ताज़ा खबर
 

मजे के लिए करता था कत्ल, बिहार का सीरियल किलर ‘साइको रजी’ के नाम से था मशहूर

किलर के बेटे ने बताया था कि अपने आप को अच्छा महसूस करवाने के लिए वो लोगों की जानें लेता था, वो दुनिया को बताना चाहता था कि वो कुछ भी हासिल कर सकता है

crime, crime newsसांकेतिक तस्वीर। फोटो क्रेडिट- नरेंद्र कुमार

दुनिया भर में कई सीरियल किलरों की भयानक कहानियां मौजूद हैं। आज हम देश के उस सीरियल किलर के बारे में आपको बताने जा रहे हैं जिसके बारे में कहा जाता है कि उसे हत्याएं करने में मजा आता था यानी वो सिर्फ मजे के लिए कत्ल करता था। साल 2020 में गुरुग्राम में पुलिस ने इफ्को चौक से एक शख्स को गिरफ्तार किया था। इस शख्स पर आरोप लगा था कि उसने तीन दिन में तीन हत्याओं को अंजाम दिया है। इस शख्स को दबोचने में पुलिस को काफी पसीना बहाना पड़ा था।

जहां यह तीनों कत्ल हुए थे उसके आसपास लगे कई सीसीटीवी फुटेज को खंगालने के बाद उसे पकड़ा गया था। पुलिसिया तफ्तीश में उस वक्त यह बात सामने आई थी कि गिरफ्तार किये गये शख्स का नाम मोहम्मद रजी था। मोहम्मद रजी मूल रूप से बिहार के अररिया जिले का रहने वाला था।

पिता के गिरफ्तार होने के बाद उसके बेटे ने मीडिया से बातचीत के दौरान उस वक्त कहा था कि लोग उसके पिता को ‘साइको रजी’ के नाम से जानते हैं। किलर के बेटे ने बताया था कि अपने आप को अच्छा महसूस करवाने के लिए वो लोगों की जानें लेता था, वो दुनिया को बताना चाहता था कि वो कुछ भी हासिल कर सकता है इसलिए उसने लोगों को मारना शुरू किया।

बिहार के अररिया जिले के खलीलाबाद गांव में रहने वाले रजी के बारे में पता चला था कि वो गुरुग्राम में विभिन्न निर्माण स्थलों पर एक मजदूर के तौर पर काम कर चुका था। उस वक्त तत्कालीन पुलिस आयुक्त केके राव ने बताया था कि सितंबर में गुरुग्राम जाने से पहले, उसने सड़क के किनारे भोजनालय और जामा मस्जिद के पास एक गेस्ट हाउस में काम किया था। जुलाई तक वो दिल्ली चला गया, उसने नेपाल में भी काम किया था।

पुलिस के सहायक आयुक्त (अपराध) प्रीत पाल सांगवान ने उस वक्ता बताया था कि रज़ी के काम करने का तरीका एक जैसा था। वह अपने पीड़ितों के साथ शराब पीता था, उन्हें छुरा घोंपता था और कुछ मामलों में वो लाशों के टुकड़े भी कर देता था। उन्होंने बताया था कि “उन्हें मारने का उनका कोई मकसद नहीं था, उसे बस लोगों को मारने में मजा आता था, फेमस होने का ये एक आसान तरीका है। वह एक ड्रग एडिक्ट है और पैसे खर्च करता था। वो पैसे अपने शिकार से चुराता था।” कहा जाता है कि इस शख्स ने 20 लोगों को मौत के घाट उतारा था।

Next Stories
1 डॉन की डार्लिंग! अनीता अयूब से अफेयर के किस्से थे मशूहर, काम नहीं दिया तो प्रोड्यूसर की हत्या करवाने का लगा था आरोप
2 हत्या के बाद करता था भांगड़ा! डिस्कस थ्रो में नेशनल चैंपियन के गैंगस्टर बनने की कहानी…
3 10वीं की परीक्षा देने के बाद पिता की हो गई मौत, पंक्चर के दुकान में काम करने से लेकर IAS बनने का सफऱ…
यह पढ़ा क्या?
X