ताज़ा खबर
 

शबनम से भी खतरनाक जुर्म! इस महारानी ने कई कुंवारी लड़कियों की हत्या कर दी, फांसी नहीं, मिली यह सजा…

इस महारानी के नौकरों को मौत की सजा दी गई। जबकि मुख्य आरोपी एलिजाबेथ को जिंदगी भर एक कमरे में बंद रखने की सजा दी गई।

rape, crime news, crime news in hindiसांकेतिक तस्वीर। फोटो सोर्स – एक्सप्रेस अर्काइव

करीब 13 साल पहले उत्तर प्रदेश के बावनखेड़ा में शबनम नाम की एक लड़की ने अपने ही घर के 7 सदस्यों की कुल्हाड़ी से हत्या कर दी थी। इस मामले में शबनम को फांसी की सजा दी गई है। वैसे तो महिलाओं के जुर्म से जुड़ी कई कहानियां हैं जो अक्सर चौंका जाती हैं। आज हम बात कर रहे हैं हुगली की ऐसी महारानी की जिनपर कई महिलाओं की हत्या का दोष साबित हुआ। हैरानी की बात यह है कि इस महारानी को फांसी की सजा नहीं दी गई थी।

Elizabeth Bathory के बारे में बताया जाता है कि उनका जन्म 7 अगस्त 1560 को हंगरी के Nyírbátor में हुआ था। कहा जाता है कि 16वीं से 17वीं शताब्दी के बीच उन्होंने कई जवान लड़कियों की हत्या कर दी। एलिजाबेथ एक राजशाही परिवार से ताल्लुक रखती थीं। उनका परिवार Transylvania पर शासन करता था जबकि उनके चाचा पोलैंड के राजा था। साल 1575 में उनकी शादी Count Ferencz Nádasdy से हुई थी। Count Ferencz Nádasdy हुगरी के एक ताकतवर परिवार से आते थे। एलिजाबेथ को 4 बेटे थे। कहा जाता है कि साल 1604 में एलिजाबेथ के पति के मौत के बाद एलिजाबेथ महारानी बन गईं औऱ यहीं से शुरू हईं उनकी क्रूरता की कहानी।

लड़कियों के खून से नहाती थीं महारानी

कहा जाता है कि नॉर्थवेस्ट हंगरी (वर्तमान, स्लोवाकिया) आने के बाद एलिजाबेथ को एक दिन अचानक ऐसा महसूस हुआ कि कुंवारी लड़कियों के खून से नहाने पर वो हमेशा जवान रहेगी। इसके बाद धीरे-धीरे इस गांव से जवान लड़कियां और बच्चियां गायब होने लगीं। कई लड़कियां यहां काम के तलाश में आई थीं लेकिन उन्हें दोबारा कभी नहीं देखा गया। कहा जाता है कि एलिजाबेथ इन लड़कियों को कैद कर लेती थी। इसके बाद वो इन लड़कियों की तबतक जमकर पिटाई करती थी जब तक की वो मर ना जाएं।

कई बार वो इन लड़कियों को अपना ही मांस खाने पर मजबूर करती थी। इतना ही नहीं वो लड़कियों के प्राइवेट पार्ट को जला कर उन्हें टॉर्चर भी करती थी। जब कभी वो बीमार होती तो वो अपने नौकरों को हुक्म देकर उनसे लड़कियों को टॉर्चर कराया करती थी। वो लड़कियों के चेहरे और उनके कंधों को बेरहमी से कांटती थी। कहा जाता है कि जब गांव से जवान लड़कियां खत्म हो गईं तो उसने महिलाओं का खून बहाना और इस खून से नहाना शुरू कर दिया।

नहीं मिली सजा-ए-मौत

सन् 1609 में एक लड़की की मौत के बाद एलिजाबेथ पर उसकी हत्या का आरोप लगा लेकिन एलिजाबेथ ने इसे सुसाइड का मामला बताया। इस मामले में प्रशासन को एलिजाबेथ पर शक हुआ और एक रात प्रशासन ने एलिजाबेथ के घर पर छापेमारी की। छापेमारी के दौरान घर में जहां-तहां बिखरी कुंवारी लड़कियों के शव मिले। कुछ शवों के हाथ और आंख भी गायब थे। इसके बाद एलिजाबेथ पर मुकदमा दर्ज किया गया। एलिजाबेथ के नौकरों को मौत की सजा दी गई। जबकि मुख्य आरोपी एलिजाबेथ को जिंदगी भर एक कमरे में बंद रखने की सजा दी गई। इस कमरे में करीब साढ़े तीन साल तक रहने के बाद एक दिन एलिजाबेथ की मौत हो गई।

Next Stories
1 कानपुर: कॉन्स्टेबल के पति ने महिला और 2 बच्चियों को आग में झोंका, डिप्रेशन में था युवक
2 मुंबई: ‘मेरे साथ नहीं तो तुम किसी के साथ रिश्ते में नहीं रह सकती’, इतना बोल पूर्व प्रेमी ने बीच सड़क प्रेमिका पर कर दिया हमला
3 पिता ने बेटी को 24 साल तक कैद रख किया दुष्कर्म, 7 बच्चों की बनी मां; भयानक दास्तां पर बनी फिल्म ‘Girl in The Basement’
ये पढ़ा क्या?
X