ताज़ा खबर
 

पीएम के संसदीय क्षेत्र में मानव तस्‍करी का जाल, बीजेपी यूथ विंग का पूर्व नेता गिरफ्तार

भाजपा के युवा मोर्चा के पूर्व नेता को पुलिस ने मानव तस्करी के आरोपों में गिरफ्तार किया है। जिस राज से पर्दा हटा है उसे देखकर लगता है कि वाराणसी को मानव तस्करी के हब के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है।

मानव तस्कर अब वाराणसी को बतौर ट्रांजिट प्वाइंट इस्तेमाल कर रहे हैं। Express Photo By Anand Singh.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी से बड़ी खबर आ रही है। भाजपा के युवा मोर्चा के पूर्व नेता को पुलिस ने मानव तस्करी के आरोपों में गिरफ्तार किया है। जिस राज से पर्दा हटा है उसे देखकर लगता है कि वाराणसी को मानव तस्करी के हब के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है। ​गिरफ्तार किए गए वाराणसी के भारतीय जनता युवा मोर्चा के पूर्व महासचिव का नाम जय सिंह है। उसकी गिरफ्तारी बीते 25 जुलाई को की गई थी। पुलिस को जानकारी तब हुई जब दो उसके शिकंजे से दो नेपाली महिलाएं मानव तस्करों के शिकंजे से बचकर निकल गईं थीं। बचाई गई 38 वर्षीय महिला ने उस पर अपनी और 18 अन्य लड़कियों की तस्करी का भी आरोप लगाया था। दोनों महिलाओं ने नेपाल के बरदिया जिले के गुलारिया पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज करवाई थी।

दोनों महिलाओं का आरोप था कि कुछ लोग उन्हें और 18 अन्य महिलाओं को खाड़ी देशों में नौकरी का आॅफर देकर 6 जुलाई को वाराणसी लाए थे। यहां पर उन्हें देह व्यापार में धकेल दिया गया। वे अप्रैल के दूसरे हफ्ते में किसी तरह से बचकर नेपाल वापस पहुंच गईं और पुलिस को सूचना दे दी। उन्होंने यूपी के महाराजगंज बॉर्डर से नेपाल में प्रवेश किया था। ये बॉर्डर वाराणसी से 250 किमी दूर है। महिलाओं की सूचना के आधार पर नेपाल और भारत की पुलिस ने संयुक्त आॅपरेशन चलाकर 24 जुलाई को उन्हें गिरफ्तार किया था। शिवपुर इंस्पेक्टर विजय बहादुर सिंह ने बताया कि पुलिस टीम को प्रेग्नेंसी जांच किट, महिलाओं के जूते और महिलाओं के अंतवस्त्र मिले थे।

मानव तस्करी के आरोपी जय सिंह की दी हुई जानकारी के आधार पर यूपी पुलिस की अपराध शाखा ने चार अन्य कथित तस्करों को नई दिल्ली से दो दिन पहले गिरफ्तार किया था। भाजपा नेता इस मामले पर खुलकर बात करने के लिए तैयार नहीं हुए। लेकिन वाराणसी के एक पार्टी नेता ने नाम प्रकाशित न करने की शर्त पर द टेलीग्राफ को बताया कि जय सिंह वाराणसी के शिवपुर इलाके में ब्याज पर पैसे देने का काम करता था। वह अपने आधे घर को बतौर हॉस्टल इस्तेमाल करता था।

इस हॉस्टल में सिर्फ महिलाएं, जिनमें अधिकतर नेपाल की होती थीं, रहा करती थीं। वह हर हफ्ते कुछ महिलाओं को यहां से कहीं और शिफ्ट कर देता था और महिलाओं की नई खेप वहां रहने के लिए आ जाया करती थी। हमें कोई अंदाजा नहीं था कि वहां पर असल में चल क्या रहा था। हमने अपने सीनियर्स को इस संबंध में पूरी जानकारी दी है।”

भाजपा के वाराणसी महानगर के महासचिव प्रभात सिंह ने द टेलीग्राफ को बताया, ”ये साफ नहीं है कि जय सिंह कब भाजपा युवा मोर्चा में था। हम खुद भी तय नहीं कर पा रहे हैं कि क्या वह अभी भी हमारा सदस्य है या नहीं। क्योंकि हमारी आॅनलाइन सदस्यता तो हमेशा सबके लिए खुली हुई है। लेकिन मैं भरोसे के साथ इतना कह सकता हूं कि वह हाल के वर्षों में किसी भी भाजपा नेता के संपर्क में नहीं था।”

सोमवार (30 जुलाई) को यूपी के क्राइम ब्रांच ने दिल्ली पुलिस के साथ मिलकर नई दिल्ली के मैदान गढ़ी में छापेमारी की थी। पुलिस ने यहां से गाजीपुर के राजेंद्र यादव, नई दिल्ली के पवन खुराना, काठमांडू की सबीना शाह और बंगाल के सिलिगुड़ी की रहने वाली दीपिका थापा को गिरफ्तार किया था। यहां से 18 महिलाओं को भी बचाया गया था। इन महिलाओं में 16 नेपाली थीं और 2 सिलिगुड़ी की थीं। बचाई गई सभी महिलाएं 17 से 25 वर्ष की उम्र की थीं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App