ताज़ा खबर
 

हो जाइए अलर्ट! देर रात मोबाइल पर आईं 6 मिस्ड कॉल्स और खाते से उड़ गए 1.86 करोड़ रुपये

व्यापारी को दो नंबरों से मिस्ड कॉल आई थीं, जिनमें से एक का कोड +44 था जोकि यूनाइटेड किंगडम का है। सुबह व्यापारी ने उन नंबरों पर कॉल करने की कोशिश की तो उसे पता चला कि उसके सिम कार्ड ने काम करना बंद कर दिया था।

तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है। (Image Source: pixabay)

मुंबई के माहिम में एक व्यापारी को मोबाइल फोन पर मिस्ड कॉल्स के जरिये लंबा चूना लगा है। हैकर्स ने वी शाह नाम के व्यापारी के खाते से 1.86 करोड़ रुपये उड़ा दिए। मुंबई मिरर की खबर के मुताबिक 27-28 दिसंबर की दरमियानी रात व्यापारी के मोबाइल फोन पर 6 मिस्ड कॉल्स आई थीं और फिर उसकी सिम डीएक्टिवेट हो गई थी। हैकर्स ने व्यापारी के नाम पर नया सिन कार्ड लेकर देशभर में 14 खातों में पैसा ट्रांसफर कर दिया। रिपोर्ट के मुताबिक व्यापारी को दो नंबरों से मिस्ड कॉल आई थीं, जिनमें से एक का कोड +44 था जोकि यूनाइटेड किंगडम का है। सुबह व्यापारी ने उन नंबरों पर कॉल करने की कोशिश की तो उसे पता चला कि उसके सिम कार्ड ने काम करना बंद कर दिया था। मोबाइल सर्विस प्रोवाइडर ने उसे बताया कि उसने नई सिम की रिक्वेस्ट की थी जिससे सिम डीएक्टिवेट कर दी गई। व्यापारी के मुताबिक उसने नई सिम के लिए कोई रिक्वेस्ट नहीं की थी। उसे जब धोखाधड़ी का शक हुआ को फौरन बैंक की तरफ भागा। बैंक से पता चला कि उसके कंपनी के खाते से 1.86 करोड़ रुपये निकाल लिए गए।

बैंकवालों ने व्यापारी को बताया कि 28 ट्रांजेक्शन के द्वारा पैसा देशभर में 14 खातों में ट्रांसफर किया गया है। बैंक 20 लाख रुपये बचाने में सक्षम रहा लेकिन बाकी रुपये तब तक निकाले जा चुके थे। घटना को लेकर करीब एक हफ्ता हो गया है और व्यापारी शाह को यकीन नहीं हो रहा है कोई कैसे केवल मिस्ड कॉल्स के जरिये खाता खाली कर सकता है। शाह ने मीडिया को बताया, ”मेरे कंपनी का खाता मेरे मोबाइल फोन से लिंक है लेकिन मैंने सपने में भी कभी नहीं सोचा था कि धोखाधड़ीवाले मेरे खाते को इतनी आसानी से खाली कर देंगे।”

शुरुआती जांच में पता चला है कि जालसाज शाह के सिम कार्ड का क्लोन बनाने में सफल रहे थे। मामले में बीकेसी साइबर क्राइम पुलिस ने संबंधित धाराओं में एफआईआर दर्ज की है। पुलिस ने बताया कि प्रारंभिक जांच में पता चला है कि शाह को ‘सिम स्वैप’ जालसाजों के द्वारा निशाना बनाया गया। पुलिस ने बताया, ”हमें संदेह है कि घोटालेबाजों के पास शाह के यूनिक सिम नंबर तक पहुंच थी और उन्होंने सिम स्वैप शुरू किया था। उन्होंने यह सुनिश्चित करने के लिए इसकी भनक शाह को तो नहीं है, देर रात तब फोन किया जब वह साइलेंट मोड पर था।” पुलिस के मुताबिक हैकर्स मालवेयर के जरिये डेटा हासिल करने में सफल रहे होंगे

Next Stories
1 जेल में सिख कैदियों से दूर रखे जाएंगे, सलाखों के पीछे सज्जन कुमार का यूं बीता पहला दिन
2 जब प्रेग्नेंट एक्ट्रेस को बेरहमी से मार घर के बाहर खून से लिख दिया ‘सुअर’
3 बेटी से रेप का कलंक लिए मर गया शख्स, दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा निर्दोष था बाप
ये पढ़ा क्या?
X