ताज़ा खबर
 

‘UPSC एग्जाम के लिए टाइम मैनेजमेंट है सबसे जरूरी’ IAS अधिकारी ऋषभ ने शेयर किया अनुभव, जानिए कैसे मिली सफलता

ऋषभ सीए ने बहुत कम उम्र में कामयाबी हासिल कर ली थी। उन्होंने 2018 में जनरल स्टडी के पेपर 2 में सबसे ज्यादा नंबर हासिल किए थे। ऋषभ के लिए सफलता इतनी आसान नहीं थी। वह दो प्रयासों में असफल हुए थे, लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी थी।

IAS अधिकारी ऋषभ ने शेयर किया अपना अनुभव (Photo- Youtube Screen Grab)

UPSC एग्जाम को देश की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक माना जाता है। कैंडिडेट्स इस परीक्षा के लिए खूब मेहनत करते हैं। लेकिन कई बार निराशा हाथ लगने से धैर्य खो बैठते हैं। आज एक ऐसे IAS अधिकारी की बात करेंगे जिन्होंने असफलताओं को स्वीकार किया और आज उनकी गिनती देश के सबसे तेज-तर्रार आईएएस अधिकारियों में होती है। इनका नाम है- ऋषभ सीए।

ऋषभ सीए ने बहुत कम उम्र में कामयाबी हासिल कर ली थी। उन्होंने 2018 में जनरल स्टडी के पेपर 2 में सबसे ज्यादा नंबर हासिल किए थे। ऋषभ के लिए सफलता इतनी आसान नहीं थी। वह दो प्रयासों में असफल हुए थे, लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी थी। वह अपनी तैयारी के साथ आगे बढ़ते रहे और तीसरे प्रयास में उन्हें सफलता हाथ लगी थी। साल 2018 में ऋषभ को ऑल इंडिया 23 रैंक प्राप्त हुई थी। इसी के साथ उनका IAS बनने का रास्ता भी साफ हो गया था।

ऋषभ ने एक इंटरव्यू में बताया था कि इस परीक्षा के लिए टाइम मैनेजमेंट का बहुत बड़ा योगदान होता है। ज्यादा से ज्यादा मॉक टेस्ट करने से काफी आसानी होगी क्योंकि जब कोई भी कैंडिडेट परीक्षा के लिए जाता है तो उसे पूरी तरह तैयार होना चाहिए। मॉक टेस्ट करने से टाइम मैनेजमेंट भी हो जाता है या उम्मीदवार को सीखने में आसानी होती है। यूपीएससी की तैयारी से पहले उसके सिलेबस को भी पहले से देख लेना चाहिए।

इसके अलावा ऋषभ ने सलाह दी कि कैंडिडेट को ज्यादा से ज्यादा पुराने पेपर्स सॉल्व भी करने चाहिए और जरूरी चीजों ने नोट्स बनाने की भी प्रैक्टिस करनी चाहिए। नोट्स से आपको पूरी बुक पढ़ने की जरूरत नहीं पड़ेगी और आपका बहुत ज्यादा समय भी बचता है। कोशिश करें कि छोटे-छोटे नोट्स बनाए जिससे इसमें आसानी हो और उन्हें रिवाइज भी करते रहें।

आमतौर पर कई कैंडिडेट ऐसा नहीं करते तो बार-बार बुक खोलकर पढ़ना भी बहुत मुश्किल हो जाता है। यूपीएससी एग्जाम में समय की बहुत कीमत होती है। ये ध्यान में रखना बहुत जरूरी है।

Next Stories
1 एक बार फिर जेल की सलाखों के पीछे पहुंचा रेप का दोषी राम रहीम, 100 घंटे रहा अस्पताल में, नहीं हो पाई हनीप्रीत से मुलाकात
2 हत्या के आरोपी सुशील कुमार को खानी होगी जेल की रोटी, नहीं मिलेगा प्रोटीन शेक और स्पेशल डाइट, कोर्ट ने खारिज की याचिका
3 मेडिकल ऑफिसर की नौकरी छोड़कर गोपाल कृष्ण ने शुरू की थी UPSC की तैयारी, तीन असफलता के बाद भी नहीं मानी हार, आज हैं IAS अधिकारी
ये पढ़ा क्या?
X