ताज़ा खबर
 

आरी से प्रेमिका के 7 टुकड़े कर जला दिया, लहंगे के नाड़े से पकड़ा गया कातिल

घर आने के बाद विनोद सोचने लगा कि आखिर कैसे वो इस लाश को ठिकाने लगाएगा? जमोत्री की लाश 27 घंटे तक बाथरुम में बंद रही। इसके बाद विनोद ने बाजार से आरी, ग्लब्स और पॉलीथीन का थैला खरीदा। घर आकर उसने पहले शराब पी और फिर आरी से जमोत्री के शव के 7 टुकड़े कर दिए।

CRIME NEWS, CRIME, MURDERप्रतीकात्मक फोटो।

उसे यह डर हो गया था कि कहीं उसके अवैध संबंधों का राज उसकी पत्नी के सामने बेपर्दा ना हो जाए। इस राज को उसने कई दिनों तक अपनी पत्नी से छिपाया लेकिन जब यह राज छिपाना मुमकिन ना रहा तो उसने अपनी प्रेमिका को ही रास्ते से हटा देना मुनासिब समझा। इस शख्स ने अपनी प्रेमिका के साथ जो कुछ किया उसे सुनकर आप हैरान रह जाएंगे। यह मामला है छत्तीसगढ़ के कवर्धा जिले का। शादीशुदा और पेशे से बस कंडक्टर विनोद कुमार पांडेय पंडरिया थाना इलाके में रहता था। जिस निजी बस का वो कंडक्टर था वो बस भरतपुर रुट पर चलती थी और एक दिन भरतपुर की ही रहने वाली जमोत्री बाई से विनोद की मुलाकात हुई। साल 2017 में विनोद और जमोत्री की पहली मुलाकात हुई थी और फिर दोनों पहली ही मुलाकात में एक-दूसरे के काफी करीब आ गए। दोनों के बीच प्यार की पींगे बढ़ीं और जल्दी ही दोनों के बीच जिस्मानी संबंध भी बन गए। यहां बता दें कि साल 2009 में जमोत्री की शादी धनसिंह चंद्रवंशी से हुई थी। जमोत्री, धनसिंह की तीसरी पत्नी थी और उम्र में धनसिंह से 20 साल छोटी थी। दोनों को पांच साल एक बच्चा भी है। एक शादीशुदा महिला से अपने संबंधों की सच्चाई विनोद कई दिनों तक अपनी पत्नी से छिपाता रहा।

4 फरवरी, 2019 को जमोत्री भरतपुर स्थित एक क्लीनिक में अपना इलाज कराने पहुंची थी। इत्तिफाक से उस दिन इसी क्लिनिक में विनोद भी अपनी पत्नी का इलाज करा रहा था। पत्नी को अस्पताल में छोड़ विनोद थोड़ी देर के लिए अपने घर गया। लेकिन कुछ ही देर बाद वहां जमोत्री भी पहुंच गई और उसने विनोद पर उसी वक्त शारीरीक संबंध बनाने का दबाव बनाया। लेकिन विनोद इस बात के लिए राजी नहीं हुआ और उसने जमोत्री को वहां से तुरंत चले जाने के लिए कहा लेकिन जमोत्री ने जाने से इनकार कर दिया। पत्नी के सामने अवैध संबंधों का राज खुलने के डर से घबराए विनोद ने उसी वक्त जमोत्री की गला दबाकर उसकी हत्या कर दी। उस वक्त विनोद, जमोत्री के शव को ठिकाने नहीं लगा सका लिहाजा उसने शव को एक बोरे में रख बाथरुम में बंद कर दिया। इस हत्या के बाद विनोद सीधे अस्पताल पहुंचा और अपनी पत्नी को उसके मायके में ले जाकर छोड़ दिया।

वापस घर आने के बाद विनोद सोचने लगा कि आखिर कैसे वो इस लाश को ठिकाने लगाएगा? जमोत्री की लाश 27 घंटे तक बाथरुम में बंद रही। इसके बाद विनोद ने बाजार से आरी, ग्लब्स और पॉलीथीन का थैला खरीदा। घर आकर उसने पहले शराब पी और फिर आरी से जमोत्री के शव के 7 टुकड़े कर दिए। शव के टुकड़े करने के बाद उसने शरीर के अंगों को अलग-अलग जगह रख उन्हें जला दिया। इधर जमोत्री के घर वापस नहीं आने पर घरवालों ने थाने में उसकी गुमशुदगी की शिकायत दर्ज कराई।

विनोद ने अपने जुर्म को छिपाने की भरपूर कोशिश की थी। लेकिन कहते हैं कि जुर्म के पांव ज्यादा मजबूत नहीं होते। जमोत्री के शरीर के कुछ टुकड़े और कपड़े पूरी तरह नहीं जले थे जिसपर विनोद की नजर नहीं पड़ी थी। 07 फरवरी, 2019 को पुलिस को एक महिला के शरीर के कुछ टुकड़े मिले। पुलिस ने तुरंत जमोत्री के घरवालों को बुलाकर पहचान करवाने की कोशिश की। लेकिन घरवाले जमोत्री के शव के टुकड़ों को पहचान नहीं पाए। लेकिन जमोत्री के पड़ोस में रहने वाली एक महिला ने जब अधजले कपड़े में लहंगे का नाड़ा देखा तो उन्हें कुछ शक हुआ। दरअसल जमोत्री अक्सर अपने इस पड़ोसी के घर नहाने के लिए जाया करती थी और अपने कपड़े भी वहीं सुखाती थी। इस महिला ने लहंगे के नाड़े के आधार पर जमोत्री की पहचान कर ली।

जल्दी ही पुलिस को इस बात का भी पता चला कि जमोत्री का किसी विनोद नाम के शख्स के साथ अवैध संबंध था। इसके बाद पुलिस के हाथ सीधे जा पहुंचे विनोद के गर्दन तक। पुलिस की थोड़ी ही पूछताछ में विनोद ने सारे राज उगल दिए। अब पुलिस ने उसपर कई धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है और उसे उसके जुर्म की सजा दिलाने में जुटी है। (और…CRIME NEWS)

Next Stories
1 10 साल की मासूम को महीनों तक कैद कर खून पीने को किया मजबूर, बाप बोला – शैतानों के वश में थी
2 वो ‘मम्मी’ जो सुपारी लेकर कराती थी कत्ल, बेटों और पोतों के इस गैंग पर दर्ज हैं 117 मामले
3 12 साल का नाबालिग 10 साल की बच्ची को 4 महीने तक बनाता रहा हवस का शिकार, प्रेग्नेट हुई तब हुआ खुलासा
यह पढ़ा क्या?
X