ताज़ा खबर
 

2 बेरोजगार दोस्तों ने यू-ट्यूब पर सीखा नकली नोट छापना, तीन गुने में बदलते थे असली करंसी

लुधियाना पुलिस ने दो दोस्तों के एक ऐसे गिरोह को पकड़ा है, जो नकली नोट छापकर उसे नशा तस्करों के जरिए बाजार में चलवाता था। एसटीएफ ने गुप्त सूचना पर पकड़ा तो बड़े रैकेट का खुलासा हुआ। पुलिस गिरोह के अन्य लोगों को पकड़ने में जुटी है।

Author लुधियाना | Published on: September 19, 2019 9:43 PM
प्रतीकात्मक तस्वीर (फोटो सोर्स – इंडियन एक्सप्रेस)

लुधियाना में  पुलिस ने दो ऐसे दोस्तों को पकड़ा है जो नकली नोट छापकर उसे नशीला पदार्थ खरीदने और महंगे दाम पर बेचने का काम करते थे। इस काम को दोनों पिछले एक साल से करके भारी कमाई कर रहे थे। मजे की बात यह है कि नकली नोट छापने का तरीका यू-ट्यूब से सीखा। पुलिस ने उनके पास से 1.69 लाख की करंसी भी बरामद की। गुप्त सूचना पर एसटीएफ ने स्थानीय पुलिस के साथ छापा मारकर दोनों को पकड़ा। नशीले पदार्थों की डिलीवरी इतनी तेजी से की जाती है कि वहां पैसे देखने और गिनने तक का समय नहीं होता। यही कारण था कि इसका चलन ज्यादा हो रहा था।

असली के बदले देते थे तीन गुना नकली नोट : जांच अधिकारी सब इंस्पेक्टर अजायब सिंह के मुताबिक बलविंदर गैरी दसवीं पास है और हरविंदर सिंह हैरी 12वीं पास है। दोनों बेरोजगार थे और काफी समय से खाली बैठे थे। इसी दौरान अचानक एक दिन यू ट्यूब में नकली नोट तैयार करने का वीडियो देखा तो दोनों इस काम में हाथ आजमाना शुरू किया। नकली नोट मार्केट में नहीं चला तो वे नशा तस्करों के साथ मिल गए। दोनों दोस्त असली नोट के बदले तीन गुना नकली नोट नशा तस्करों को मुहैया करवाते थे। इन नकली नोटों से दिल्ली से नशा खरीद कर यहां महंगे भाव में बेचते थे।

National Hindi News, 19 September 2019 LIVE Updates: देश की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

एक घर की छत पर बने कमरे में चल रहा था धंधा : जिले के मुल्लांपुर के नजदीक गांव रकबा स्थित एक घर की छत पर बने कमरे में चल रहे इस कारोबार की किसी को जानकारी नहीं थी। मामले का खुलासा तब हुआ जब एसटीएफ ने दो दिन पहले सतपाल सिंह उर्फ सत्ता नाम के एक युवक को एक किलो हेरोइन के साथ पकड़ा। पूछताछ में सामने आया कि वह नकली नोटों से नशा खरीदता था और इसके लिए वह मुल्लांपुर दाखा के नजदीकी गांव रकबा के दो युवकों से नकली नोट लेता था। एसटीएफ ने इस संबंध में मुल्लांपुर की पुलिस को जानकारी दी। दोनों की साझी टीम ने मंगलवार की देर शाम गांव रकबा में डेरा शहीद सिंघां के पास बने घर में छापामारी की तो वहां छत पर बने कमरे से हरविंदर सिंह हैरी और बलविंदर सिंह गैरी को पकड़ा।

Mumbai Rains, Weather Forecast Today Live Updates: मौसम से जुड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

कमरे में मिला प्रिंटर, स्कैनर और इंक  कमरे में प्रिंटर और स्कैनर, इंक और नोट बनाने के लिए इस्तेमाल होने वाला कागज भी बरामद हुआ। पुलिस का कहना है कि सभी नोट 100 और रुपए के हैं। आरोपितों से पूछताछ की जा रही है। यह भी पता लगाया जा रहा है कि इस धंधे में और कितने लोग शामिल हैं।

पुलिस को गिरोह में और भी लोगों के होने की आशंका : नशा तस्करी में नकली नोटों के इस्तेमाल होने की बात सामने आने पर पुलिस सकते में आ गई है। एसटीएफ चीफ हरबंस सिंह के अनुसार जांच में पता चला कि नकली नोटों के सहारे नशा खरीद तस्कर तीन गुना फायदा ले रहे थे। सतपाल कुछ समय पहले एक किलो हेरोइन और आइस के साथ पकड़े गए रविंदर का साथी था। वे नकली नोटों को असली नोटों में मिक्स कर नशा खरीदने के लिए इस्तेमाल करते थे। यह पता लगाना बहुत जरूरी है कि वे कितनी करंसी इस तरह से चला चुके हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Gujarat: आदिवासी कपल को ग्रामीणों ने पीटा, फिर युवती को कंधे पर बैठा युवक से लगवाए गांव के चक्कर
2 विदेश में नौकरी का झांसा देकर 30 लोगों से ठगे साढ़े 22 लाख रुपए, टूरिस्ट वीजा व फर्जी ऑफर लेटर थमा भेज देते थे Dubai
3 पाकिस्तान के लिए करतारपुर कॉरिडोर की जासूसी कर रहा था शख्स, 10 लाख रुपए में किया था सौदा