ताज़ा खबर
 

पत्थलगड़ी समर्थकों ने कर दी 7 ग्रामीणों की हत्या, जंगल में शव फेंक हो गए फरार

पुलिस अधीक्षक इंद्रजीत महथा ने बताया कि आरोपियों के खिलाफ सर्च ऑपरेशन जारी है। उनके मुताबिक अभी तक एक भी मृतक का शव बरामद नहीं हो सका है। पुलिस को सूचना मिली है कि सभी के शव जंगल में फेंके गए हैं।

घटना का पुलिस जांच कर रही है। (indian express file)

झारखंड में नक्सल से प्रभावित पश्चिमी सिंहभूम में गांव के उपमुखिया समेत 7 लोगों की हत्या कर दी गई। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इन सिलसिलेवार हत्याओं का आरोप पत्थलगड़ी समर्थकों पर लगा है। आरोप है कि पत्थलगड़ी समर्थकों की एक बैठक में विवाद के बाद इन लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया। घटना जिले के गुलीकेरा ग्राम पंचायत के गांव बुरुगुलीकेरा की है।

एक भी शव बरामद नहींः मृतकों में उपमुखिया जेम्स बूढ़ समेत सात लोग शामिल हैं, वहीं दो लोगों के गायब होने की भी खबर मिली है। पुलिस ने सूचना मिलने पर मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। पुलिस अधीक्षक इंद्रजीत महथा ने बताया कि आरोपियों के खिलाफ सर्च ऑपरेशन जारी है। उनके मुताबिक अभी तक एक भी मृतक का शव बरामद नहीं हो सका है। पुलिस को सूचना मिली है कि सभी के शव जंगल में फेंके गए हैं। यह इलाका नक्सलवाद के सबसे ज्यादा पीड़ित क्षेत्रों में माना जाता है।

Hindi News Live Hindi Samachar 22 January 2020: देश-दुनिया की तमाम बड़ी खबरे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करे

जमीन की जंग में शुरू हुआ था आंदोलनः जमीन की लड़ाई को लेकर आदिवासियों ने यह आंदोलन शुरू किया था, इसका असर झारखंड में हालिया विधानसभा चुनाव में भी देखने को मिला। राज्य के राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि पत्थलगड़ी के प्रति सुस्त रवैये के चलते बीजेपी को नुकसान उठाना पड़ा है।

क्या है पत्थलगड़ी आंदोलनः पत्थलगड़ी का मतलब पत्थरों पर खुदाई से है। झारखंड-छत्तीसगढ़ जैसे नक्सल प्रभावित राज्यों में आदिवासियों ने यह आंदोलन चला रखा है। सबसे ज्यादा असर झारखंड के दूरस्थ इलाकों में देखा जाता है। इन इलाकों में रहने वाले लोग ‘ग्रामसभा का शासन’ ही सर्वोपरि मानते हैं। इनके लिए सरकारी आदेशों और संस्थानों की कोई मान्यता नहीं है। गांव के बाहर ही पत्थरों पर खुदवाकर शासन संबंधी नियमों की सूचना दी जाती है। इसके समर्थकों का मानना है कि वो देश के असली मालिक हैं, उन पर कोई शासन नहीं कर सकता।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 मुफ्त बिरयानी-कॉफी देने से मना किया तो तोड़ डाला कैश काउंटर, कर्मचारियों को पीटकर मचाई लूट
2 प्री-बोर्ड परीक्षा में नकल करने से रोका तो भड़क गया 10वीं का छात्र, टीचर को चाकू और लाठी से किया लहूलुहान
3 रिश्वत नहीं मिलने पर VDO और ग्राम प्रधान की करतूत? बर्थ सर्टिफिकेट में 4 साल के बच्चों की उम्र कर दी 104 वर्ष
ये पढ़ा क्या?
X