ताज़ा खबर
 

‘किस-किस ने हाईवे कॉन्ट्रैक्टर से मांगे घूस’, केंद्रीय मंत्री ने सांसदों, विधायकों का ऑडियो, वीडियो क्लिप CBI, ED को सौंपा, कहा, जांच कर बताओ

केंद्रीय मंत्री ने जांच एजेंसियों को एक खत लिखा है जिसमें कहा गया है कि ठेकेदारों ने अपने-अपने स्थानीय विधायकों और सासंदों द्वारा सड़क निर्माण से जुड़े प्रोजेक्ट में घूस मांगने की शिकायत की थी।

केंद्रीय मंत्री ने इस मामले में एजेंसियों को कार्रवाई करने के लिए भी कहा है।

जिन-जिन लोगों ने हाईवे ठेकेदारों से घूस मांगी है अब केंद्र सरकार उनपर कार्रवाई करने के मूड में है। इस मामले में सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने खुद एक्शन लिया है। केंद्रीय मंत्री ने केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) और प्रवर्तन निदेशालय (ED) को एक रिकॉर्डिंग सौंपी है। बताया जा रहा है कि इसमें वैसे सभी सांसदों और विधायकों की आवाज या वीडियो है जिन्होंने सड़क बनाने वाले ठेकेदारों से घूस की मांग की है। यह सभी टेप खुफिया तरीके से बनाए गए हैं।

नितिन गडकरी ने इस मामले में कहा है कि ‘लगभग चार महीने पहले कॉन्ट्रैक्टर्स मेरे पास घूस की शिकायत लेकर आए थे। उस वक्त मैंने उनसे कहा था कि वो घूस मांगने वालों का इसके ऑडियो या वीडियो बना लें। इसके बाद अब मैंने यह सभी वीडियो CBI और ED को दे दिया है। सड़क निर्माण कार्य में कोई भ्रष्टाचार नहीं चलेगा।’

केंद्रीय मंत्री ने जांच एजेंसियों को एक खत लिखा है जिसमें कहा गया है कि ठेकेदारों ने अपने-अपने स्थानीय विधायकों और सासंदों द्वारा सड़क निर्माण से जुड़े प्रोजेक्ट में घूस मांगने की शिकायत की थी। बताया जा रहा है कि रिश्वत मांगने की ज्यादातर शिकायतें महाराष्ट्र से जुड़ी हुई हैं। सड़क कॉन्ट्रैक्टरों ने केंद्रीय मंत्री से इससे पहले अपनी शिकायत में कहा था कि स्थानीय विधायक और सांसद घूस के लिए उन्हें हड़काते हैं और प्रोजेक्ट को रूकवाने की धमकी भी देते हैं। बहरहाल अब इस मामले में CBI और ED को टेप सौंपे जाने के बाद ऐसी आशंका है कि कई बड़ी मछलियां इस घूसखोरी कांड की जद में आ सकती हैं।

आपको बता दें कि देश में कई सरकारी ठेकों में अक्सर घूसखोरी की खबरें आती रहती हैं। इससे भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने की सरकार की कोशिशों को धक्का भी पहुंचता है। आपको बता दें कि अभी बीते सोमवार को ही बिहार में सड़क निर्माण में लगी एक कंपनी टॉपलाइन इंफ्रा प्रोजेक्ट्स प्राइवेट लिमिटेड से 16 लाख रुपए घूस लेते कटिहार पथ प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता अरविंद कुमार को पकड़ा गया था। हालांकि बाद में जांच के दौरान कंपनी के निर्माण कार्य में भी कई गड़बड़ियां पाई गई थीं। जिसके बाद 2 सालों तक पथ निर्माण विभाग से कंपनी का रिजस्ट्रेशन भी निलंबित कर दिया गया है। (और…CRIME NEWS)

Next Stories
1 Bihar: मुर्गे की हत्या के आरोप में 7 लोगों के खिलाफ केस दर्ज, गिरफ्तारी में दिन-रात एक कर रही पुलिस
2 हिंदू बन 11 साल से नोएडा में छिपा था 50 हजार का इनामी, फिरौती नहीं मिलने पर किया था मासूम का कत्ल
3 सस्ते Iphone-Ipad का झांसा देकर यूनिक कुमार को Unique तरीके से ठगा, आरोपी ने खुद को बताया बदायूं के SSP का बेटा
ये  पढ़ा क्या?
X