ताज़ा खबर
 

उत्तर प्रदेश: आठ साल के दलित बच्चे का कुकर्म करके मर्डर, पेड़ से झूलती मिली लाश

पीड़ित परिवार वालों ने पुलिस को बतलाया कि उनका बच्चा रविवार को अपने घर से थोड़ी ही दूर बाहर खेल रहा था। तभी पड़ोस में ही रहने वाला देवेंद्र बच्चे को जूस का लालच देकर पास के ही एक दूकान पर ले गया। इसके बाद खेत में ले जाकर देवेंद्र ने मासूम बच्चे के साथ इस घिनौनी घटना को अंजाम दिया और फिर उसकी हत्या कर दी।

प्रतीकात्मक तस्वीर।

उत्तर प्रदेश में एक आठ साल के दलित बच्चे के साथ दरिंदगी का मामला सामने आया है। घटना एटा जिले के फतेहपुर खालसा गांव की है। यहां नाबालिग बच्चे के साथ पहले कुकर्म किया गया और फिर उसकी हत्या कर दी गई। सोमवार (21 मई) की सुबह मासूम बच्चे का शव एक पेड़ से लटका मिला। मिली जानकारी के मुताबिक यह मासूम बच्चा रविवार (20) मई की शाम से ही लापता था। पीड़ित परिवार वालों ने पुलिस को बतलाया कि उनका बच्चा रविवार को अपने घर से थोड़ी ही दूर बाहर खेल रहा था। तभी पड़ोस में ही रहने वाला देवेंद्र बच्चे को जूस का लालच देकर पास के ही एक दूकान पर ले गया। इसके बाद खेत में ले जाकर देवेंद्र ने मासूम बच्चे के साथ इस घिनौनी घटना को अंजाम दिया और फिर उसकी हत्या कर दी। इस मामले में मृतक बच्चे के पिता की शिकायत पर पुलिस ने 28 साल के देवेंद्र को गिरफ्तार किया है।

बच्चे के पिता ने यह भी आरोप लगाया है कि उनके बेटे की हत्या प्रतिशोध की भावना से की गई है। पीड़ित परिवार के मुताबिक मुन्ना नाम के एक शख्स से खेत की कुछ जमीन को लेकर उनका विवाद पिछले काफी दिनों से चल रहा था। मुन्ना ने उनके बेटे को मारने के लिए दस हजार रुपये की फिरौती देवेंद्र को दी थी। जिसके बाद देवेंद्र ने मौका पाकर उनके बच्चे की हत्या कर दी।

इधर इस मामले में निधौली काला थाने की पुलिस का कहना है कि आरोपी देवेंद्र ने अपना जुर्म कबूल कर लिया। उसने पुलिस को बतलाया है कि मुन्ना ने मासूम को मारने के लिए उससे कहा था लेकिन देवेंद्र ने मुन्ना से पैसे लेने की बात से इनकार कर दिया है। पुलिस का यह भी कहना है कि बच्चे के शव को पेड़ से लटकाकर वो इस मर्डर केस को आत्महत्या का रंग देना चाहता था।इस मामले में पुलिस ने मुन्ना और देंवेंद्र दोनों के खिलाफ आईपीसी की धारा 377, 302, 120 B, पॉक्सो समेत कई धाराओं में केस दर्ज किया है। मामले के आरोपी मुन्ना की तलाश अभी जारी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App