ताज़ा खबर
 

अनलॉक-1.0: लॉकडाउन में बाइक चोरी कर परिवार वालों को गांव पहुंचाया, अब पार्सल से मालिक को लौटा दी मोटरसाइकिल

अनलॉक-1.0: सीसीटीवी फुटेज में नजर आया कि शर्ट और पैट पहने एक युवक ने उनकी बाइक पर हाथ साफ किया था। इस शख्स ने चप्पल नहीं पहनी थी।

CRIME, CRIME NEWS,INDIA LOCKDOWNबाइक वापस मिलने के बाद सुरेश कुमार ने कहा कि अब वो इस मामले में आगे की कार्रवाई नहीं चाहते हैं। फोटो सोर्स – Indian Express

अनलॉक-1.0: देश में अनलॉक-1 आज से लागू हो चुका है और कई तरह की पाबंदियों में छूट दे दी गई है। तमिलनाडु में चाय की दुकान चलाने वाले प्रशांत नाम के एक शख्स ने लॉकडाउन में मोटरसाइकिल चुराया था और अब उसने पार्सल के जरिए गाड़ी के मालिक को उनकी बाइक वापस कर दी है। 29 मई को इस शख्स ने मोटरसाइकिल वापस कर दी है। सुलूर पुलिस स्टेशन के अधिकारी ने जानकारी दी है कि 18 मई को चोरी की यह घटना हुई थी। प्रशांत अपनी पत्नी और दो बच्चों को चोरी की बाइक पर बैठाकर थंजावुर के मानारगुड्डी अपने गांव पहुंचा था। दरअसल लॉकडाउन में दुकान बंद हो जाने तथा घर जाने के लिए कोई वाहन ना मिलने की वजह से प्रशांत ने बाइक चोरी कर अपने परिवार वालों को घर पहुंचाया था।

बाइक के मालिक सुरेश कुमार कोयम्बटूर से करीब 20 किलोमीटर दूर कन्नापालायम में वर्कशॉप चलाते हैं। 18 मई को सुरेश ने अपनी बाइक वर्कशॉप के बाहर पार्क थी और वर्कशॉप में जाकर अपना अधूरा काम पूरा कर रहे थे। लेकिन जब वो काम खत्म कर बाहर आए तो उनकी गाड़ी वहां से गायब थी। कुमार से जुड़े सूत्रों का कहना है कि उन्होंने उसी दिन थाने में जाकर अपनी बाइक चोरी होने की शिकायत की थी। लेकिन उस वक्त पुलिस वाले लॉकडाउन में ड्यूटी को लेकर व्यस्त थी लिहाजा केस दर्ज नहीं हो सका था।

21 मई को सुरेश कुमार बिल्डिंग के मालिक के पास गए ताकि वो बिल्डिंग के बाहर लगे सीसीटीवी फुटेज की जांच कर सकें। सीसीटीवी फुटेज में नजर आया कि शर्ट और पैट पहने एक युवक ने उनकी बाइक पर हाथ साफ किया था। इस शख्स ने चप्पल नहीं पहनी थी। इस इलाके के ही कुछ लोगों ने इस शख्स की पहचान प्रशांत के तौर पर की। पता चला कि प्रशांत इस इलाके में पिछले 2 साल से 2 चाय की दुकानें चला रहे हैं।

सुरेश तुरंत प्रशांत के घर पहुंचे लेकिन पता चला कि प्रशांत अपने पूरे परिवार के साथ अपने गांव चला गया है। सुरेश ने कई बार फोन कर प्रशांत से संपर्क करने की कोशिश की लेकिन सभी कोशिशें नाकाम साबित हुईं। 29 मई को सुरेश को नजदीक के एक निजी पार्सल सर्विस से फोन आया। जब वो पार्सल सर्विस के कार्यालय गए तब वो यह देख कर दंग रह गए कि उनकी बाइक वहां मौजूद थी। 1400 रुपए पार्सल चार्ज देकर उन्होंने अपनी बाइक वापस ले ली।

बाइक मिलने के बाद सुरेश ने कहा कि अब वो इस केस में आगे कार्रवाई नहीं चाहते हैं। सुलूर पुलिस स्टेशन के सब-इंस्पेक्टर ने कहा कि इस मामले में कोई केस नहीं दर्ज किया गया है। हालांकि हम शिकायत की जांच कर रहे हैं। प्रशांत को जब यह पता चला कि इस मामले में पुख्ता सबूत है और इसके बिना पर जांच की जा रही है तब उन्होंने बाइक वापस कर दी है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 गर्भवती महक खान को हॉस्पिटल ने एडमिट नहीं किया तो ऑटो में ही चली गई जान, 3 अस्पतालों पर केस दर्ज
2 ‘श्रमिक स्पेशल’ ट्रेन में मजदूरों पर बिस्कुट के पैकेट फेंक उड़ा रहे थे मजाक, VIDEO वायरल होने पर इंस्पेक्टर सस्पेंड
3 ‘गरीबी, बेरोजगारी से बेहाल हूं अंतिम संस्कार का भी पैसा नहीं’, इतना लिख युवक ने सुसाइड किया; प्रशासन ने कहा- घर में राशन था खुदकुशी की जांच होगी