ताज़ा खबर
 

Gurugram: इराकी नागरिक ने गुस्से में 8वीं मंजिल से फेंककर मार डाले 2 डॉगी, पुलिस पर लापरवाही बरतने का आरोप

पुलिस के मुताबिक, यह घटना सोमवार सुबह करीब 6:30 बजे हुई थी। उम्मीद फॉर एनिमल्स फाउंडेशन के संस्थापक निखिल महेश ने इस संबंध में शिकायत की थी, जिन्हें एक स्थानीय निवासी ने घटना के बारे में बताया था।

Author गुरुग्राम | June 12, 2019 9:04 AM
प्रतीकात्मक तस्वीर।

गुरुग्राम पुलिस ने शहर की पॉश सोसायटी में रहने वाले इराकी नागरिक को गिरफ्तार किया। आरोप है कि उसने सोमवार (10 जून) सुबह 8वीं मंजिल पर स्थित अपने फ्लैट से 2 डॉगी को सड़क पर फेंक दिया, जिससे उनकी मौत हो गई। आरोपी की पहचान सैफ अजहर अब्दुल हसन के रूप में हुई।

गुरुग्राम पुलिस के पीआरओ सुभाष बोकेन के मुताबिक, आरोपी ने दावा किया है कि वह एक डॉक्टर है। वह इराकी मरीजों और अस्पतालों के बीच मध्यस्थ का काम करता है और उन्हें इलाज मुहैया कराता है। वह फिलहाल गुड़गांव की एम्मार एमरल्ड एस्टेट सोसायटी में किराए पर रह रहा था, जहां यह घटना हुई। पुलिस के मुताबिक, सेक्टर-65 थाने में दर्ज शिकायत के मुताबिक, इस घटना में एक और शख्स का नाम सामने आ रहा है। जांच के दौरान अगर उसकी संलिप्तता मिलती है तो उसे भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

National Hindi News, 12 June 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

उम्मीद फॉम एनिमल्स फाउंडेशन के संस्थापक निखिल महेश ने इस मामले में शिकायत दर्ज कराई है। उन्होंने बताया कि सोसायटी में रहने वाले एक शख्स ने उन्हें घटना की जानकारी दी थी। उसने बताया कि सोमवार सुबह करीब 6:30 बजे उसके सामने एक डॉगी 8वीं मंजिल से फेंका गया, जिसने मौके पर ही दम तोड़ दिया। कुछ ही पल बाद दूसरे डॉगी को भी फेंक दिया गया। हमने तुरंत गार्ड्स को बुलाया और ऊपर गए। फ्लैट में मौजूद शख्स ने काफी देर बाद गेट खोला। फ्लैट में 2 लोग मौजूद थे, जिनमें से एक डॉगी को देखने नीचे आया। वहीं, दूसरा युवक ऊपर से ही देखता रहा। दोनों ने ही इस घटना पर काफी ठंडा रेस्पॉन्स दिया।

Bihar News Today, 12 June 2019: बिहार से जुड़ी हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

निखिल महेश ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि दोनों डॉगी करीब 5 महीने के थे। इनमें से एक मेल था और दूसरी फीमेल। स्थानीय लोगों का दावा है कि हसन उन्हें करीब 4 महीने पहले खरीदकर लाया था। वहीं, उसके घर से अक्सर दोनों डॉगी के चिल्लाने की आवाज आती थी। शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया है कि पुलिस ने इस मामले में लापरवाही बरती। पहले तो पुलिसकर्मी केस दर्ज करने के लिए भी तैयार नहीं थे। किसी तरह मंगलवार सुबह 3:48 पर केस दर्ज किया गया।

इस मामले में सेक्टर-65 थाने के प्रभारी से बात करने की कोशिश की गई, लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो सका। हालांकि, पीआरओ बोकेन का कहना है कि एफआईआर दर्ज करने या जांच में किसी भी तरह की देरी नहीं की गई। साथ ही, एक शख्स को तुरंत ही गिरफ्तार भी कर लिया गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X