ताज़ा खबर
 

यूपी में है ‘गैंग्स ऑफ फैमिली’! पूरा परिवार, नाते-रिश्तेदार सब हैं कुख्यात; जेवर लूटपाट और रेपकांड में भी हैं आरोपी

इस परिवार में घर के बड़े सदस्य परिवार के छोटे सदस्यों को किशोर अवस्था में ही हथियार चलाने की ट्रेनिंग देते हैं। यह भी पता चला है कि परिवार में फिलहाल 5 से अधिक युवाओं को अपराध करने की ट्रेनिंग दी जा रही है।

uttar pradesh, noida stfयूपी पुलिस अब इस गैंग के सभी सदस्यों को पकड़ना चाहती है।

पूरा परिवार गुंडा, रिश्तेदार भी बदमाश और शातिर इतने की आप इन्हें पहचान भी ना पाएं। अब उत्तर प्रदेश पुलिस ने ‘गैंग्स ऑफ फैमिली’ का चेहरा बेनकाब कर दिया है। इस ‘गुंडा परिवार’ के एक-एक सदस्यों को पकड़ना इसलिए भी मुश्किल हो रहा है क्योंकि ये अपराध करने के बाद कुछ दिनों तक अपना ठिकाना बदल देते हैं। नोएडा एसटीएफ और पलवल पुलिस ने इस गैंग के एक सदस्य दिनेश उर्फ दीनू उर्फ कमाल को जब पकड़ा तो कई बातें खुलकर सामने आई हैं। यह भी पता चला है कि दिनेश का चचेरा भाई बब्लू जेवर में हुए लूटपाट, हत्या और रेप के मामले में शामिल था।

गैंग में हैं 20 से अधिक सदस्य: दिनेश ने पुलिसिया पूछताछ में कबूल किया है कि उसके परिवार के सदस्यों तथा रिश्तेदारों को मिलाकर 20 सदस्य अभी गैंग में सक्रिय हैं। इनके गैंग को ‘बावरिया गैंग्स ऑफ फैमिली’ और ‘एक्सल गैंग’ के नाम से जाना जाता है। दिनेश के परिवार के 6 से ज्यादा लोग जरायम की दुनिया में हैं। इसमें से उसके पिता सूरजपाल उर्फ सुरेश का भाई रामपाल अभी अलीगढ़ जेल में बंद है।

रामपाल के बेटे बब्लू को 3 जुलाई को एसटीएफ ने पकड़ा था। दिनेश ने बताया कि बब्लू के भाई, धर्मू उर्फ हेमंत मुन्ना उर्फ अयान, अलय, कालिया और रामू हैं। इसके अलावा इससे अलग गैंग में राजवीर समेत अन्य बदमाश शामिल हैं। इनमें से धर्मू और राजवीर के हरियाणा में पकड़े जाने के बाद बबलू ने गैंग संभाला और लोगों की कमी होने पर उसने दिनेश को भी अपराध में शामिल कर लिया।

पार्ट टाइम दूसरा काम करते हैं बदमाश: यह गैंग लूटपाट, हत्या और रेप जैसी संगीन वारदातों में शामिल है। दिनेश के मुताबिक लोगों की नजरों से बचने के लिए परिवार के सदस्य पार्ट टाइम दूसरा काम भी करते हैं। इसमें बस ड्राइविंग, गांव-गांव में जाकर फेरी लगाना समेत अन्य तरह के काम शामिल हैं। पार्ट टाइम दूसरा काम इसलिए ताकि कोई इनका असली चेहरा ना पहचान सके।

फैमिली में दी जाती है अपराधी बनने की ट्रेनिंग: दिनेश ने खुलासा किया है कि घर के बड़े सदस्य परिवार के छोटे सदस्यों को किशोर अवस्था में ही हथियार चलाने की ट्रेनिंग देते हैं। यह भी पता चला है कि परिवार में फिलहाल 5 से अधिक युवाओं को अपराध करने की ट्रेनिंग दी जा रही है। ट्रेनिंग के दौरान कई आपराधिक घटनाओं में उन्हें साथ रखा जाता है ताकि उन्हें ग्राउंड ट्रेनिंग मिल सके। दिनेश खुद 18 साल की उम्र से ही लूटपाट और मर्डर की घटनाओं को अंजाम दे रहा था।

ऐसे करते थे लूटपाट: पुलिस ने बावरिया गैंग के सदस्य दिनेश को दिल्ली सेक्टर 2 सोहना पलवल रोड से दबोचा है। पता चला है कि गैंग के सदस्य यमुना एक्सप्रेसवे, पेरिफेरल और केएमपी रोड पर नुकीली चीजें फेंक कर लोगों की गाड़ियां पंक्चर कर दिया करते थे। इसके बाद वो सवारियों से लूटपाट किया करते थे।

दिनेश 8 से अधिक लूटपाट की घटनाओं में वांछित था। 3 जुलाई को पुलिस ने इस गैंग के सरगना बब्लू उर्फ गांजा को पकड़ा था वहीं इस गैंग को लीड करता था। जेवर में हाईवे पर कार सवार परिवार को बंधक बनाकर 4 महिलाओं से गैंगरेप और इस दौरान एक शख्स की हत्या में भी बब्लू शामिल था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 यूपी के कौशांबी में थाने से महज सौ मीटर की दूरी पर डबल मर्डर, कानून- व्यवस्था पर उठ रहे सवाल
2 संजीत अपहरण और हत्याकांड: किडनैपर्स ने नहीं लिये पैसे तो पुलिस खा गई होगी? दुखी परिवार वालों का पुलिस पर बड़ा आरोप
3 तांत्रिक का चक्कर! 5 साल में 5 बेटों को मार डाला! आरोपी पिता गिरफ्तार
राशिफल
X