ताज़ा खबर
 

मुख्तार अंसारी के चाचा उपराष्ट्रपति और पिता थे नेता, जानिए गैंगस्टर के शूटर बेटे अब्बास का कैसा है खानदान

Mukhtar Ansari son Abbas Ansari house raided: मुख्तार अंसारी को विरासत में एक नामचीन खानदान मिला। लेकिन शायद रसूख में राजनीति के कॉकेटल ने अंसारी को राजनेता से गंभीर अपराधों के आरोपी की श्रेणी में खड़ा कर दिया।

Author Updated: October 18, 2019 4:46 PM
मुख्तार अंसारी के नाना बिग्रेडियर थें।

Mukhtar Ansari son Abbas Ansari house raided:  मुख्तार अंसारी की शख्सियत डॉन, माफिया, गैंगस्टर अपराधी और अन्य कई नामों से मशहूर है। मुख्तार अंसारी की शख्सियत बाहुबली, पूर्व विधायक, डॉन, माफिया, गैंगस्टर, अपराधी और अन्य कई नामों से मशहूर है। उत्तर प्रदेश के मऊ से 5 बार विधायक रह चुके मुख्तार अंसारी 14 साल से जेल में बंद हैं और अब उनके बेटे अब्बास अंसारी के घर से असलहे मिलने के बाद ऐसी आशंका है कि कहीं कानून का शिकंजा उनपर भी ना कस जाए। लेकिन डॉन पिता और शूटर बेटे को छोड़ दें तब मुख्तार अंसारी का फैमिली बैकग्राउंड कुछ और ही कहानी बयां करती है। जी हां, यह बड़ी दिलचस्प बात है कि इस डॉन का खानदानी रसूख जितना बड़ा और गौरवशाली है उतना पू्र्वांचल में शायद ही किसी और परिवार का रहा हो।

चाचा उपराष्ट्रपति पिता नेता: रिश्ते में मुख्तार अंसारी पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी के भतीजे हैं। मुख्तार अंसारी के पिता सुब्हानउल्लाह अंसारी एक साफ-सुथरे छवि वाले कम्यूनिस्ट नेता रह चुके हैं। बेदाग छवि की वजह से ही उन्हें साल 1971 में नगर पालिका चुनाव में निर्विरोध चुना गया था।

दादा सेनानी नाना ब्रिगेडियर: मुख्तार अंसारी के दादा का नाम डॉक्टर मुख्तार अहमद अंसारी था। मुख्तार अहमद अंसारी स्वतंत्रता संग्राम आंदोलन के दौरान 1926-27 में इंडियन नेशनल कांग्रेस के अध्यक्ष रहे और वो गांधी जी के बेहद करीबी माने जाते थे। उनकी याद में दिल्ली की एक रोड का नाम उन्हीं के नाम पर है।

मुख्तार अंसारी के नाना भी बतौर ब्रिगेडियर एक रॉयल लाइफ जीते थे। महावीर चक्र विजेता बिग्रेडियन उस्मान, मुख्तार अंसारी के नाना था। ब्रिगेडियर उस्मान ने न सिर्फ भारतीय सेना की तरफ से नवशेरा की लड़ाई लड़ी बल्कि हिंदुस्तान को जीत भी दिलाई। हालांकि वो खुद इस जंग में हिंदुस्तान के लिए शहीद हो गए थे।

पिता गैंगस्टर बेटा शूटर: जाहिर है मुख्तार अंसारी को विरासत में एक नामचीन खानदान मिला। लेकिन शायद रसूख में राजनीति के कॉकेटल ने अंसारी को राजनेता से गंभीर अपराधों के आरोपी की श्रेणी में खड़ा कर दिया। कहा जाता है कि एक वक्त था जब मऊ में ठेकेदारी, खनन, स्क्रैप, शराब जैसे कारोबार पर अंसारी का एकछत्र राज था। मर्डर, किडनैपिंग और रंगदारी के लिए मुख्तार अंसारी का नाम ही काफी हुआ करता था।

मऊ में दंगा भड़काने के आरोप में मुख्तार ने गाजीपुर पुलिस के सामने सरेंडर किया था। तब ही से वो जेल में बंद है। मुख्तार अंसारी के खिलाफ 40 संगीन मुकदमें दर्ज हैं। लेकिन पिता की इस आपराधिक छवि से दूर बेटे अब्बास अंसारी की पहचान इस खानदान में सबसे अलहदा है।

अब्बास अंसारी शॉट गन शूटिंग के अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी रह चुके हैं। अब्बास अंसारी की गिनती दुनिया के टॉप 10 शूटरों में होती है। शूटिंग में अब्बास अंसारी ने राष्ट्रीय पुरस्कार भी हासिल किये हैं। इसी साल बीते 12 अक्टूबर को लखनऊ की महानगर कोतवाली में आर्म्स एक्ट व धोखाधड़ी का एक केस अब्बास अंसारी के खिलाफ दर्ज हुआ था। इसके बाद लखनऊ पुलिस ने दिल्ली पुलिस की मदद से बसंत कुंज स्थित उनके घर में छापेमारी की। छापेमारी में हथियारों का जखीरा मिला है। (और…CRIME NEWS)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 BTech छात्रा को घर में घुसकर चाकू से गोदा, फिर 8वीं मंजिल की बालकनी से लगा दी छलांग
2 सीनियर्स के शोषण से तंग आ BHEL की महिला अधिकारी ने लगाई फांसी, सुसाइड नोट में लिखा- भद्दी टिप्पणियों संग फोन कराते थे टैप
3 8 लोगों ने गैंगरेप किया और पीट-पीट कर कान डैमेज कर दिया ,KBC तक पहुंची पीड़िता की दास्तान सुन अमिताभ बच्चन स्तब्ध