ताज़ा खबर
 

दुश्मनी में बदली दोस्ती: बेटी से प्यार करने वाले दलित को जिंदा जलाया, आरोपी पिता बोला- इज्जत की खातिर किया

आरोपी ने कहा, ‘‘मैं बेहद गुस्से में था और यह सब पल भर में हो गया। कभी-कभी एक इंसान को अपने धर्म और परिवार के सम्मान के लिए ऐसा करना पड़ता है। मैंने भी वही किया। मुझे नहीं पता कि यह सही है या नहीं।’’

Author हरदोई | Updated: September 18, 2019 12:48 PM
हरदोई में रविवार को हुई थी दलित युवक अभिशंक की हत्या। फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस

उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले में रहने वाला दलित युवक अभिशंक पाल पड़ोस में रहने वाली शिवानी गुप्ता से मुहब्बत करता था। हालांकि, उनका यह प्यार शिवानी के पिता को रास नहीं आया और उन्होंने अभिशंक को चारपाई से बांधकर जिंदा जला दिया। आरोपी से जब इस संबंध में बात की गई तो उसने सिर्फ इतना कहा कि परिवार का सम्मान बचाने के लिए यह कदम उठाया।

शिवानी के पिता राधे गुप्ता ने रविवार (15 सितंबर) को अपने 4 साथियों संग मिलकर अभिशंक को चारपाई से बांध दिया और पेट्रोल छिड़ककर जिंदा जला दिया। पुलिस के मुताबिक, यह ऑनर किलिंग का मामला है। इसमें 2 महिलाएं भी शामिल हैं। अब तक राधे व उसके 2 दोस्तों को गिरफ्तार कर लिया गया है। वहीं, दोनों महिलाएं फरार हैं। बता दें कि इस हादसे में बुरी तरह झुलसने वाले अभिशंक को जब अस्पताल ले जा रहे थे, उसी दौरान उसकी मां सदमे के चलते गुजर गई।

National Hindi Khabar, 18 September 2019 LIVE News Updates: PM मोदी की सभा में तैनात सुरक्षा गार्ड ने साथी की बंदूक से खुद को गोली मार किया सुसाइड

अभिशंक के चाचा अजय पाल ने बताया, ‘‘अभिशंक व उसकी मां का इलाज एक ही अस्पताल में हुआ। अगर अभिशंक के चेहरे के कुछ हिस्सों को छोड़ दिया जाए तो उसका पूरा शरीर काला पड़ गया था। हालांकि, जब हम उसे जिला अस्पताल ले गए, वह जीवित था और दर्द से चिल्ला रहा था। वहीं, रामबेटी को अपने बेटे का पता चला तो उन्हें दिल का दौरा पड़ गया। लखनऊ ले जाते वक्त उनकी मौत हो गई। वहीं, कुछ घंटे बाद अभिशंक को भी लखनऊ रेफर किया गया, लेकिन उसने भी रास्ते में ही दम तोड़ दिया।’’

चाचा अजय के मुताबिक, रामबेटी की तबीयत शनिवार से खराब थी। उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। डॉक्टरों ने उन्हें लखनऊ रेफर कर दिया, जिसके बाद अभिशंक को घर से कुछ कैश लाने के लिए भेजा था। हालांकि, राधे व उसके साथियों ने अलग योजना बना रखी थी। रात करीब एक बजे वह जब कैश लेकर लौट रहा था तो राधे ने अपने पड़ोसी सत्यम सिंह व उसके भाई शिखर सिंह के साथ मिलकर अभिशंक को रोक लिया। उन्होंने गाली-गलौज की तो भतीजे ने उन्हें रोकने की कोशिश की। इसके बाद आरोपी पक्ष ने लोहे की रॉड से उस पर हमला कर दिया और हाथ-पांव तोड़ दिए। इसके बाद आरोपियों ने उसे चारपाई पर बांध दिया और पेट्रोल छिड़ककर आग लगा दी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 बेडरूम में पति को बेहोश कर प्रेमी से बना रही थी शारीरीक संबंध, आ गया होश और फिर…
2 ‘बलात्कार’ के आरोप में MNS कार्यकर्ता गिरफ्तार, महिला का आरोप- होटल में की गंदी हरकत, फिर करने लगा ब्लैकमेल
3 दिल्ली: गर्दन, टांग और निजी अंगों को नोंचा, गैंगरेप की शिकार लड़की सड़क पर नग्न अवस्था में भटकती रही