ताज़ा खबर
 

पूर्व फौजी ने बताया- कुत्तों के जरिए शैतान देते थे आदेश, आधा दर्जन लोगों को उतारा मौत के घाट

डेविड ने साल 1971 में यूएस आर्मी ज्वॉइन की थी लेकिन 1974 में फौज की नौकरी छोड़ दी।

पकड़े जाने पर इस सीरियल किलर ने हत्याओं के पीछे शैतान का आदेश बताया था।

इतिहास में ऐसी कई सीरियल किलिंग की घटनाएं हुई हैं जिनके बारे में जानकर आज भी लोग सिहर जाते हैं। आज हम आपको ऐसे ही सीरियल किलर के बारे में बता रहे हैं जिसने हैवानियत की सारी हदें पार कर दी थीं। हम बात कर रहे हैं कुख्यात सीरियल किलर डेविड रिचर्ड बर्कोवित्ज की। डेविड एक ऐसा सीरियल किलर था जिसने आधा दर्जन लोगों को मौत के घाट उतारा था। पकड़े जाने पर इस सीरियल किलर ने हत्याओं के पीछे शैतान का आदेश बताया था।

डेविड रिचर्ड बर्कोवित्ज का जन्म 1 जून साल 1953 को न्यूयॉर्क के ब्रुकलीन शहर में हुआ था। डेविड के जन्म का नाम रिचर्ड डेविड फाल्को था लेकिन माता-पिता के अलग होने के बाद उसे नैथन और पैर्ल बर्कोवित्ज ने गोल ले लिया था। साल 1967 में स्तन कैंसर के चलते सौतेली मां की मौत हो गई और सौतेले पिता ने दूसरी महिला से संबंध बना लिए थे। इस बात से डेविड डिप्रेस रहता था।

HOT DEALS
  • Apple iPhone 6 32 GB Space Grey
    ₹ 24990 MRP ₹ 30780 -19%
    ₹3750 Cashback
  • MICROMAX Q4001 VDEO 1 Grey
    ₹ 4000 MRP ₹ 5499 -27%
    ₹400 Cashback

डेविड ने साल 1971 में यूएस आर्मी ज्वॉइन की थी लेकिन 1974 में फौज की नौकरी छोड़ दी। नौकरी छोड़ने के दो साल बाद यानी 1976 में अचानक लोगों को मारना शुरू कर दिया। वह .44 कैलिबर की गन से लोगों को शूट कर देता था। 1977 तक इस सनकी सीरियल किलर ने 6 लोगों को मौत के घाट उतार दिया था, जिसके बाद यह सीरियल किलर ‘सन ऑफ सैम’ के नाम से कुख्यात हो गया था।

10 अगस्त 1977 को पकड़े जाने पर डेविड ने 6 लोगों के कत्ल की बात कबूल कर ली थी लेकिन पुलिस के सामने बताई गई हत्याओं की वजह सुनकर हर कोई हैरान था। डेविड ने पुलिस को बताया कि ये कत्ल उसने शैतान के आदेश पर किए हैं। डेविन ने कहा कि पड़ोस के कुत्ते जब रोते थे तो शैतान उनके जरिए उससे बात करते थे और हत्या करने का आदेश देते थे।

12 जून 1978 को सनकी सीरियल किलर डेविड रिचर्ड बर्कोवित्ज को 6 लोगों की हत्याओं का दोषी पाया गया। डेविड को आधा दर्जन लोगों को मारने के लिए 365 साल की सजा हुई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App