ताज़ा खबर
 

‘पुराने पेपर्स सॉल्व करके आसानी से क्लियर हो सकता है UPSC एग्जाम’ कश्मीर की रहने वाली नादिया बनीं IAS, शेयर किया अनुभव

UPSC क्लियर करना हर पढ़े लिखे युवा का सपना होता है। सबसे खास बात है कि इस परीक्षा के लिए हर साल लाखों बच्चे एग्जाम देने के लिए बैठते हैं, लेकिन सफलता बहुत कम कैंडिडेट को ही हासिल हो पाती है। नॉर्थ कश्मीर की रहने वाली नादिया बेग की कहानी भी कुछ ऐसी है। नादिया […]

UPSC क्लियर कर IAS अधिकारी बनीं नादिया बेग (Photo- Twitter)

UPSC क्लियर करना हर पढ़े लिखे युवा का सपना होता है। सबसे खास बात है कि इस परीक्षा के लिए हर साल लाखों बच्चे एग्जाम देने के लिए बैठते हैं, लेकिन सफलता बहुत कम कैंडिडेट को ही हासिल हो पाती है। नॉर्थ कश्मीर की रहने वाली नादिया बेग की कहानी भी कुछ ऐसी है। नादिया कश्मीर के कुपवाड़ा जिले के पुंजवा गांव की रहने वाली हैं और यूपीएससी की तैयारी करने के लिए वह दिल्ली आ गई थीं।

एक इंटरव्यू में बात करते हुए उन्होंने बताया था, ‘UPSC के लिए कैंडिडेट कोचिंग पर ज्यादा ध्यान देते हैं, लेकिन इसके लिए कोचिंग नहीं बल्कि सेल्फ-स्टडी करना बहुत जरूरी है। सेल्फ-स्टडी के साथ जरूरी चीजों पर ध्यान देना भी बहुत जरूरी है। सिलेबस को छोटा करने के लिए नोट्स भी बनाए जा सकते हैं। क्योंकि इन नोट्स से फिर आपको पुरानी किताबें ढूंढने की जरूरत नहीं पड़ती।’

बता दें, नादिया बेग ने UPSC CSE 2019 के एग्जाम में 350 रैंक हासिल की थी। इसके साथ उन्होंने कहा था कि अब उनके गांव की लड़कियां उन्हें देखकर बाहर आएंगी। ये नादिया का दूसरा प्रयास था। इससे पहले वह प्रीलिम्स भी क्लियर नहीं कर पाई थीं। नादिया ने कहा था, ‘UPSC में जाना मेरा बचपन से सपना था। जमिया मिलिया इस्लामिया में पढ़ने के बाद मुझे बहुत मदद मिली थी। मैंने यहां काफी कुछ सीखा था जो आगे यूपीएससी की परीक्षा के दौरान भी मेरे काम आया।’

नादिया बेग से जब उनके तैयारी करने के तरीके के बारे में पूछा गया तो उन्होंने बताया, ‘मैं जब यूपीएससी की तैयारी कर रही थी तो पुराने पेपर्स ज्यादा से ज्यादा सॉल्व करती थी। सेट-सी में कई बार परेशानी होती थी, लेकिन इन पेपर्स ने काफी मदद की। इससे मैं मेंटली पूरी तरह इन पेपर्स के लिए तैयार हो गई थी। तो ऐसे अन्य कैंडिडेट भी कर सकते हैं, नहीं तो कई बात देखा जाता है कि पेपर में बैठने के बाद काफी परेशानी होती है। अगर हम इस एग्जाम के लिए तैयार हो जाएंगे तो आगे कोई परेशानी नहीं होगी।’

Next Stories
1 कोचिंग नहीं सेल्फ स्टडी को बताया मूल-मंत्र, पुरानी गलतियों को सुधारा और आज हैं IAS अधिकारी आलोक कुमार
2 प्रेमिका से मिलने पहुंचे युवक की परिजनों ने की हत्या, शव को पास के खेत में फेंका, पुलिस ने आरोपी को लिया हिरासत में
3 सोहराबुद्दीन एनकाउंटर के बाद 7 साल रहे जेल में, इनामी ड्रग तस्कर पकड़ने वाले ‘सुपर कॉप’ हिमांशु राजावत की कहानी
ये पढ़ा क्या?
X