scorecardresearch

Moosewala Murder Case: जानिए कौन है शार्प शूटर संतोष जाधव, जिसे पुणे पुलिस ने धर दबोचा है

Pune: पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड (Sidhu Moosewala murder case) में संदिग्ध शार्प शूटर संतोष जाधव (Santosh Jadhav) को पुणे से दबोच लिया गया है। संतोष जाधव, मूसेवाला हत्याकांड के ‘संदिग्धों’ में से एक है और साल 2021 की हत्या के मामले में वांछित आरोपी भी है।

Sidhu Moose Wala Death | Sidhu Moose Wala shot Dead | Moose wala post mortem | sidhu moose wala post mortem
सिंगर सिद्धू मूसेवाला की 29 मई को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। (Photo Credit – Instagram/@sidhu_moosewala)

पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड में जिस संदिग्ध शार्प शूटर संतोष जाधव की पुलिस को तलाश थी, उसे पुणे ग्रामीण पुलिस ने दबोच लिया है। संतोष जाधव को साल 2021 में पुणे जिले के मंचर पुलिस थाने में दर्ज एक हत्या के मामले में गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने संतोष जाधव के साथी नवनाथ सूर्यवंशी को भी पकड़ा है। संतोष जाधव को गुजरात के कच्छ जिले के छोटे से गांव मांडवी से गिरफ्तार किया गया है।

कौन है संतोष जाधव: पुणे के रहने वाले संतोष जाधव पर जिले के मंचर थाने में कई आपराधिक मामले दर्ज हैं। बीते दिनों पुलिस अधीक्षक (पुणे जिला) अभिनव देशमुख ने संतोष जाधव के बारे में कहा था कि उन्हें भी मूसेवाला हत्या में जाधव की कथित संलिप्तता के बारे में मीडिया रिपोर्टों से पता चला है। एसपी ने कहा कि जाधव हत्या और हत्या के प्रयास सहित चार मामलों में वांछित आरोपी है, जो कि मंचर थाने में दर्ज है।

लग चुका है मकोका, था फरार: वरिष्ठ अधिकारी ने जानकारी देते हुए कहा कि साल 2021 में मंचर में दर्ज हत्या के मामले में नाम सामने आने के बाद जाधव फरार हो गया था। जबकि, एक मामले में संतोष जाधव के खिलाफ महाराष्ट्र संगठित अपराध नियंत्रण कानून (मकोका) भी लगाया गया था। पुलिस का मानना था कि उसने फरारी राजस्थान और पंजाब जैसे राज्यों में काटी थी और अपराधों में लिप्त रहा था। इसीलिए उसके खिलाफ राजस्थान के गंगानगर में भी हत्या के प्रयास का मामला दर्ज हुआ था।

डॉन गवली गैंग का करीबी: मूसेवाला हत्या के बाद पुलिस को संदेह था कि इस केस में कई सारे राज्यों के शार्प शूटर मिले हुए हैं। जांच-पड़ताल में सौरभ महाकाल और संतोष जाधव का नाम सबसे पहले सामने आया था। संतोष जाधव, डॉन अरुण गवली की गैंग का करीबी है और उस पर अपने प्रतिद्वंदी रहे ओमकार बांखेले उर्फ राण्या की हत्या का भी आरोप है।

शातिर शार्प शूटर: पुलिस सूत्रों के मुताबिक, पुणे में हत्या के मामले में फरारी काटने के दौरान वह राजस्थान व पंजाब जैसे राज्यों में रहा। इसी दौरान संतोष जाधव, लॉरेंस गैंग के संपर्क में आ गया। फिर बिश्नोई गिरोह से जुड़कर भी उसने कई वारदातों को अंजाम दिया। इसी के चलते उसका नाम मूसेवाला हत्याकांड में निकलकर सामने आया था। संतोष बेहद शातिर शार्प शूटर है और सुपारी किलिंग में माहिर माना जाता है।

हत्या से पहले डाला था स्टेटस: पुलिस का मानना था कि साल 2021 में राण्या की हत्या के बाद सौरभ महाकाल ही वह शख्स था, जिसने संतोष जाधव को पनाह दी थी। जाधव, राण्या हत्या के बाद से ही अंडरग्राउंड था। एनडीटीवी की रिपोर्ट ले अनुसार, ओमकार बांखेले उर्फ राण्या की हत्या से पहले संतोष जाधव ने अपने सोशल मीडिया पर स्टेटस डाला था कि ‘सूरज उगते ही तुझे खत्म कर दूंगा’। इसी के जवाब में, राण्या ने लिखा था कि जब मैं संतोष जाधव से मिलूंगा तो ठोक दूंगा। इसके बाद ही एक बाइक सवार शूटर ने राण्या की 1 अगस्त 2021 को दिन-दहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी थी।

पढें जुर्म (Crimehindi News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X