scorecardresearch

प्रयागराज: पांच-छह दिनों तक रखा रहा शव, तंत्र-मंत्र से मरी हुई लड़की को जिंदा करने की कोशिश, परिवार पीता रहा गंगाजल

Prayagraj: प्रयागराज में पांच-छह दिन से एक लड़की की लाश को तंत्र-मंत्र कर फिर से जिंदा करने का प्रयास किया जा रहा था। घर के पास से बदबू आने पर ग्रामीणों को शक हुआ जिसके बाद सूचना पुलिस को दी गई थी।

UP | Prayagraj | superstition | Tantra-Mantra | प्रयागराज | तंत्र-मंत्र
प्रतीकात्मक तस्वीर। (Photo Credit – Freepik)

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज जिले से अजीबोगरीब मामला सामने आया है। यहां एक घर में एक लड़की की लाश मिली, जिसे परिवार वाले तंत्र-मंत्र के जरिये जीवित करने की कोशिश में लगे हुए थे। मामले में खुलासा तब हुआ जब घर के आसपास से ग्रामीणों को भीषण दुर्गंध आने लगी। इसके बाद पुलिस को सूचना दी गई और फिर परिजनों को समझकर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया था।

मिली जानकारी के मुताबिक, मामला प्रयागराज जिले के करछना थाने के डीहा गांव का है। इसी गांव में अभयराज यादव का परिवार रहता है, करीब पांच-छह दिन पहले यादव की 18 वर्षीय बेटी की मौत हो गई थी। बताया जा रहा है बेटी मौत से पहले बीमार थी, जिसे परिजन गंगाजल और झाड़-फूंक के जरिये ठीक करने की कोशिश कर रहे थे। यह प्रक्रिया मौत के बाद भी जारी रही और उसका अंतिम संस्कार नहीं किया गया।

डीहा गांव वालों का कहना है कि परिजन उस शव के साथ तंत्र-मंत्र कर रहे थे। परिजनों का मानना था कि जिन देवी पर उन्हें विश्वास है वह आएंगी और बेटी को जिंदा कर देंगी। दो-तीन दिन यह सब चलता रहा लेकिन जब गांव वालों को घर के आसपास से बदबू आने लगी तो उन्होंने स्थानीय पुलिस को सूचना दी। सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने परिजनों से दरवाजा खोलने का कहा तो वह विरोध करने लगे।

काफी मशक्कत के बाद जब दरवाजा खुला तो सड़ा हुआ शव देखकर पुलिस भी चौंक गई। पुलिस के मुताबिक, परिवार के सभी लोग मानसिक रूप से स्थित नहीं हैं। वह बीते कई दिनों से तंत्र-मंत्र के सहारे बेटी को जीवित करने में लगे हुए थे। यहां तक कि परिजन खाना भी नहीं खा रहे थे। मृतका के पिता अभयराज यादव रोज सुबह गंगा स्नान करने जाते थे और जो गंगाजल लाते थे, उसे ही सब पीते थे।

ग्रामीणों ने बताया कि अभयराज का परिवार बीते कुछ समय से अजीब हरकतें करता रहता। खेत थे तो वह अन्न नहीं उगाते थे। बीते कुछ दिनों से खाने की जगह केवल गंगा जल पीकर ही काम चलाते थे, यहां तक कि बिजली आने पर भी पूरा परिवार अंधेरे में रहता था। इसी कारण परिवार वालों कि स्थिति बिगड़ गई थी। जिसके बाद पुलिस ने स्वास्थ्य विभाग को सूचना देकर सभी को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

पढें जुर्म (Crimehindi News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X