ताज़ा खबर
 

West Bengal: पुलिस हिरासत में बुजुर्ग की मौत के बाद भड़की हिंसा, लोगों ने फूंक दी पुलिस चौकी, 15 गिरफ्तार

मालदा में एक जुए के अड्डे से पुलिस ने एक बुजुर्ग को गिरफ्तार किया था। पुलिस हिरासत में बुजुर्ग की मौत के बाद इलाके में हिंसा भड़क गई थी जिसमें 15 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

Author मालदा | Updated: October 15, 2019 9:01 AM
पश्चिम बंगाला पुलिस (फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस)

पश्चिम बंगाला के मालदा जिले में एक बुजुर्ग की मौत के बाद भड़की हिंसा में 15 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। बता दें कि प्रदर्शनकारियों ने बुजुर्ग ऐनुल खान की मौत का आरोप पुलिस पर लगाया है। आरोप है कि पुलिस की जायदती की वजह से उनकी मौत हुई है। मामले में पुलिस ने आरोपों को गलत बताया और कहा कि उनकी मौत सही समय पर अस्पताल नहीं लेने के वजह से हुई है। पुलिस ने यह भी कहा कि बुजुर्ग की हालत खराब होने के बाद उन्हें अस्पताल ले जाया जा रहा था तभी प्रदर्शनकारियों ने रास्ता जाम कर दिया जिसके वजह से उनकी मौत हो गई। बुजुर्ग की लाश को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है। वहीं हिंसा में शामिल अन्य लोगों को पुलिस तलाश कर रही है।

क्या है पूरा मामलाः बता दें कि पुलिस ने 55 वर्षीय ऐनुल समेत अन्य सात लोगों को रविवार (13 अक्टूबर) एक जुए के अड्डे से गिरफ्तार किया था जिसके बाद अफवा फैल गई थी की पुलिस कस्टडी में बुजुर्ग की हत्या हो गई है। इसके बाद लोगों ने थाना के सामने विरोध प्रदर्शन किया और जमकर तोड़फोड़ की। पुलिस के अनुसार, बुजुर्ग मालदा के पूरन बाजार के रहने वाले थे। पुलिस ने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने हिंसा के दौरान एक पुलिस चौकी को आग लगा दी और चार पुलिस वालों को घायल भी कर दिया है। बता दें कि बुजुर्ग की मौत के कारणों का सही पता पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के बाद ही चल पाएगा।

National Hindi News, 15 October 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

सही समय पर अस्पताल नहीं पहुंचने पर हुई मौतः मालदा के पुलिस अधीक्षक आलोक राजोरिया के मुताबिक, पुलिस ने बुजुर्ग को गिरफ्तार कर थाने लाई जिसके बाद उनकी हालत खराब होने लगी। इसके बाद उन्हें चेक-अप के लिए भेजा गया। पुलिस ने यह भी बताया कि चेक-अप के बाद उन्हें मालदा मेडिकल कॉलेज रेफर किया गया। इलाज के लिए बुजुर्ग को मेडिकल कॉलेज ले जाते समय लोगों ने पुलिस का रास्ता जाम किया और उन्हें आगे जाने नहीं दिया। पुलिस अधीक्षक का कहना है कि सही समय पर अस्पताल नहीं ले जाने से ऐनुल की मौत हुई है।

विधानसभा चुनाव 2019 Live Updates: उद्धव ठाकरे की रैली के लिए तोड़ दी स्कूल की दीवार, परीक्षा की डेट भी बदल दी

हिंसा के दौरान पुलिस पर भी हमलाः मामले की जानकारी देते हुए आलोक राजोरिया ने कहा कि भीड़ ने पुलिस के खिलाफ जमकर विरोध किया और थाने के सामने नारे बाजी भी की। भीड़ का विरोध प्रदर्शन हिंसा में बदल गया और पुलिस की एक गाड़ी को क्षतिग्रस्त कर दिया। इसके बाद पुलिस वालों के साथ हाथापाई की और चौकी को आग लगा दिया जिसमे कई अहम कागजात भी जल गए। बता दें कि इलाके में रैपिड एक्शन फोर्स की तैनाती की गई है। मामले में पुलिस ने हिंसा के लिए 15 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 सिद्धार्थनगर में फिर बवाल: लड़की का पीछा करने के शक में दलित छात्र को पेड़ से बांधकर पीटा, गंजा भी किया, Video Viral
2 Delhi: 50 हजार रुपए नहीं दे पाया तो आरी से गला काट कर दी दोस्त की हत्या, फिर परिजनों संग करता रहा ढूंढने की एक्टिंग
3 Chinmyanand Case: अप्रैल 2019 से बनने शुरू हुए थे चिन्मयानंद के Video, रुपयों के लालच में ‘डील’ करना चाहते थे 2 नेता