scorecardresearch

मां काली पर विवादित टिप्पणी कर घिरी सांसद महुआ मोइत्रा, कोलकाता-भोपाल में दर्ज हुई एफआईआर

Mahua Moitra On Maa Kali: महुआ मोइत्रा ने पहले कहा था कि फिल्म निर्माता लीना मणिमेकलाई द्वारा साझा किए गए एक विवादास्पद फिल्म पोस्टर के समर्थन के रूप में ट्रोल्स द्वारा उनकी टिप्पणियों को तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया था।

Mahua Moitra| TMC| TMC MP
टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा (फोटो सोर्स- पीटीआई)

तृणमूल कांग्रेस की नेता व लोकसभा सांसद महुआ मोइत्रा मां काली पर विवादित टिप्पणी देने के बाद मुश्किलों में घिरती नजर आ रही हैं। महुआ मोइत्रा द्वारा एक मीडिया सम्मेलन में मां काली को “मांस खाने वाली, शराब स्वीकार करने वाली” देवी के रूप में संदर्भित करने वाली टिप्पणी पर भारी विरोध जारी है। जहां उन पर भोपाल में एफआईआर दर्ज कराई गई है। वहीं, पश्चिम बंगाल में भाजपा सड़कों पर उतर आई और मोइत्रा की गिरफ्तारी की मांग की है।

कोलकाता भी FIR: इस विवादित टिप्पणी के चलते महुला मोइत्रा के खिलाफ कोलकाता में भाजपा नेता जितेन चटर्जी ने उन पर धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का आरोप लगाते हुए प्राथमिकी दर्ज कराई है। कोलकाता के बाऊ बाजार थाने में करीब 56 शिकायतें उनके खिलाफ दर्ज कराई गईं हैं। साथ ही भाजपा ने मांग की है धार्मिक भावनाएं आहत करने वाली महुआ मोइत्रा को जल्द से जल्द गिरफ्तार किया जाए।

महुआ मोइत्रा ने किया ट्वीट: इस पूरे विवाद के बीच तृणमूल कांग्रेस की नेता व लोकसभा सांसद महुआ मोइत्रा ने ट्वीट करते हुए लिखा, “ब्रिंग इट ऑन बीजेपी! मैं एक काली उपासक हूं। मुझे किसी भी बात का डर नहीं है। न तो अज्ञानियों से। न तुम्हारे गुंडों से, न पुलिस और तुम्हारे ट्रोल से तो बिल्कुल नहीं। सत्य को किसी अन्य तरह की ताकत की आवश्यकता नहीं होती है।”

भोपाल में भी एफआईआर: बता दें कि, महुआ मोइत्रा के खिलाफ भोपाल के क्राइम ब्रांच थाने में आईपीसी की धारा 295A के तहत धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का केस दर्ज हुआ है। वहीं, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने महुआ मोइत्रा के बयान पर कहा था कि उनके बयान से हिंदू धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंची है। हिंदू देवी-देवताओं का अपमान किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

क्या बोली थी मोइत्रा: मोइत्रा ने एक मीडिया कॉन्क्लेव में बोलते हुए कहा था कि “यदि आप तारापीठ (पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले में प्रतिष्ठित काली मंदिर) जाते हैं, तो आप साधुओं को धूम्रपान करते देखेंगे। मां काली की पूजा का वहां यही रूप है। हिंदू धर्म में और एक काली उपासक होने के नाते, मुझे मां काली को उस रूप में कल्पना करने का अधिकार है; यही मेरी आजादी है।” वहीं, उन्होंने बताया था कि उनकी टिप्पणी का ‘फिल्म काली‘ से कोई संबंध नहीं है।

TMC ने कर लिया किनारा: मोइत्रा की टिप्पणी करने के तुरंत बाद टीएमसी ने उनके इस बयान से कन्नी काट ली थी। टीएमसी ने बयान जारी करते हुए कहा था “मीडिया कॉन्क्लेव में महुआ मोइत्रा द्वारा की गई टिप्पणियां और देवी काली पर व्यक्त किये गए विचार उनकी व्यक्तिगत सोच है, इससे पार्टी का कोई लेना-देना नहीं है। अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस (एआईटीएमसी) इस तरह की टिप्पणियों की कड़ी निंदा करती है।

पढें जुर्म (Crimehindi News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X