UPSC में चौथा स्थान प्राप्त करने वाली अर्तिका शुक्ला ने IAS बनने के लिए छोड़ दी थी डॉक्टरी की पढ़ाई, सिर्फ एक साल में हासिल किया मुकाम

अर्तिका शुक्ला के दो भाई पहले ही यूपीएससी की परीक्षा पास कर चुके थे और यहीं से उन्हें भी इस परीक्षा का जानकारी मिली थी। वह डॉक्टर बनने के बजाय IAS बनकर देश की सेवा करना चाहती थीं।

Artika Shukla
IAS बनने के लिए अर्तिका शुक्ला ने छोड़ दी थी MBBS (Photo- Artika Shukla/Instagram)

UPSC की परीक्षा को लेकर देश के पढ़े-लिखे युवाओं में एक अलग जुनून देखने को मिलता है। कई कैंडिडेट इस परीक्षा के लिए अपना सेट करियर तक छोड़ देते हैं। हालांकि इसमें कई कैंडिडेट को सफलता हाथ लगती है तो कई असफलता। लेकिन इस परीक्षा के इच्छुक उम्मीदवार कई-कई बार प्रयास करते हैं। आज एक ऐसी IAS अधिकारी की बात करेंगे जिन्होंने UPSC के लिए अपना सेट करियर तक छोड़ दिया था।

हम बात कर रहे हैं IAS अधिकारी अर्तिका शुक्ला की। अर्तिका पेशे ने एमबीबीएस और एमडी जैसी डिग्री हासिल कर रखी है और वह पढ़ाई में बचपन से ही बहुत होशियार थीं। लेकिन उन्होंने डॉक्टरी को अपना पेशा चुना और समय के बाद उनका रुझान बदल गया। इसके बाद अर्तिका ने IAS बनने का फैसला किया और UPSC की तैयारी शुरू कर दी।

अर्तिका के दो भाई पहले ही यूपीएससी की परीक्षा पास कर चुके थे और यहीं से उन्हें भी इस परीक्षा का जानकारी मिली थी। वह डॉक्टर बनने के बजाय IAS बनकर देश की सेवा करना चाहती थीं। सबसे खास बात है कि अर्तिका ने अपने पहले ही प्रयास में कामयाबी हासिल कर ली। अर्तिका का कहना है कि अगर कोई भी कड़ी मेहनत और सही स्ट्रेटेजी से पढ़ाई करता है तो उसके लिए यूपीएससी क्लियर करना बड़ी बात नहीं है।

एक इंटरव्यू में अर्तिका ने कहा था, ‘आप लगातार कड़ी मेहनत करेंगे और सही रणनीति बनाकर प्री और मेंस की तैयारी करेंगे तो आप पहले प्रयास में परीक्षा पास कर सकते हैं। उन्होंने अपनी तैयारी को मजबूत बनाने के लिए एनसीईआरटी की कक्षा 1 से लेकर 12 तक की किताबों को अच्छी तरह पढ़ा। इसके साथ ही आंसर राइटिंग की प्रैक्टिस की और मॉक टेस्ट पेपर सॉल्व किए।’

अर्तिका शुक्ला ने आगे बताया, ‘सबसे पहले आप यूपीएससी का सिलेबस अच्छी तरह देखें और समझ लें। उसके हिसाब से एनसीईआरटी की किताबों का चयन करें और ज्यादा से ज्यादा पढ़ाई करने की कोशिश करें। आप पढ़ाई करने के बाद सिलेबस का रिवीजन भी करते रहें। आंसर राइटिंग की प्रैक्टिस और मॉक टेस्ट पेपर देना भी काफी जरूरी होता है। वे कहती हैं कि अगर आप सही दिशा में लगातार मेहनत करेंगे तो आप इस परीक्षा को जल्दी पास कर सकते हैं।’

अपडेट