ताज़ा खबर
 

IAS हरि चंदना: कचरे से पैदा किया रोजगार, डेंगू से निपटने के लिए ड्रोन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल समेत कई अहम उपलब्धियां हैं इस अफसर के नाम

डेंगू से निपटने के लिए ड्रोन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल, आर्गेनिक वेस्ट को LPG में बदलने के लिए बायो मीथेन तकनीक का इस्तेमाल, बच्चों के लिए पंचतंत्र थीम पार्क जैसी अहम परियोजनाओं के लिए भी श्रीमती हरि चंदना को जाना जाता है।

crime, crime newsIAS हरि चंदना, फोटो सोर्स- फेसबुक, @Hari Chandana IAS

कड़ी संघर्ष से आईएएस अफसर बनने वाले कई होनहारों की कहानियां हमने आपको बताई हैं। आज हम साल 2010 बैच की आईएएस अफसर हरी चंदना का जिक्र यहां कर रहे हैं। हैदराबाद की रहने वाली हरी चंदना ने अपनी ड्यूटी के दौरान ऐसे बड़े कीर्तिमान स्थापित किये जो आज भी प्रेरणास्त्रोत हैं। गुड गर्वनेंस के लिए मशहूर इस आईएएस अफसर ने बड़े ओहदे पर बैठने के बाद आम जनता के लिए कई बड़े काम किये। फरवरी 2020 में नारायणपेट कलेक्टर का पद संभालने के बाद उन्होंने गांव और शहरों की साफ-सफाई को लेकर काफी कुछ किया। उन्होंने शहरी क्षेत्रों में 35,000 Sanitary Latrines (ISLs) के निर्माण पर विशेष ध्यान दिया। इससे कई लोगों को रोजगार भी मिला। उन्होंने तेलंगाना में पहली बार विशेषकर महिलाओं के लिए बनाए गए मोबाइल बस ट्वॉयलेट को लॉन्च किया। नारायणपेट के भीड़भाड़ वाले इलाकों में सार्वजनिक ट्वॉयलेट बनवाने की दिशा में बेहतरीन काम किये।

उनकी अध्यक्षता में GHMC वेस्ट जोन पहला ISO : 14001:2015 सर्टिफाइड सरकारी कार्यालय बना। यहीं नहीं श्रीमती हरि चंदना ने समाज कल्याण के लिए कई योजनाओं की शुरुआत की जिसमे एकाकृत पेट पार्क एंड कैफ़े, बच्चों के लिए पंचतंत्र थीम पार्क, प्लास्टिक रीसाइक्लिंग एवं पुन: उपयोग इत्यादि शामिल है। उन्हें इन योजनाओं के लिए कई बार पुरुस्कृत किया गया है।

हरि चंदना के पिता भी एक IAS अफसर रहे हैं। इसी का नतीजा रहा कि पिता के तबादले के चलते उन्होंने अपनी शुरूआती पढ़ाई तेलंगाना और आंध्र प्रदेश के 14 अलग-अलग स्कूलों से की। इसके बाद हरि ने हैदराबाद के सेंट ऐंस कॉलेज से ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल की और हैदराबाद विश्विद्यालय से पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी की। यहीं नहीं हरि चंदना ने लंदन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स से पर्यावरण अर्थशास्त्र में M.Sc की डिग्री भी हासिल की है। उन्होंने साल 2010 में अपने दूसरे प्रयास में UPSC सिविल सेवा परीक्षा पास की। आपको बता दें कि हरि के पति IRS अफसर हैं।

गिव एंड शेयर कियोस्क बनवाने का श्रेय इसी महिला अफसर को जाता है। यह कियोस्क पूरी तरह से पुनर्नवीनीकरण प्लास्टिक से बना है। यह मंच जरूरतमंदों को दानकर्ता से जोड़ता है। वह यहां आकर इस्तेमाल किए गए कपड़े और किताबें एकत्र कर सकते हैं। इसके अलावा VAADA App को लेकर इस अफसर ने काफी काम किया। इस मोबाइल एप्लीकेशन की मदद से विकलांग मतदाता तक पहुंचने के लिए टेक्स्ट टू स्पीच फीचर्स का इस्तेमाल किया गया।

इसके अलावा डेंगू से निपटने के लिए ड्रोन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल, आर्गेनिक वेस्ट को LPG में बदलने के लिए बायो मीथेन तकनीक का इस्तेमाल, बच्चों के लिए पंचतंत्र थीम पार्क जैसी अहम परियोजनाओं के लिए भी श्रीमती हरि चंदना को जाना जाता है। प्लास्टिक रीसाइकलिंग के जरिए महिलाओं औऱ गरीब तबके के लिए रोजगार की व्यवस्था भी इस अफसर ने की।

Next Stories
1 मंच पर चढ़ युवक ने हार्दिक पटेल को मारा था तमाचा, VIDEO वायरल होने पर मचा था हंगामा
2 मॉडल से मर्डर की आरोपी तक! अभिनेत्री एंजेल पर देह व्यापार चलाने का भी लगा था आरोप…
3 कभी नहीं ली कोचिंग, पहले ही प्रयास में UPSC पास करने वाले IAS अरुण राज की कहानी…
यह पढ़ा क्या?
X