SDM को धमकाते हुए कहा- मेरी ताकत का अहसास नहीं, BJP विधायक को महिला अफसर ने दिया था जवाब…

विधायक चौधरी उदयभान सिंह एसडीएम गरिमा सिंह को धमकाते हुए कहते हैं कि 'क्या आपको नहीं पता मैं एक विधायक हूं? आप मुझसे हेकड़ी से बात करेंगी?

crime, crime newsयह वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हुआ था। फोटो सोर्स- वीडियो स्क्रीनशॉट

आज बात एक ऐसी महिला अफसर की जिनका पंगा हुआ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक से। भाजपा के विधायक अपने समर्थकों के साथ थे और उन्होंने इस महिला अफसर को काफी कुछ कह दिया था। इस पूरी घटना का एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। हम बात कर रहे हैं ताजनगरी आगरा की। साल 2018 में गरिमा सिंह यहां उप जिलाधिकारी (एसडीएम) के तौर पर पोस्टेड थीं।

किरावली में कुछ किसान अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे। इसी दौरान भाजपा विधायक उदयभान सिंह किसानों से बातचीत के लिए उनके प्रदर्शन स्थल पर पहुंचे। वहां एसडीएम भी मौजूद थे। अचानक भाजपा विधायक एसडीएम पर भड़क गये। विधायक ने किरावली तहसील की महिला एसडीएम को भरी सभा में खरीखोटी सुनाई। विधायक ने महिला एसडीएम को नौकर बताते हुए कहा कि क्या आपको नहीं पता मैं एक विधायक हूं।

विधायक के रौब झाड़ने का एक वीडियो भी सोशल मीडिया में काफी वायरल हुआ था। इस वीडियो में सुनाई दे रहा है कि विधायक चौधरी उदयभान सिंह एसडीएम गरिमा सिंह को धमकाते हुए कहते हैं कि ‘क्या आपको नहीं पता मैं एक विधायक हूं? आप मुझसे हेकड़ी से बात करेंगी? मेरी ताकत का अहसास नहीं है? लोकतंत्र की ताकत का अहसास नहीं है?’

इसके बाद उन्होंने आगे कहा, ‘एक नौकर…।’ इस दौरान एसडीएम चुपचाप यह सब सुनती रही थीं। उस समय उनके खिलाफ लोगों ने एसडीएम मुर्दाबाद के नारे भी लगाए थे। हालांकि वीडियो वायरल होने के बाद बीजेपी विधायक की काफी किरकिरी हुई थी।

बाद में महिला एसडीएम ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर विधायक द्वारा उनके साथ अशोभनीय भाषा के प्रयोग किये जाने की बात कही थी। इसके साथ ही उन्होंने कुछ ग्राम प्रधानों द्वारा अवैधानिक कार्यो को कराने के लिए अनावश्यक रूप से दवाब बनाने की बात भी कही थी।

इस मामले पर भाजपा विधायक उदयभान सिंह की सफाई भी उस वक्त सामने आई थी। बीजेपी विधायक ने कहा था कि ‘किसान मेरे कार्यालय पर आये थे उनको अभी ओलावृष्टि का मुआवजा नहीं मिला है, जिसको लेकर में एसडीएम के ऑफिस गया था।

किसानों ने मांग उठाई तो एसडीएम ने किसानों के साथ अपमानजनक भाषा का प्रयोग किया तब मैं बीच में आया और मैंने एसडीएम को डांटा। वो मेरी बेटी जैसी हैं मैंने डांट दिया तो क्या बवाल हो गया। जनता की आवाज उठाना हमारा काम है।’

Next Stories
1 वेश बदल माओवादियों के चंगुल से लोगों को छुड़ाया था, अपराधियों को उनके अंजाम तक पहुंचाने में रहे अव्वल: इंस्पेक्टर विपिन चंद्र पंत की कहानी
2 जब BJP विधायक सुरेंद्र सिंह की मौजूदगी में समर्थकों ने अधिकारी से की थी मारपीट, VIDEO वायरल हुआ तो मांगनी पड़ी थी माफी
3 सुपारी लेकर हत्या करने में हैं माहिर, कहानी सर्बियन माफिया की जो राजनेताओं की हत्या से भी नहीं चूकते
यह पढ़ा क्या?
X