ताज़ा खबर
 

कार चोरी में पकड़ा गया शख्‍स निकला सीरियल किलर, भाभी का ऐसे कत्‍ल होते देख पैदा हुई सनक

इस सीरियल किलर ने अपने चचेरे भाई माईक की वजह से अपराध की दुनिया में कदम रखा था।

सीरियल किलर रिचर्ड रामिरेज।(फोटो सोर्स- यूट्यूब)

इतिहास में ऐसी कई सीरियल किलिंग की घटनाएं हुई हैं जिनके बारे में जानकर आज भी लोग सिहर जाते हैं। आज हम आपको ऐसे ही सीरियल किलर के बारे में बता रहे हैं जिसने हैवानियत की सारी हदें पार कर दी थीं। हम बात कर रहे हैं कुख्यात सीरियल किलर रिचर्ड रामिरेज की। रिचर्ड रामिरेज एक ऐसा सीरियल किलर था जिसने करीब 16 से ज्यादा लोगों को मौत के घाट उतारा था। यह सीरियल किलर मारपीट करने से लेकर चाकू मारने, गोली मारने और रेप करने तक अपराध करने के लिए कुख्यात अपराधी माना जाता था।

रिचर्ड रामिरेज का जन्म 29 फरवरी, 1960 को एल पासो, टेक्सस में हुआ था। इस सीरियल किलर ने साल 1984 से लेकर 1985 तक करीब 16 से लोगों को मौत के घाट उतारा था। रिचर्ड महिलाओं के साथ रेप कर गोली मारकर उनकी जान ले लेता था। इस सीरियल किलर ने महिलाओं के अलावा पुरूषों को भी गोली मारकर उनकी हत्या की थी।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस सीरियल किलर ने अपने चचेरे भाई माईक की वजह से अपराध की दुनिया में कदम रखा था। माईक वियतनाम युद्ध में एक विशेष आर्मी में शामिल था। माईक ने युद्ध के दौरान अपने अनुभव को रिचर्ड के साख सांझा किया था और मारे गए दुश्मनों की कुछ तस्वीरें दिखाई थीं। यहां तक कि माईक ने रीचर्ज की मौजूदगी में अपने पत्नी को गोली मारकर उसके खून की छींटे रिचर्ड के चेहरे पर भी डाल दी थी। तभी से रिचर्ड के अंदर लोगों को मारने का जुनून पैदा हो हो गया था।

इसके बाद रिचर्ड रामिरेज नाम के इस सीरियल किलर ने लोगों को मारना और महिलाओं के साथ रेप करना शुरू कर दिया था और ‘द नाइट स्टॉकर’ के नाम से जाने जाना लगा। रिचर्ड ने लॉस एंजेलिस में ही 13 लोगों को मौत के घाट उतारा था।

पुलिस ने रिचर्ड रामिरेज को साउथ कैलिफोर्निया से 25 अगस्त, 1985 को गिरफ्तार किया था। उस वक्त यह एक कार चुराने की कोशिश कर रहा था। जांच के दौरान रिचर्ड रामिरेज के अपराधों का खुलासा हुआ था। बाद में रिचर्ड को 13 हत्याओं का दोषी पाते हुए 7 नवंबर, 1989 को मौत की सजा सुनाई गई थी। हालांकि 53 वर्षीय सीरियल किलर रिचर्ड रामिरेज की मौत 7 जून, 2013 को सजा काटने के दौरान जेल हो गई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App