ताज़ा खबर
 

जयपुर में रामदेव, आचार्य बालकृष्ण समेत 5 पर FIR दर्ज, अरबों कमाने के लिए कोरोना की फर्जी दवा बनाने का आरोप

बलराम जाखड़ ने अपनी एफआईआर में कहा है कि फर्जी दवाई बनाकर अरबों रुपए कमाने के मकसद से 'कोरोनिल' दवा बनाने का दावा किया गया था।

crime, crime news‘कोरोनिल’ के विज्ञापन पर पहले से ही रोक लगा दी गई है। फोटो सोर्स – ANI

कुछ ही दिनों पहले योगगुरु रामदेव ने कोरोना के इलाज में 100 फीसदी रिकवरी रेट का दावा करते हुए ‘कोरोनिल’ दवाई लॉन्च की थीं। लेकिन दवा लॉन्च होने के बाद इस बात को लेकर विवाद हो गया कि पतंजलि ने इस दवा को लॉन्च करने की अनुमति संबंधित मंत्रालय से नहीं ली थी और साथ ही साथ इसकी विश्वसनियता पर भी सवाल उठाए जा रहे हैं।

रामदेव समेत 5 पर FIR: अब राजस्थान की राजधानी जयपुर में कोरोना वायरस की दवा के तौर पर ‘कोरोनिल’ का भ्रामक प्रचार करने के आरोप में रामदेव और अन्य चार लोगों पर एफआईआर दर्ज कराई गयी है। रामदेव के अलावा जिन चार लोगों पर केस दर्ज हैं, उनमे आचार्य बालकृष्ण का नाम भी है। इसके अलावा वैज्ञानिक अनुराग वार्ष्णेय, निम्स के अध्यक्ष डॉ. बलबीर सिंह तोमर और निदेशक डॉ. अनुराग तोमर आरोपी बनाए गए हैं। ये शिकायत वकील बलराम जाखड़ ने की है।

फर्जी दवा बनाने का आरोप: बलराम जाखड़ ने अपनी एफआईआर में कहा है कि फर्जी दवाई बनाकर अरबों रुपए कमाने के मकसद से ‘कोरोनिल’ दवा बनाने का दावा किया गया था। इन सभी के खिलाफ धारा 188, 420, 467, 120बी, भादस संगठित धारा 3, 4, राजस्थान एपीडेमिक डिजीज ऑर्डिनेंस 2020, धारा 54, आपदा प्रबंधन अधिनियम आदि आपराधिक धाराओं और ड्रग्स एंड मेजिक रेमेडीज एक्ट 1954 के अधीन कार्रवाई की मांग की गई है।

विज्ञापन पर लगी है रोक: इससे पहले बाबा रामदेव के खिलाफ बीते मंगलवार को जयपुर के गांधी नगर थाने में परिवाद दर्ज किया गया था। परिवाद जयपुर के डॉक्टर संजीव गुप्ता ने यह कहते हुए दर्ज कराया गया था कि कोरोना की दवा बनाने का दावा करके रामदेव लोगों को गुमराह कर रहे हैं।

यह भी जानना जरुरी है कि राजस्थान की कांग्रेस सरकार पहले ही दवा के इस्तेमाल और प्रचार पर रोक लगाते हुए कानून कार्रवाई की बात कह चुकी है। केंद्रीय आयुष मंत्रालय की ओर से भी इस दवा के प्रचार और ब्रिकी पर पहले ही रोक लगाई जा चुकी है।

‘कोरोनिल’ को लेकर विवाद होने के बाद निम्स के चेयरमैन डॉ. बीएस तोमर ने कोरोना के इलाज के दवा के ट्रायल से पल्ला झाड़ लिया था और कहा था कि ये दवा कैसे बनी इस बारे में रामदेव ही बता सकते हैं। वहीं ट्रायल को लेकर उन्होंने कहा था कि हमने इम्यूनिटी बूस्टर के तौर पर ट्रायल के दौरान अश्वगंधा, गिलोय और तुलसी दिया था। परीक्षण के लिए CTRI से अनुमति ली थी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 गुजरात: लाला भाई पटेल निकला ‘असलम शेख’, ATS ने बेरहम हत्यारे को 9 साल बाद यूं दबोचा
2 मशहूर धर्मगुरु महाराज इंदुरिकर के खिलाफ PCPNDT एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज, सत्संग में भ्रूण को लेकर कही थी यह बात…
3 लॉकडाउन के दौरान पुलिस कॉन्स्टेबल ने किया लड़की का रेप, 13 साल की नाबालिग की शिकायत पर आऱोपी गिरफ्तार