ताज़ा खबर
 

भारतीय सेना का वो जवान जो बन गया ‘बेबी किलर’, 15 बच्चियों का रेप कर गाड़ दी थी लाशें

दरबारा सिंह ने अपनी हैवानियत की दास्तान बयां करते हुए बताया कि उसने 17 से ज्यादा बच्चों के साथ रेप और कुकर्म करने के बाद उनकी हत्या कर दी और उनकी लाश को अलग-अलग जगहों पर दफना दिया।

यह हत्यारा मासूम बच्चों को फुसलाता और फिर उन्हें मौत के घाट उतार देता था।

साइकिल से घूम-घूम कर छोटी-छोटी बच्चियों को वो टॉफियां देकर उन्हें फुसलाता और फिर मौका पाकर उनके साथ दरिंदगी कर उनका क़त्ल कर देता। यह कहानी है एक खतरनाक सीरियल ‘बेबी किलर’ की। अमृतसर के ब्यास के रहने वाले दरबारा सिंह का जन्म साल 1952 में हुआ था। पतला-दुबला और लंबे कद-काठी का दरबारा सिंह सेना में नौकरी करता था और साल 1975 में वो पठानकोट के एयर फोर्स स्टेशन का अधिकारी भी था। नौकरी के दौरान ही दरबारा सिंह पर एक मेजर के परिवार पर हैंड ग्रेनेड फेंकने का आरोप लगा था। हालांकि इस मामले में उसे बरी कर दिया गया था। लेकिन तब किसी ने भी नहीं सोचा था कि सेना में नौकरी करने वाला जवान दरबारा सिंह हैवान भी हो सकता है।

साल 1996 में कपूरथला में एक अप्रवासी मजदूर की नाबालिग बच्ची के साथ हुई रेप और उसकी हत्या के मामले में सबसे पहले दरबारा सिंह का नाम आया। वर्ष 1977 में रेप और हत्या की कोशिश के तीन अलग-अलग मामलों में दरबारा सिंह को 30 साल तक जेल की सजा सुनाई गई। इस दौरान उसे कपूरथला जेल से जालंधर सेंट्रल और फिर लुधियाना सेंट्रल जेल शिफ्ट कर दिया गया। लेकिन साल 2003 में उसकी दया याचिका मंजूर हो गई और जेल में अच्छे व्यवहार के चलते उसे रिहा कर दिया गया।

जेल से छूटने के बाद दरबारा सिंह के मन में यह बात घर कर गई कि अप्रवासी मजदूर की वजह से ही उसकी जिंदगी के अहम साल बर्बाद हो गए। इसलिए उसने अप्रवासी मजदूरों से बदला लेने की ठानी और फिर इस जुनून में वो बन गया गुनाहों का देवता। साल 2004 में अचानक कई अप्रवासी मजदूरों के घर से मासूम बच्चे एक-एक कर गायब होने लगे। 23 बच्चों के अचानक गायब होने से पुलिस के होश उड़ गए। पुलिस ने इसी साल दरबारा सिंह को पुख्ता सबूतों के आधार पर दोबारा गिरफ्तार कर लिया। इस बार दरबारा सिंह ने जो राज पुलिस वालों के सामने उगले उसे सुनकर आपकी रुह कांप उठेगी।

दरबारा सिंह की यह तस्वीर उस वक्त की है जब पुलिस हिरासत में था।

दरबारा सिंह ने अपनी हैवानियत की दास्तान बयां करते हुए बताया कि उसने 17 से ज्यादा बच्चों के साथ रेप और कुकर्म करने के बाद उनकी हत्या कर दी और उनकी लाश को अलग-अलग जगहों पर दफना दिया। दरबारा ने जिन 17 बच्चों की हत्या की बात कबूली थी उनमें से 15 लड़कियां और 2 लड़के थे। हालांकि पुलिस को यह भी अंदेशा है कि उसने कई और पीड़िताओं के नाम का खुलासा नहीं किया है।

यह भी मालूम चला था कि दरबारा सिंह के परिवार में उसकी पत्नी के अलावा तीन बच्चे थे। लेकिन उसकी करतूतों से तंग आकर उसकी पत्नी ने उसे घर से निकाल दिया था। दरबारा, हाथ में एक बैग लेकर साइकिल पर घूमता रहता था। इस बैग में बच्चों को लालच देने के लिए टॉफी, खिलौना और पटाखे होते थे। एक खास बात यह भी है कि वो इस घिनौनी वारदात को अंजाम देने के लिए सुबह 10 बजे से दोपहर 12.30 बजे तक का वक्त ही चुनता था क्योंकि इस समय सभी मजदूर काम पर जा चुके होते थे। साल 2008 में अदालत ने इस सीरियल ‘बेबी किलर’ को मौत की सजा सुनाई। इसी साल जेल में सजा भुगतने के दौरान दरबारा सिंह की किसी वजह से मौत हो गई।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App