ताज़ा खबर
 

नोटबुक पर ‘यू किल्ड मी’ लिख कर इस सुपरमॉडल ने मौत को लगा लिया गले, मिस्ट्री बन कर रह गई यह कहानी

सिर्फ सुनी-सुनाई बातें और नोटबुक पर लिखे कुछ शब्दों कभी भी इस मॉडल की आत्महत्या की असली वजह को सामने नहीं ला सके। पुलिस ने जब कभी भी गौतम से पूछताछ की तो गौतम ने पुलिस से यही कहा कि विवेका उनकी एक अच्छी दोस्त थीं

मॉडल की मौत ने सबको सन्न कर दिया। प्रतीकात्मक तस्वीर

90 के दशक में कामसूत्र के विज्ञापन में आकर इस मॉडल ने सनसनी मचा दी थी। अपनी खूबसूरती और बेबाक अंदाज से पहली ही नज़र में लोगों को अपना दिवाना बना देनी वाली इस लड़की ने साल 1993 में मिस मॉरीशस का खिताब भी जीता। भारत के हैदराबाद में जन्मी और मॉरीशस में पढ़ी-लिखी मॉडल विवेका बाबाजी ने साल 1993 में ही मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता में हिस्सा भी लिया था। फैशन और मॉडलिंग की चकाचौंध भरी दुनिया ने विवेका बाबाजी को सुपरमॉडल का खिताब दिया। विवेका बाबाजी ने साल 2002 में आई बॉलवुड फिल्म ‘ये कैसी मोहब्बत’ से एक्टिंग की दुनिया में भी अपनी किस्मत आजमाई। हालांकि यह फिल्म फ्लॉप हो गई थी। विवेका ने इसके अलावा कुछ दक्षिण भारतीय फिल्मों में भी काम किया। यकीनन जिंदगी ने विवेका को शोहरत, रुतबा और दौलत सबकुछ दिया पर शायद एक खालीपन था जिसे इस मॉडल ने अपने अंदर ही छिपाए रखा और अचानक महज 37 साल की उम्र में इस सुपरमॉडल ने हमेशा के लिए सबको नि:शब्द कर दिया।

25 जून साल 2010 को जब मुंबई के बांद्रा स्थित घर में इस मॉडल की पंखे से लटकती लाश मिली तो सभी हतप्रभ रह गए। किसी को यकीन नहीं हो रहा था कि हमेशा हंसती रहने और खुशमिजाज रहने वाली यह मॉडल अंदर ही अंदर इतनी कमजोर हो गई थी कि उसने ऐसा आत्मघाती कदम उठा लिया। इस मॉडल ने आत्महत्या क्यों की? 9 साल बाद भी इस सवाल का सही-सही जवाब नहीं मिल सका है। मॉडल की आत्महत्या के बाद जब पुलिस ने उनके कमरे को खंगाला था तब पुलिस को उनके घर से एक नोटबुक मिला था। इस नोटबुक में लिखा था ‘यू किल्ड मी गौतम’…

विवेका बाबाजी, फाइल फोटो, फोटो सोर्स – Indian Express, Archive

इस मौत के बाद पुलिस की तफ्तीश भी मॉडल के नोटबुक पर लिखे इन्हीं शब्दों के आसपास से शुरू हुई। जिस गौतम नाम के शख्स का इस सुपरमॉडल ने सुसाइड से पहले जिक्र किया था दरअसल उनका पूरा नाम है गौतम वोरा। कहा जाता है कि पेश से स्टॉक ब्रोकर और ग्लैमर के शौकीन गौतम वोरा से इस सुपरमॉडल के नजदीकी संबंध थे। मॉडल की आत्महत्या से एक रात पहले यानी 24 जून को गौतम और विवेका की आखिरी मुलाकात हुई थी। विवेका के पड़ोसियों ने उस वक्त कहा था कि 24 जून को विवेका और गौतम के बीच किसी बात को लेकर बहस हुई थी और उनके फ्लैट से चिल्लाने की आवाज भी आ रही थी।

25 जून को जब विवेका ने अचानक मौत को गले लगा लगाया तो इस मौत को लेकर कई थ्योरी दी गई। कहा गया कि गौतम वोरा से लड़ाई होने के बाद विवेका ने डिप्रेशन में आकर अगले दिन सुसाइड कर लिया। कहा गया कि गौतम ने ही विवेका को सुसाइड के लिए उकसाया था। इतना ही नहीं यह भी कहा गया था कि विवेका बाबाजी फिल्मों के फ्लॉप होने से परेशान थीं। कुछ लोगों का तो यह कहना था कि विवेका ने मौत से पहले करीब 30 सिगरेट पी थी। लेकिन सिर्फ सुनी-सुनाई बातें और नोटबुक पर लिखे कुछ शब्दों कभी भी इस मॉडल की आत्महत्या की असली वजह को सामने नहीं ला सके। पुलिस ने जब कभी भी गौतम से पूछताछ की तो गौतम ने पुलिस से यही कहा कि विवेका उनकी एक अच्छी दोस्त थीं और 24 जून की रात विवेका ने फोन कर उन्हें अपने घर बुलाया था। गौतम के मुताबिक उस दिन विवेका काफी परेशान थीं और उन्होंने कई दवाइयां भी ली थीं।

गौतम ने पुलिस को बताया था कि इस दिन उन्होंने विवेका को काफी समझाया और फिर वहां से चले गए थे। हालांकि विवेका बाबाजी के घर वाले गौतम पर गंभीर आरोप लगाते रहे हैं। बहरहाल पुलिस कभी भी इस आत्महत्या की गुत्थी को सुलझा नहीं पाई। विवेका बाबाजी को मौत के लिए उकसाया गया था इस बात को लेकर पुलिस गौतम वोरा के खिलाफ कभी भी पुख्ता सबूत नहीं जुटा सकी। इस सुपरमॉडल की मौत आज भी किसी मिस्ट्री से कम नहीं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App