ताज़ा खबर
 

Hyderabad: जादू-टोने के शक में ऑटो ड्राइवर को पहले कुल्हाड़ी से काटा, फिर जिंदा जला दिया

हैदराबाद के एक गांव में एक ऑटो ड्राइवर युवक को गांव की एक महिला की मौत पर रिश्तेदारों ने उसकी चिता पर जिंदा जला दिया। उनको शक था कि युवक ने उस पर जादू-टोना कर दिया है। इससे उसकी मौत हुई।

प्रतीकात्मक तस्वीर (फोटो सोर्स – इंडियन एक्सप्रेस)

दो दिन पहले गायब हुए 26 वर्षीय एक ऑटो ड्राइवर आंजनेयुलु को उसी गांव की एक मृत महिला के परिवार वालों ने उसकी चिता पर ही जिंदा जलाकर मार डाला। परिवार वालों को शक था कि वह जादू-टोना करता है और इसी वजह से महिला की मौत हुई। घटना बुधवार को हैदराबाद के शामिरपेट के निकट अद्रासपल्ले गांव में हुई। मामले में पुलिस ने आरोपियों के परिवार की चार महिलाओं को गिरफ्तार किया है।मारने से पहले हमलावरों ने उसे कुल्हाड़ी और पत्थरों से मारा था। पुलिस की पूछताछ में उन लोगों ने हत्या की बात कबूली। मामले में धारा 302 के तहत हत्या का केस दर्ज किया गया है।

रात आठ बजे गायब हुआ था : मृत ऑटो ड्राइवर का भाई बी गणेश ने बताया कि बुधवार रात करीब आठ बजे आंजनेयुलु घर से निकलने के बाद गायब हो गया। करीब आधे घंटे बाद ग्रामीणों ने उसको जादू-टोना के नाम पर जलाए जाने की सूचना दी। गणेश और परिवार के दूसरे सदस्य गांव के श्मशान स्थल पर गए और वहां उन्हें मृत महिला लक्ष्मी (45) की चिता के पास उसके जूते मिले।

National Hindi News, 20 September 2019 LIVE Updates: दिनभर की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

परिजनों ने बॉडी को जलते देख पहचान की : पेटबशीराबाद के सहायक पुलिस कमिश्नर एवीआर नरसिम्हा राव ने बताया कि रात दस बजे तक चिता में शरीर का कुछ हिस्सा जल रहा था। परिजनों ने उसे अलग कर शक जताया कि यह आंजनेयुलु है। उन्होंने आरोप लगाया कि लक्ष्मी के परिवार वालों ने ही उसे चिता पर जिंदा जलाया है। उनको लगता था कि उसके जादू-टोना करने से ही उसकी मौत हुई है।

Mumbai Rains, Weather Forecast Today Live Updates: भारी बारिश के रेड अलर्ट से भयभीत हैं मुंबई वाले, स्कूल बंद, सड़कों पर सन्नाटा

पूछताछ में हत्या की बात कबूली : शामिरपेट इंस्पेक्टर बी नवीन रेड्डी ने बताया कि उन्होंने ने चार संदिग्ध महिला रिश्तेदारों जी बलराम (52), जी किस्तैयाह (55), बी श्रीरामुलु (35), और जी नरसिम्हा (30) को गिरफ्तार किया। पूछताछ में उन लोगों ने बताया कि उन्हें शक था कि लक्ष्मी की मौत जादू-टोने से हुई है और इसीलिए वे चिता के पास इस बात का इंतजार कर रहे थे कि आंजनेयुलु आएगा और कुछ गुप्त पूजा करेगा। बालानगर के डीसीपी पीवी पद्मजा ने घटनास्थल का दौरा कर बताया कि उन लोगों ने चिता के पास बने टैंक पर आंजनेयुलु को देखा तो पकड़ लिया। इसके बाद रिश्तेदारों और गांव वालों को फोन से बताया। उन लोगों ने उसे छड़ी, कुल्हाड़ी और पत्थरों से मारा। बाद में उसे लक्ष्मी की जलती चिता पर फेंककर मार डाला।

महिला की लंबी बीमारी के बाद हुई थी मौत : महिला की मंगलवार रात उसमानिया हास्पिटल में कई दिनों के इलाज के बाद मौत हो गई थी। साइबराबाद पुलिस के मुताबिक लक्ष्मी पिछले पांच वर्षों से बीमार थी, तथा ब्लड प्रेशर, डायबिटीज और कीडनी समेत कई बीमारियों से पीड़ित थी। घटनास्थल पर पुलिस को खून लगा रूमाल, खून से सनी मिट्टी और जूते मिले। डीसीपी ने बताया कि सभी चीजें फॉरेंसिक जांच के लिए जब्त कर ली गई हैं। फॉरेंसिक एक्सपर्ट ने सभी चीजें गांधी हॉस्पिटल भेज दिया। इंस्पेक्टर ने बताया कि आंजनेयुलु के परिजनों के ब्लड सैंपल डीएनए जांच के लिए भेजे जाएंगे, जिससे यह पता चल सके कि जली हुई बॉडी पार्ट्स उसी के हैं।

Next Stories
1 SIT का दावा, स्वामी चिन्मयानंद ने कबूला जुर्म, कहा- अपने किए पर शर्मिंदा हूं
2 निर्वस्त्र होकर लॉ स्टूडेंट से कराता था मसाज, शर्मिंदा हूं; चिन्मयानंद ने कबूला अपना जुर्म
3 पेंट के बंद गोदाम में 2 छात्रों ने किया सुसाइड, नोट में लिखा- सॉरी मम्मी-पापा, I Love You फैमिली
कोरोना LIVE:
X