्यापारी था, ऐसे में उसकी हत्या के बाद रोशन का खौफ सभी कारोबारियों में था।

रोशन गुप्ता का संपर्क इसी बीच वाराणसी के बड़े बदमाश सनी सिंह से हुआ। सनी सिंह उस वक्त इलाके में रंगदारी, हत्या और अपहरण के कई मामलों में नामजद था। रोशन ने अपने सरदार सनी सिंह के साथ कई घटनाओं को ताबड़तोड़ तरीके से अंजाम दिया। इन दोनों बदमाशों की वारदात के चलते वाराणसी पुलिस भी बैकफुट पर आ गई थी।

रोशन के आपराधिक इतिहास को चार साल ही हुए थे कि उस पर वाराणसी और गाजीपुर के अलग-अलग थानों में हत्या के 7, हत्या की कोशिश में 9 और रंगदारी सहित कई संगीन जुर्मों में 34 मुकदमें दर्ज थे। लेकिन 29 जुलाई 2015 को रोशन को झटका तब लगा, जब सनी सिंह को यूपी STF ने मंडलीय अस्पताल के पास एनकाउंटर में ढेर कर दिया।

सनी के मारे जाने के बाद रोशन गुप्ता ने कुख्यात अपराधी मनीष सिंह का साथ पकड़ा। अब मनीष और रोशन गुप्ता ने कारोबारियों से रंगदारी मांगने का धंधा बढ़ा दिया। साल 2020 में 15 नवंबर को रोशन गुप्ता का नाम उस वक्त पूरे देश ने जाना, जब उसका एक सीसीटीवी फुटेज देशभर के मीडिया चैनल्स में दिखाया जा रहा था। इस फुटेज में वह एक सर्राफा व्यापारी को पिस्टल सटाकर 50 लाख की रंगदारी मांग रहा था।

सीसीटीवी फुटेज के देशभर में वायरल होने के चलते वाराणसी पुलिस की जमकर किरकिरी हुई। पुलिस उसे पकड़ने के लिए लगातार छापेमारी कर रही थी और इनाम पर इनाम जारी कर रही थी। अब रोशन गुप्ता किट्टू 1 लाख का इनामी बदमाश हो चुका था। रंगदारी मांगने के 11वें दिन उसे राजघाट की भदऊ चुंगी के पास पुलिस ने उसे घेर लिया और इस मुठभेड़ में उसे मार गिराया गया। इस घटना में दो पुलिसवाले भी गंभीर रूप से घायल हुए थे।

पढें जुर्म (Crimehindi News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट