ताज़ा खबर
 

सेक्स रैकेट सरगना सोनू पंजाबन ने दिसंबर में छुड़ा दिए थे दिल्ली पुलिस के पसीने, पति को मरवाने के लगे थे आरोप

दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन की कहानी किसी फिल्म से कम नहीं है। सोनू को जब दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया और उसे थाने लाया गया तो उसने इस कदम कहर बरपाया कि दिल्ली पुलिस के भी पसीने छूट गए थे।

दिल्ली पुलिस ने सोनू पंजाबन को किया था गिरफ्तार (Photo- Indian Express)

भारत में ‘अवैध’ रूप से चल रहे देह व्यापार का खुलासा पुलिस कई बार कर चुकी है। इसी कड़ी में दिल्ली पुलिस ने भी सेक्स रैकेट चलाने वाली लेडी डॉन सोनू पंजाबन को कई साल पहले गिरफ्तार किया था। गिरफ्तारी के बाद सोनू पंजाबन से जुड़े कई किस्से सामने आए। सोनू पंजाबन की गिरफ्तारी से सवाल भी उठने लगे थे कि आखिर पुलिस अभी तक क्या कर रही थी जो इतनी देरी से गिरफ्तारी हुई? जबकि पुलिस की इस कार्रवाई की तारीफ भी हुई थी क्योंकि सोनू पंजाबन को गिरफ्तार करने के लिए ठोस सबूत चाहिए थे जो दिल्ली पुलिस के हाथ लग चुके थे।

गिरफ्तारी के बाद भी सोनू पंजाबन ने कोई कम ड्रामा नहीं किया था। सोनू को काबू करने में पुलिस के भी पसीने छूट गए थे। घटना को करीब से कवर करने वाले वरिष्ठ पत्रकार संजीव कुमार सिंह चौहान ने अपनी एक रिपोर्ट में भी इस घटना का जिक्र किया है। 2008 में गिरफ्तार के बाद सोनू पंजाब को दिल्ली के कमला मार्केट इलाके में पुलिस हवालात में ले जाया गया।

सोनू पंजाबन ने वहां इस कदर हंगामा बरपा दिया कि दिल्ली पुलिस की टीम को दिसंबर में भी पसीना आ गया था। सोनू की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए हवालात के बाहर चौकसी बढ़ा दी गई थी। पुलिस अधिकारियों को इस बात का भी डर था कि कहीं फोर्स को सबक सिखाने के लिए वह अंदर ही कुछ ऊंच-नीच न कर बैठे।

गीता अरोरा से बनी सोनू पंजाबन

टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक, सोनू पंजाबन का असली नाम गीता अरोरा था और उसने अपने पति के उपनाम से अपने नाम के साथ सोनू लगाया था। दरअसल सोनू का पति हेमंत पुलिस एनकाउंटर में मारा गया था और हेमंत का उपनाम सोनू था। हेमंत के प्यार में पागल गीता ने अपने नाम के साथ ही सोनू का नाम जोड़ लिया था।

गीता का जीवन विजय सिंह नाम के गैंगस्टर के साथ प्यार में पड़ने के बाद पूरी तरह बदल गया। वह उत्तर प्रदेश के जाने-माने गैंगस्टर श्रीप्रकाश शुक्ला का करीबी था। सिंह को यूपी एसटीएफ ने 2003 में एनकाउंटर में ढेर कर दिया था।

इसके बाद सोनू को दीपक से प्यार हो गया और पुलिस ने दीपक को भी मुठभेड़ में ढेर कर दिया। गीता उर्फ सोनू इस दौरान अकेलापन महसूस करने लगी और उसे सहारा देने के लिए आगे आया दीपक का भाई हेमंत। सोनू और हेमंत करीब आए। दोनों ने शादी कर ली और हेमंत का नाम हाई-प्रोफाइल मर्डर केस में भी आ गया। मार्च 2006 में हेमंत को स्पेशल सेल ने दिल्ली-गुरुग्राम बॉर्डर पर मार गिराया।

कहा गया कि गीता अरोरा ने दोनों भाइयों से शादी कर उनके खौफ का लाभ लेकर देह-व्यापार के धंधे की जड़ें राजधानी और आसपास के इलाके में फैला लीं। आरोप लगे कि गीता उर्फ सोनू पंजाबन ने ही मुखबिरी कर अपने पति का एनकाउंटर करवाया। हालांकि अभी तक इसकी कोई पुष्टि नहीं हुई है कि गीता की मुखबिरी पर ही पुलिस ने खूंखार गैंगस्टर्स को ढेर किया था, लेकिन इतना जरूर है कि इसके बाद गीता ने देह व्यापार में कदम रखा था।

Next Stories
1 MBA की डिग्री हासिल कर मोटे पैकेज पर कर रही थीं काम, जॉब छोड़ IAS बनी थीं नेहा भोसले
2 22 सालों में कई कत्ल, पंजाब के ऑटो ड्राइवर के सीरियल किलर बनने की कहानी…
3 छात्र राजनीति ने बदल दी जिंदगी, इंजीनियरिंग छोड़ IAS बनने वाले शिवम प्रताप की कहानी…
ये पढ़ा क्या ?
X