ताज़ा खबर
 

कोचिंग नहीं सेल्फ स्टडी को बताया मूल-मंत्र, पुरानी गलतियों को सुधारा और आज हैं IAS अधिकारी आलोक कुमार

आलोक ने कोचिंग नहीं बल्कि सेल्फ स्टडी को सफलता का मूल मंत्र बताया था। अपने पहले प्रयास में उन्हें भी असफलता हाथ लगी थी और वह प्रीलिम्स के आगे ही नहीं पहुंच पाए थे। इसके बाद उन्होंने अपनी पढ़ाई की रणनीति में थोड़ा बदला किया और आज वह IAS अधिकारी हैं।

UPSC क्लियर कर IAS अधिकारी बने आलोक कुमार (Photo- Alok Kumar/Twitter)

UPSC क्लियर कर IAS अधिकारी बनने वाले आलोक कुमार की कहानी किसी भी कैंडिडेट को प्रेरणा दे सकती है। उन्होंने UPSC CSE में 41 रैंक हासिल की थी। आलोक ने कोचिंग नहीं बल्कि सेल्फ स्टडी को सफलता का मूल मंत्र बताया था। अपने पहले प्रयास में उन्हें भी असफलता हाथ लगी थी और वह प्रीलिम्स के आगे ही नहीं पहुंच पाए थे। इसके बाद उन्होंने अपनी पढ़ाई की रणनीति में थोड़ा बदला किया और आज वह IAS अधिकारी हैं।

एक इंटरव्यू में आलोक कुमार ने बताया था, ‘हर कैंडिडेट को अपनी स्ट्रेटजी अपने अनुसार बनानी चाहिए पर कुछ बेसिक बातों का ध्यान हर कोई रख सकता है। स्ट्रेटजी जितनी सिंपल होगी, तैयारी भी उतने अच्छे से आगे बढ़ेगी। सबसे पहले UPSC का सिलेबस देखें और उसके अनुसार किताबों का चुनाव करें। बस यह ध्यान रहे कि बहुत सारी किताबें न चुनें क्योंकि यह एंड में पूरी नहीं हो पाती।’

आलोक कहते हैं कि जरूरी नहीं की परीक्षा की तैयारी के लिए दिल्ली आया जाए. अगर आप किसी कारण से दूसरे शहर नहीं जा सकते तो भी मन छोटा न करें. ऑनलाइन, कोचिंग से लेकर टेस्ट सीरीज तक सब उपलब्ध है, वहां से लाभ उठाएं. ये फिजिकल कोचिंग से कम नहीं होते। जब आखिर में रिवीजन करें तो पूरा रिवीजन भले न कर पाएं पर वे प्रश्न जिन्हें आप हल नहीं कर पाए थे इन्हें जरूर रिवाइज कर लें।’

आलोक यूपीएससी में सबसे अहम चीज मानते हैं आंसर राइटिंग को। आलोक का मानना है कि अगर आपने बहुत सारा पढ़ भी लिया है और आगे इसे अच्छे से नहीं लिख सकते तो आपकी सारी मेहनत बेकार चली जाएगी। कई बार यूपीएससी में बहुत छोटी-छोटी चीजों से परिणाम बहुत पीछे रह जाता है। लेकिन असफलता से बिल्कुल भी निराश होने की जरूरत नहीं है। अगर आपने एक बार इसके लिए पूरी तरह तैयारी कर ली है तो आपको कोई पीछे नहीं कर सकता आप जरूर इसमें कामयाब होंगे।’

Next Stories
1 प्रेमिका से मिलने पहुंचे युवक की परिजनों ने की हत्या, शव को पास के खेत में फेंका, पुलिस ने आरोपी को लिया हिरासत में
2 सोहराबुद्दीन एनकाउंटर के बाद 7 साल रहे जेल में, इनामी ड्रग तस्कर पकड़ने वाले ‘सुपर कॉप’ हिमांशु राजावत की कहानी
3 सांड़ ने कर दिया हेरोइन तस्करों का ‘भंडाफोड़’, गाड़ी की स्टेपनी में मिला 4 करोड़ का ड्रग्स
ये पढ़ा क्या?
X