scorecardresearch

जानवरों से भी बदतर थे हालात- रूस में डिटेंशन झेलकर आए युवक ने बयां की आपबीती, रूसी सेना ने बनाया था बंदी

Russia-Ukraine: मारियुपोल (Mariupol) में रूसी सेना द्वारा पकड़े गए ब्रिटिश युवक एडेन एस्लिन (Aiden Aslin) को सऊदी अरब के हस्तक्षेप के बाद रिहा कर दिया गया है।

जानवरों से भी बदतर थे हालात- रूस में डिटेंशन झेलकर आए युवक ने बयां की आपबीती, रूसी सेना ने बनाया था बंदी
एडेन एस्लिन को मारियुपोल में रूसी सेना ने पकड़ा था और फिर डिटेंशन सेंटर में भेज दिया था। (Photo Credit – Twitter/@Illuras)

Aiden Aslin released by Russian authorities: रूस-यूक्रेन के बीच चल रही तनातनी से दुनिया वाकिफ है। दोनों देशों के संघर्षों ने अपने-अपने हिस्से का बहुत कुछ खोया। लगातार गिरते बम-दागी जा रही मिसाइलों के कारण हजारों लोगों की जान चली गई। इन्हीं सबके बीच कुछ ऐसे भी थे जिन्हें अलग तरह की प्रताड़ना झेलनी पड़ी। उन्हीं में से एक ब्रिटिश शख्स है जो रूसी सेना के द्वारा बंदी बनाया गया था और कई महीनों तक उसने डिटेंशन सेंटर में अपनी जिंदगी गुजारी।

ब्रिटेन के युवक ने बयां की आपबीती

पूर्वी यूक्रेन में एक कैदी की अदला-बदली में कैद से मुक्त हुए एक ब्रिटिश युवक ने एक अखबार से बातचीत में उन सारे पहलुओं पर बात की और डिटेंशन सेंटर की आपबीती को बयां किया। 28 साल के इस युवक का नाम एडेन एस्लिन (Aiden Aslin) है जो इंग्लैंड के नॉटिंघमशायर का रहने वाला है। फरवरी में रूस के आक्रमण के समय एस्लिन यूक्रेन में रह रहा था और वह अपनी सेवाएं मरीन सर्विस में दे रहा था।

मारियुपोल में रशियन स्ट्राइक के समय किया था सरेंडर

अप्रैल में मारियुपोल (Mariupol) में रशियन स्ट्राइक के समय उसे अपने साथियों के साथ आत्मसमर्पण के लिए मजबूर होना पड़ा था। एस्लिन साल 2018 में यूक्रेन आया था और युद्ध से कुछ समय पहले ही सेना में शामिल हुआ था। युद्ध शुरू होने से ठीक पहले फरवरी में फिल्माए गए एक वीडियो में, एस्लिन ने कहा कि वह “शुरू से ही एक पुलिस वाला बनना चाहता था” लेकिन लड़ने के लिए विदेश चला गया। यूक्रेन जाने से पहले साल 2015 और 2017 के बीच इस्लामिक स्टेट के खिलाफ सीरियाई कुर्द वाईपीजी के लिए लड़ाई लड़ चुका था।

डोनेट्स्क में सुनाई गई मौत की सजा

एडेन एस्लिन ने द सन को इंटरव्यू में बताया कि कैसे उसे डिटेंशन के दौरान पीठ में छुरा घोंपा गया और रूसी राष्ट्रगान गाने के लिए मजबूर किया गया। एस्लिन ने बताया कि डिटेंशन सेंटर (Russian Detention Centre) में उसे प्रताड़ित करते हुए कहा गया कि वो उन्हें ‘खूबसूरत मौत’ देंगे। एडेन एस्लिन के मुताबिक, कीव के लिए लड़ते हुए उन्हें बंदी बना लिया गया था और जून में रूस समर्थित अलगाववादियों द्वारा पूर्वी यूक्रेन (Ukraine) के डोनेट्स्क में भाड़े के व्यक्ति होने के आरोप में मौत की सजा सुनाई गई थी।

जानवर से भी बदतर हालात- युवक ने बयां किया दर्द

एस्लिन ने द सन को बताया कि बंदी बनाए जाने के बाद पूछताछ के दौरान उसे बार-बार डंडे से पीटा गया। एस्लिन ने कहा कि उन्हें जूं, तिलचट्टों के साथ एक अंडा सेल में रखा गया था, जहां “जानवरों से भी बदतर व्यवहार” किया गया। एस्लिन ने बताया कि डिटेंशन में रहने के दौरान एक अधिकारी उसके पास आया और उसने रशियन भाषा में कहा: “मैं तुम्हारी मौत हूं और जोर से चिल्लाकर कहा कि बोलो रूस की जय हो।” युवक ने इंटरव्यू के दौरान बताया कि “उसने मेरी पीठ की ओर इशारा किया और फिर मुझे एहसास हुआ कि उसने मुझे चाकू मार दिया है।” एस्लिन के अलावा यूक्रेन में पकड़े गए ब्रिटेन के चार लड़ाके सऊदी अरब (saudi arabia) के हस्तक्षेप के बाद मुक्त हुए हैं।

पढें जुर्म (Crimehindi News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 25-09-2022 at 10:42:33 pm