चेन स्नेचरों को पकड़ने गई दो जिलों की पुलिस आपस में भिड़ी, कहासुनी के बाद जमकर हुई धक्कामुक्की

सतना एसपी धर्मवीर यादव ने कहा “सिविल ड्रेस और मिस कम्युनिकेशन के कारण ऐसी स्थिति बनी। मैं दोनों जिलों की पुलिस टीम में शामिल लोगों को ईनाम की राशि देने का आदेश जारी कर रहा हूं।

MP Police, Chain Snatching
6 सितंबर को पन्ना में 2 चैन स्नैचिंग की घटनाएं हुईं। हुलिया के आधार पर जब पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज चेक किए तो वही आरोपी निकले, जिन्होंने सतना में वारदात की थी। (फोटो- इंडियन एक्सप्रेस, प्रतीकात्मक)

मध्य प्रदेश पुलिस का एक कारनामा सोशल मीडिया में वीडियो के रूप में खूब वायरल हो रहा है। यह वीडियो है सतना और पन्ना जिले की पुलिस का, जो अपराधियों को पकड़ने के लिए आपस में ही भिड़ गईं। सतना पुलिस को पता चला की जिले में हुई चेन झपटमारी की घटनाओं में शामिल अपराधियों ने पन्ना में भी वारदात को अंजाम दिया है। इस पर जिले के एसपी ने एक टीम बनाकर पन्ना भेजा ताकि चोरों को पकड़ा जा सके।

दरअसल 5 सितंबर को सतना में चैन स्नैचिंग की चार घटनाएं हुई थीं। एसपी धर्मवीर यादव सीसीटीवी फुटेज के आधार पर आरोपियों गिरफ्तारी के लिए उन पर 10 हजार रुपए का ईनाम घोषित कर दिया था। 6 सितंबर को पन्ना में 2 चैन स्नैचिंग की घटनाएं हुईं। हुलिया के आधार पर जब पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज चेक किए तो वही आरोपी निकले, जिन्होंने सतना में वारदात की थी। इसलिए पन्ना एसपी धर्मराज मीणा ने भी कोतवाली टीआई अरुण सोनी के नेतृत्व में एक टीम गठित कर दी।

यह भी पढ़े: Delhi: महिला पत्रकार के साथ स्नैचिंग, सरेआम मोबाइल छीनकर भाग गए बदमाश

इस बीच पन्ना पुलिस को सूचना मिली कि आरोपी सतना के चित्रकूट से मझगंवा के रास्ते पहाड़ीखेरा होते हुए पन्ना आए हैं। पुलिस की जांच पड़ताल में पता चला कि आरोपी वहां से चित्रकूट के पीली कोठी आश्रम के पास पहुंच चुके हैं। पन्ना पुलिस चित्रकूट पहुंची और उन्हें गिरफ्तार कर ली। इसी दौरान वहां पर सतना पुलिस भी पहुंच गई और अपना इलाका बताते हुए उनको अपने कब्जे में लेने की कोशिश की।

सतना पुलिस सादी वर्दी में थी, इस कारण पन्ना कोतवाली टीआई और देवेंद्र नगर थाना प्रभारी ने सतना पुलिस से उनकी बहस शुरू हो गई। जवानों और अधिकारियों में जमकर धक्कामुक्की भी हुई। वरिष्ठ अधिकारियों के हस्तक्षेप के बाद पन्ना पुलिस को पता चला कि सादी वर्दी में सतना पुलिस है तो मामला शांत हुआ। इस पर आरोपियों को नयागांव पुलिस को सौंप दिया गया।

इस मामले में सतना एसपी धर्मवीर यादव ने कहा, “सिविल ड्रेस और मिस कम्युनिकेशन के कारण ऐसी स्थिति बनी। मैं दोनों जिलों की पुलिस टीम में शामिल लोगों को ईनाम की राशि देने का आदेश जारी कर रहा हूं। अपराध पहले हमारे जिले मे घटित हुआ था, लिहाजा हमारे चार थानों की पुलिस आरोपियों से पहले पूछताछ करेगी। उसके बाद आरोपियों को पन्ना पुलिस को सौंप दिया जाएगा।”

पन्ना एसपी धर्मराज मीणा ने कहा कि कार्रवाई को लेकर सतना एसपी से लगातार बातचीत चल रही थी। यह दोनों जिलों की पुलिस का साझा कार्यक्रम था। दस हजार का ईनाम दोनों जिलों की संयुक्त टीम को प्रदान किया जाएगा।

पढें जुर्म समाचार (Crimehindi News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट