ताज़ा खबर
 

VIDEO: यूपी में मजदूरों को सड़क पर बैठा जबरन ‘केमिकल’ से नहलाया, DM ने कहा – होगी कार्रवाई

Coronavirus, Covid-19 India Lockdown: इस पूरी घटना का एक वीडियो भी वायरल हुआ है। वायरल वीडियो में नजर आ रहा है कि पुलिस युवकों तथा वहां मौजूद बच्चों से आंख बंद करने के लिए कहती है।

शरीर पर छिड़काव किये जाने के दौरान कई बच्चे रोना शुरू कर देते हैं।

Coronavirus, Covid-19 India Lockdown: उत्तर प्रदेश के बरेली जिले में प्रवासी मजदूरों को बीच सड़क पर बैठाकर जबरन नहलाने का वीडियो सामने आने के बाद अब प्रशासन ने कार्रवाई की बात कही है। जिले के जिलाधिकारी ने कहा है कि ‘इस वीडियो की पड़ताल की गई, प्रभावित लोगों का सीएमओ के निर्देशन में उपचार किया जा रहा है। बरेली नगर निगम एवं फायर ब्रिगेड की टीम को बसों को सैनेटाइज़ करने के निर्देश थे, पर अति सक्रियता के चलते उन्होंने ऐसा कर दिया। सम्बंधित के विरुद्ध कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं।’

इससे पहले बरेली के एक बस अड्डे पर कुछ मजदूर बस का इंतजार कर रहे थे। इस बीच वहां पुलिस पहुंच गई। पुलिस ने सभी मजदूरों को एक कतार में बैठने का निर्देश दिया और फिर उन्हें फुव्वारे से नहलाया गया। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मजदूरों को सोडियम हाईपोक्लोहाइड युक्त पानी से नहालाय गया है।

इस पूरी घटना का एक वीडियो भी वायरल हुआ है। वायरल वीडियो में नजर आ रहा है कि पुलिस युवकों तथा वहां मौजूद बच्चों से आंख बंद करने के लिए कहती है। इस बीच जब इन लोगों पर इस केमिकल का छिड़काव किया जाता है तब कुछ बच्चे रोने लगते हैं।

वो आंख में जलन होने की शिकायत करने लगते हैं और इधर-उधऱ भागने लगते हैं। पुलिस-प्रशासन के इस कृत्य का वीडियो सामने आने के बाद राजनीति से जुड़े नेताओं ने भी इसकी निंदा की है। कांग्रेस महासचिव ने इसपर ट्वीट करते हुए लिखा कि ‘यूपी सरकार से गुजारिश है कि हम सब मिलकर इस आपदा के खिलाफ लड़ रहे हैं लेकिन कृपा करके ऐसे अमानवीय काम मत करिए…

मजदूरों ने पहले से ही बहुत दुख झेल लिए हैं…उनको केमिकल डाल कर इस तरह नहलाइए मत। इससे उनका बचाव नहीं होगा बल्कि उनकी सेहत के लिए और खतरे पैदा हो जाएंगे।’

प्रशासन की इस कार्रवाई की निंदा करते हुए सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सवाल पूछते हुए कहा, ‘यात्रियों पर सेनिटाइज़ेशन के लिए किए गए केमिकल छिड़काव से उठे कुछ सवाल, क्या इसके लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन के निर्देश हैं? केमिकल से हो रही जलन का क्या इलाज है? भीगे लोगों के कपड़े बदलने की क्या व्यवस्था है? साथ में भीगे खाने के सामान की क्या वैकल्पिक व्यवस्था है।’

आपको बता दें कि देश भर में लॉकडाउन होने के बाद से ही कई मजदूर अलग-अलग राज्यों से अपने गृहराज्य लौटने की कोशिश में हैं। वाहन ना मिलने से कई लोगों ने सैकड़ों किलोमीटर का सफर पैदल भी तय किया है। केंद्र सरकार ने कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन का ऐलान किया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 यूपी: 2 मस्जिदों में 19 विदेशी मौलवियों के मिलने से हड़कंप, रिपोर्ट दर्ज कर पुलिस ने शुरू की जांच
2 प्रधानमंत्री राहत कोष के नाम फर्जी अकाउंट का खुलासा, ‘PMCARES@SBI’ और ‘PMCARE@SBI’ में कौन है असली? जान लीजिए
3 Coronavirus, Covid-19 India Lockdown: कोरोना से हुई मौत तो लोगों ने कब्रिस्तान में दफनाने से रोका, संक्रमण फैलने के डर से थे आशंकित